• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • गर्मी में आग की घटनाएं बढ़ीं, पोकरण विधान सभा क्षेत्र में सिर्फ1 ही दमकल
--Advertisement--

गर्मी में आग की घटनाएं बढ़ीं, पोकरण विधान सभा क्षेत्र में सिर्फ1 ही दमकल

भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक) गर्मी शुरू होते ही है उपखंड पोकरण व भणियाणा क्षेत्र में आग की घटनाएं सामने आ रही...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 05:50 AM IST
भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक)

गर्मी शुरू होते ही है उपखंड पोकरण व भणियाणा क्षेत्र में आग की घटनाएं सामने आ रही है। वहीं प्रशासन द्वारा इस तरफ कोई सार्थक कदम नहीं उठाया जा रहा है। जिसके कारण क्षेत्र में आए दिन आग की घटनाएं देखने को मिल रही है। समय पर प्रशासन इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाले दिनों मं लोगों के लिए परेशानी खड़ी हो जाएगी।

उपखंड क्षेत्र सहित पूरे जिले में अभी तक गर्मी ने अपना रूख दिखाना शुरू कर दिया है। लेकिन अभी से ही आग की घटनाएं आए दिन देखने को मिल रही है। पोकरण व भणियाणा उपखंड होने के बावजूद भी मात्र एक दमकल भरोसे है। आग की घटनाएं के बावजूद भी प्रशासन द्वारा अग्निशमन वाहन की अतिरिक्त व्यवस्था नहीं कर पा रहा है। जिसके चलते आग को पाबू पाने के लिए जैसलमेर से दमकल मंगवानी पड़ रही है। ऐसे में पोकरण विधान सभा क्षेत्र में एक दमकल के भरोसे चल रहा है। पोकरण विधान सभा क्षेत्र लंबा चौड़ा होने के कारण समय पर दमकल नहीं पहुंचने के कारण लोगों को आर्थिक नुकसान हो जाता है।

पोकरण विधान सभा क्षेत्र में 57 ग्राम पंचायत व 282 राजस्व

पोकरण विधान सभा क्षेत्र में एक पंचायत समिति सांकड़ा के 44 ग्राम पंचायत व जैसलमेर पंचायत समिति के 13 ग्राम पंचायत पोकरण तहसील के साथ शामिल है तथा पंचायत समिति सांकड़ा के 282 राजस्व गांव होने के बावजूद भी प्रशासन द्वारा अतिरिक्त दमकल की व्यवस्था नहीं कर पा रहा है। तीन दिन पूर्व सीमावर्ती क्षेत्र में आग की घटना घटित हो हुई थी। इस दौरान जैसलमेर व पोकरण दमकल मंगवाई गई थी। लेकिन पोकरण की दमकल बीच रास्ते ही में थम की गई। जिससे आग ने अपना विकराल रूप लेने के कारण लाखों रुपए की पेड़ जलकर खाक हो गए।

क्षेत्र में आए दिन देखने को मिल रही है आग की घटनाएं

पोकरण विधान सभा क्षेत्र में आग को लेकर घटनाएं सामने आ रही है। अभी तक प्रशासन भी आंख मूंद कर बैठा है। क्षेत्र में आए दिन आग की घटनाओं को देखकर ऐसा लग रहा है कि प्रशासन पूरी तरह से लापरवाह है। प्रशासन द्वारा आग की घटनाओं को देखकर अभी तक अग्निशमन वाहन को लेकर कोई सार्थक कदम नहीं उठाया गया है। जिसके कारण क्षेत्र में आग की घटनाओं को काबू पाने के लिए पूर्ण रूप से प्रशासन विफल साबित हो रहा है। यदि प्रशासन इसको लेकर गंभीर नहीं दिखाई दिए तो आने वाले दिनों में हर रोज की घटनाएं सामने आएगी। जिससे लोगों को आग की घटनाओं से आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा। इसके साथ ही ग्रामीणों खुद फायर ब्रिगेड बनकर आग को काबू पाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।