• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • जीएलआर के पानी के लीकेज होने से तालाब की पाल क्षतिग्रस्त, हरदम हादसे की आशंका
--Advertisement--

जीएलआर के पानी के लीकेज होने से तालाब की पाल क्षतिग्रस्त, हरदम हादसे की आशंका

शहर के सबसे बड़े और प्राचीन तालाब के नाम से पहचान रखने वाले रामदेवसर तालाब पर इन दिनों खतरा मंडरा रहा है। तालाब पर...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:55 AM IST
शहर के सबसे बड़े और प्राचीन तालाब के नाम से पहचान रखने वाले रामदेवसर तालाब पर इन दिनों खतरा मंडरा रहा है। तालाब पर आने वाले यात्रियों, श्रद्धालुओं के साथ साथ स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए जलदाय विभाग द्वारा जीएलआर का निर्माण करवाया गया था। लेकिन जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण रामदेवसर तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंच रहा है। जीएलआर के पानी के लीकेज होने के संबंध में पूर्व में स्थानीय लोगों द्वारा अपने स्तर पर प्रयास किए गए थे। लेकिन फिर भी कोई उपाय नहीं निकल पाया। ऐसे में जीएलआर का पानी तालाब की पाल में लीकेज हो रहा है। जिसके चलते हाल ही में तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंचा है। पाल में लगातार पानी का लीकेज होने के कारण पाल जगह जगह से क्षतिग्रस्त हो गई है इसके साथ ही आमजन को हर समय हादसे का भय लगा रहता है।

क्षतिग्रस्त हो गई है पाल : रामदेवसर तालाब में जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण पाल पूरी तरह से कमजोर हो चुकी है। जिसके कारण रामदेवसर तालाब की पाल एक जगह से पूरी तरह टूट चूकी है। वहीं क्षतिग्रस्त पाल के कारण यहां आने वाले श्रद्धालुओं के साथ साथ यात्रियों में भी भय का माहौल बना हुआ है। इस संबंध में स्थानीय लोगों द्वारा कई बार प्रशासनिक अधिकारियों को सूचित कर इस क्षतिग्रस्त पाल के संबंध में मांग की गई है। लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिसके चलते स्थानीय लोगों तथा श्रद्धालुओं में भय का माहौल बना हुआ है।

भास्कर संवाददाता | पोकरण

शहर के सबसे बड़े और प्राचीन तालाब के नाम से पहचान रखने वाले रामदेवसर तालाब पर इन दिनों खतरा मंडरा रहा है। तालाब पर आने वाले यात्रियों, श्रद्धालुओं के साथ साथ स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए जलदाय विभाग द्वारा जीएलआर का निर्माण करवाया गया था। लेकिन जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण रामदेवसर तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंच रहा है। जीएलआर के पानी के लीकेज होने के संबंध में पूर्व में स्थानीय लोगों द्वारा अपने स्तर पर प्रयास किए गए थे। लेकिन फिर भी कोई उपाय नहीं निकल पाया। ऐसे में जीएलआर का पानी तालाब की पाल में लीकेज हो रहा है। जिसके चलते हाल ही में तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंचा है। पाल में लगातार पानी का लीकेज होने के कारण पाल जगह जगह से क्षतिग्रस्त हो गई है इसके साथ ही आमजन को हर समय हादसे का भय लगा रहता है।

क्षतिग्रस्त हो गई है पाल : रामदेवसर तालाब में जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण पाल पूरी तरह से कमजोर हो चुकी है। जिसके कारण रामदेवसर तालाब की पाल एक जगह से पूरी तरह टूट चूकी है। वहीं क्षतिग्रस्त पाल के कारण यहां आने वाले श्रद्धालुओं के साथ साथ यात्रियों में भी भय का माहौल बना हुआ है। इस संबंध में स्थानीय लोगों द्वारा कई बार प्रशासनिक अधिकारियों को सूचित कर इस क्षतिग्रस्त पाल के संबंध में मांग की गई है। लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिसके चलते स्थानीय लोगों तथा श्रद्धालुओं में भय का माहौल बना हुआ है।