--Advertisement--

देखरेख के अभाव में बस स्टैंड हो रहे जर्जर

भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक) उपखंड क्षेत्र में ग्राम पंचायत एवं पंचायत समिति द्वारा ग्रामीणों की सुविधा के...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:55 AM IST
भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक)

उपखंड क्षेत्र में ग्राम पंचायत एवं पंचायत समिति द्वारा ग्रामीणों की सुविधा के लिए जगह-जगह बस स्टैंड का निर्माण करवाया गया था। लेकिन कई गांवों में रोडवेज बस की सेवा नहीं होने के कारण गांवों में बने बस स्टैंड उपेक्षा का शिकार हो रहे हैं। इन क्षेत्रों में बस नहीं रुकने के कारण ग्रामीणों को दूसरे गांवों में जाकर बस पकड़नी पड़ती है। इन बस स्टैंड के उपयोग में नहीं आने तथा इनकी सार संभाल नहीं करने के कारण यह बस स्टैंड जर्जर होते जा रहे हैं। ग्राम पंचायत एवं पंचायत समिति सांकड़ा द्वारा उपखण्ड क्षेत्र में वर्ष 1997-98 में जवाहर योजना के तहत लाखों रुपए की लागत से क्षेत्रों में बस स्टैंड का निर्माण करवाया गया था। इन बस स्टैंडों पर रोडवेज बस नहीं रुकने के कारण ग्रामीणों को इस बस स्टैंड का लाभ नहीं मिल पा रहा हैं।

क्षेत्र के कई बस स्टैंड बने शराबियों का अड्डा : ग्रामीण क्षेत्रों में बने बस स्टैंड की ग्राम पंचायत द्वारा देखरेख नहीं की जा रही है। वहीं दूसरी ओर रोडवेज बसें भी इन बस स्टैंड पर नहीं रुकती है। जिसके कारण इन भवनों पर ग्रामीणों का आना जाना भी बंद सा हो गया। ऐसे में यहां पर दिनभर शराबियों, जुआरियों का जमावड़ा लगा रहता है। साथ ही यह असामाजिक तत्व भवन में बने दरवाजे तथा खिड़कियों को भी नुकसान पहुंचा चुके हैं। ग्राम पंचायत द्वारा इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

इन क्षेत्र में बस स्टैंड हो रहे हैं जर्जर

उपखंड क्षेत्र में पंचायत समिति द्वारा बनाए गए बस स्टैंड बसों के अभाव में क्षतिग्रस्त होते जा रहे हैं। लेकिन परिवहन विभाग द्वारा यहां पर रोडवेज बस सेवा शुरू नहीं की जा रही है। जिसके कारण यह भवन जर्जर हो रहे हैं। उपखण्ड क्षेत्र के लूणाकला, मोतीसर, नाथूसिंह की ढाणी, मोरानी, कालीमगरी, रामपुरा, चौक, अजासर, आसकन्द्रा, लोहारकी, बरडाना, झलारिया, माडवा, ऊंजला, छायण, डिडाणिया, भैसड़ा, खेवरें की ढाणी, कजोई, स्वामीजी की ढाणी, भीखोड़ाई, दंताला, बड़ली, मावा, मोरडी, के लावा, चौक, नाणिया, थाटे, चाचा, खेतोलाई सहित कई जगहों पर बस स्टैंड क्षतिग्रस्त पड़े हैं।


भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक)

उपखंड क्षेत्र में ग्राम पंचायत एवं पंचायत समिति द्वारा ग्रामीणों की सुविधा के लिए जगह-जगह बस स्टैंड का निर्माण करवाया गया था। लेकिन कई गांवों में रोडवेज बस की सेवा नहीं होने के कारण गांवों में बने बस स्टैंड उपेक्षा का शिकार हो रहे हैं। इन क्षेत्रों में बस नहीं रुकने के कारण ग्रामीणों को दूसरे गांवों में जाकर बस पकड़नी पड़ती है। इन बस स्टैंड के उपयोग में नहीं आने तथा इनकी सार संभाल नहीं करने के कारण यह बस स्टैंड जर्जर होते जा रहे हैं। ग्राम पंचायत एवं पंचायत समिति सांकड़ा द्वारा उपखण्ड क्षेत्र में वर्ष 1997-98 में जवाहर योजना के तहत लाखों रुपए की लागत से क्षेत्रों में बस स्टैंड का निर्माण करवाया गया था। इन बस स्टैंडों पर रोडवेज बस नहीं रुकने के कारण ग्रामीणों को इस बस स्टैंड का लाभ नहीं मिल पा रहा हैं।

क्षेत्र के कई बस स्टैंड बने शराबियों का अड्डा : ग्रामीण क्षेत्रों में बने बस स्टैंड की ग्राम पंचायत द्वारा देखरेख नहीं की जा रही है। वहीं दूसरी ओर रोडवेज बसें भी इन बस स्टैंड पर नहीं रुकती है। जिसके कारण इन भवनों पर ग्रामीणों का आना जाना भी बंद सा हो गया। ऐसे में यहां पर दिनभर शराबियों, जुआरियों का जमावड़ा लगा रहता है। साथ ही यह असामाजिक तत्व भवन में बने दरवाजे तथा खिड़कियों को भी नुकसान पहुंचा चुके हैं। ग्राम पंचायत द्वारा इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।