Hindi News »Rajasthan »Pokran» जीएलआर के पानी के लीकेज होने से तालाब की पाल क्षतिग्रस्त, हरदम हादसे की आशंका

जीएलआर के पानी के लीकेज होने से तालाब की पाल क्षतिग्रस्त, हरदम हादसे की आशंका

शहर के सबसे बड़े और प्राचीन तालाब के नाम से पहचान रखने वाले रामदेवसर तालाब पर इन दिनों खतरा मंडरा रहा है। तालाब पर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 05:55 AM IST

जीएलआर के पानी के लीकेज होने से तालाब की पाल क्षतिग्रस्त, हरदम हादसे की आशंका
शहर के सबसे बड़े और प्राचीन तालाब के नाम से पहचान रखने वाले रामदेवसर तालाब पर इन दिनों खतरा मंडरा रहा है। तालाब पर आने वाले यात्रियों, श्रद्धालुओं के साथ साथ स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए जलदाय विभाग द्वारा जीएलआर का निर्माण करवाया गया था। लेकिन जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण रामदेवसर तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंच रहा है। जीएलआर के पानी के लीकेज होने के संबंध में पूर्व में स्थानीय लोगों द्वारा अपने स्तर पर प्रयास किए गए थे। लेकिन फिर भी कोई उपाय नहीं निकल पाया। ऐसे में जीएलआर का पानी तालाब की पाल में लीकेज हो रहा है। जिसके चलते हाल ही में तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंचा है। पाल में लगातार पानी का लीकेज होने के कारण पाल जगह जगह से क्षतिग्रस्त हो गई है इसके साथ ही आमजन को हर समय हादसे का भय लगा रहता है।

क्षतिग्रस्त हो गई है पाल : रामदेवसर तालाब में जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण पाल पूरी तरह से कमजोर हो चुकी है। जिसके कारण रामदेवसर तालाब की पाल एक जगह से पूरी तरह टूट चूकी है। वहीं क्षतिग्रस्त पाल के कारण यहां आने वाले श्रद्धालुओं के साथ साथ यात्रियों में भी भय का माहौल बना हुआ है। इस संबंध में स्थानीय लोगों द्वारा कई बार प्रशासनिक अधिकारियों को सूचित कर इस क्षतिग्रस्त पाल के संबंध में मांग की गई है। लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिसके चलते स्थानीय लोगों तथा श्रद्धालुओं में भय का माहौल बना हुआ है।

भास्कर संवाददाता | पोकरण

शहर के सबसे बड़े और प्राचीन तालाब के नाम से पहचान रखने वाले रामदेवसर तालाब पर इन दिनों खतरा मंडरा रहा है। तालाब पर आने वाले यात्रियों, श्रद्धालुओं के साथ साथ स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए जलदाय विभाग द्वारा जीएलआर का निर्माण करवाया गया था। लेकिन जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण रामदेवसर तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंच रहा है। जीएलआर के पानी के लीकेज होने के संबंध में पूर्व में स्थानीय लोगों द्वारा अपने स्तर पर प्रयास किए गए थे। लेकिन फिर भी कोई उपाय नहीं निकल पाया। ऐसे में जीएलआर का पानी तालाब की पाल में लीकेज हो रहा है। जिसके चलते हाल ही में तालाब की पाल को काफी नुकसान पहुंचा है। पाल में लगातार पानी का लीकेज होने के कारण पाल जगह जगह से क्षतिग्रस्त हो गई है इसके साथ ही आमजन को हर समय हादसे का भय लगा रहता है।

क्षतिग्रस्त हो गई है पाल : रामदेवसर तालाब में जीएलआर के पानी का लीकेज होने के कारण पाल पूरी तरह से कमजोर हो चुकी है। जिसके कारण रामदेवसर तालाब की पाल एक जगह से पूरी तरह टूट चूकी है। वहीं क्षतिग्रस्त पाल के कारण यहां आने वाले श्रद्धालुओं के साथ साथ यात्रियों में भी भय का माहौल बना हुआ है। इस संबंध में स्थानीय लोगों द्वारा कई बार प्रशासनिक अधिकारियों को सूचित कर इस क्षतिग्रस्त पाल के संबंध में मांग की गई है। लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिसके चलते स्थानीय लोगों तथा श्रद्धालुओं में भय का माहौल बना हुआ है।

तालाब पर हाल ही में खुदाई का कार्य चल रहा है। ऐसे में प्रशासन को इसका लाभ लेते हुए तालाब की पाल का नए सिरे से निर्माण करवाना चाहिए। साथ ही जीएलआर के हो रहे लीकेज को भी गंभीरता से लेते हुए उसकी मरम्मत करवानी चाहिए। नारायणदास रंगा, पार्षद, नगरपालिका पोकरण

तालाब में बनी जीएलआर में पानी का लीकेज होने के कारण तालाब की पाल को नुकसान पहुंच रहा है। ऐसे में जल्द से जल्द इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए तालाब और जीएलआर दोनों को सुचारू करवाया जाए। गौरीशंकर जोशी, समाजसेवी, पोकरण

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pokran News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: जीएलआर के पानी के लीकेज होने से तालाब की पाल क्षतिग्रस्त, हरदम हादसे की आशंका
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Pokran

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×