--Advertisement--

मां ही बालक की प्रथम गुरु व शक्ति है : रतनू

पोकरण (आंचलिक) | विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान व आदर्श शिक्षण संस्थान जैसलमेर द्वारा संचालित स्थानीय...

Danik Bhaskar | Feb 01, 2018, 02:45 PM IST
पोकरण (आंचलिक) | विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान व आदर्श शिक्षण संस्थान जैसलमेर द्वारा संचालित स्थानीय आदर्श विद्या मंदिर बुधवार को मातृ सम्मेलन व मातृ पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों द्वारा अपनी-अपनी माताओं का विधिवत रूप से पूजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रामकंवर उपस्थित थी। विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ. सरोज अरोड़ा व अध्यक्षता बालिका विद्यालय की संयोजिका राजकुमारी शर्मा चंद्रकांता ने की। कार्यक्रम में पहले मां सरस्वती की तस्वीर पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

पूर्व छात्राओं ए इंद्रा प्रियदर्शी गार्गी से पुरस्कृत व जिसका उपेक्षित जनशिक्षा निधि राशि लाने में विशेष योगदान रहा है उनको सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता भगवत दान रतनू ने कहा कि मां ही बालक की प्रथम गुरू और वह शक्ति है जो अपनी संतान को वीर पुरुष व महात्मा बना शक्ति है। उन्होंने कहा कि मां का कर्तव्य बनता है कि अपनी संतान को संमार्ग की ओर ले जाए और एक महान वैक्तित्व प्रदान करे। उन्होंने कहा कि बालक को तोता ना बनाकर के व्यवहारिक रूप में शिक्षा प्रदान करना आवश्यक है। रतनू ने कहा कि आज की जो बुरी शक्तियां जो टेलीविजन व मोबाइल फोन के रूप में अपने घर जगह बनाए बैठी है उससे भी बच्चों को बचाए रखने का आह्वान किया। उन्होंने बालक व बालिकाओं को माता- पिता को नित्य प्रणाम व स्वास्थ्य भोजन मंत्र स्मरण व ईश वंदना करने का आह्वान किया।

पोकरण (आंचलिक) मातृ सम्मेलन में माताओं का पूजन करते बालिकाएं