• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में चार वर्ष से एएनएम पद रिक्त, विभाग मौन
--Advertisement--

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में चार वर्ष से एएनएम पद रिक्त, विभाग मौन

भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक) उपखंड क्षेत्र पोकरण के सांकड़ा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कई...

Danik Bhaskar | May 07, 2018, 02:05 AM IST
भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक)

उपखंड क्षेत्र पोकरण के सांकड़ा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कई वर्षों से रिक्त पड़े एएनएम पद को लेकर ग्रामीणों द्वारा मांग करने के बावजूद भी इस सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में एएनएम का पद नहीं भरा जा रहा है। वहीं दूसरी ओर चिकित्सा विभाग द्वारा ग्रामीणों चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए कई योजनाएं संचालित की जा रही है। एएनएम के पद रिक्त को लेकर ग्रामीणों द्वारा चिकित्सा प्रशासन के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों को भी लिखित में सूचित करने के बाद भी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पद नहीं भर रहा है। जिसके कारण ग्रामीणों में चिकित्सा प्रशासन व जनप्रतिनिधियों के प्रति दिनों दिन रोष बढ़ता जा रहा है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों की लापरवाही खुलकर सामने आ रही है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कई वर्षों से रिक्त पड़े एएनएम पद को लेकर अभी तक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिसके चलते चिकित्सालय में आने वाले मरीजों को हर समय परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सांकड़ा के आस-पास क्षेत्र में गांव व ढाणियों में रहवास करने वाले लोगों को एएनएम के अभाव में कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गांव व ढाणियों में एएनएम नहीं आने के कारण छोटी मोटी बीमारी के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पोकरण आना पड़ रहा है। ऐसे में गांव व ढाणियों में न तो टीकाकरण किया जा रहा है न ही किसी प्रकार की छोटी मोटी बीमारी का इलाज।

चिकित्सा प्रशासन व जनप्रतिनिधि बने मूक दर्शक

सांकड़ा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कई वर्षों से रिक्त पड़े एएनएम पद को लेकर अभी तक तो न तो चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, स्थानीय प्रशासन तथा जनप्रतिनिधि भी इस तरफ मूक दर्शक बने हुए है। इतने बड़े चिकित्सालय में एएनएम की नियुक्ति नहीं होनी एक और बड़ी बात है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में एएनएम नियुक्ति नहीं होने के कारण चिकित्सालय में आने वाले महिला मरीजों को भी परेशानी हो रही है।