Hindi News »Rajasthan »Pokran» क्लीनिक पर ही हो गई थी मरीज गिरधर की मौत, शव के साथ थाने पर प्रदर्शन

क्लीनिक पर ही हो गई थी मरीज गिरधर की मौत, शव के साथ थाने पर प्रदर्शन

भास्कर संवाददाता | पोकरण /फलसूंड भीखोड़ाई में शनिवार को सुबह 11 बजे झोलाछाप चिकित्सक ने एक मरीज की जान ले ली। इतना...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 24, 2018, 04:05 AM IST

क्लीनिक पर ही हो गई थी मरीज गिरधर की मौत, 
शव के साथ थाने पर प्रदर्शन
भास्कर संवाददाता | पोकरण /फलसूंड

भीखोड़ाई में शनिवार को सुबह 11 बजे झोलाछाप चिकित्सक ने एक मरीज की जान ले ली। इतना ही नहीं अपने को फंसता देख उसने साथ आई प|ी से कहा कि मरीज की हालत गंभीर है इसलिए उसे फलसूंड रेफर कर रहा हूं। परिजन मरीज को लेकर फलसूंड पहुंचे तो वहां चिकित्सकों ने बताया कि इसकी मौत काफी देर पहले हो चुकी है। घटना के बाद झोलाछाप डाक्टर फरार हो गया, जिस पुलिस ने छह घंटे बाद गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के अनुसार झलोड़ा गांव निवासी गिरधरसिंह (35) पुत्र चंदनसिंह की तबियत खराब होने पर परिजन उसे श्रीकरणी मेडिकल क्लीनिक पर लेकर गए। इसे एक झोलाछाप डाक्टर अरविंददान चारण चलाता है। अरविंद ने मरीज गिरधर को देखने के बाद एक इंजेक्शन लगाया। इसके थोड़ी देर बाद ही गिरधर की मौत हो गई। अपने को फंसता देख अरविंददान चारण ने मरीज गिरधर की प|ी और अन्य लोगों से झूठ बोल उसे फलसूंड रेफर कर दिया। परिजन गिरधर को लेकर भीखोड़ाई से फलसूंड अस्पताल पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने काफी समय पहले व्यक्ति की मौत होने की बात कही। मामले की जानकारी लेने के लिए मृतक के परिजन भीखोड़ाेई में झोलाछाप चिकित्सक के क्लीनिक पहुंचे, उससे पहले ही अरविंददान चारण मौके से फरार हो गया। लगभग छह घंटों की मशक्कत के बाद पुलिस ने इस झोलाछाप चिकित्सक अरविंददान चारण को गिरफ्तार कर लिया।

झोलाछाप डॉक्टर ने लगाया इंजेक्शन, युवक की मौत, बचाव में शव को ही कर दिया रेफर, छह घंटे बाद आरोपी गिरफ्तार

ग्रामीण इलाकों में चल रही हैं झोलाछाप डाक्टरों की दुकानें

पुलिस ने किया गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज

झलोड़ा निवासी गिरधरसिंह मौत के बाद फरार हुए झोलाछाप चिकित्सक अरविंददान चारण की गिरफ्तारी को लेकर ग्रामीण पुलिस थाना फलसूंड पहुंचे। उन्होंने पुलिस थानाधिकारी जसवंतसिंह राजपुरोहित से आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की। वहीं पूरे मामले पर 302 और 304 धारा लगाने की मांग की। इसके साथ ही आरोपी को गिरफ्तार नहीं करने तक शव को नहीं उठाने की बात कही। इस पर पुलिस ने नाकाबंदी कर फरार अरविंददान चारण को छह घंटे की मशक्कत के बाद गिरफ्तार किया। वहीं मामले को धारा 304 ए आईपीसी के तहत दर्जकर जांच शुरू की। इस दौरान रिटायर्ड थानाधिकारी नरपतसिंह भाटी, डॉ. राजूसिंह भाटी, देवीसिंह, वकील धनसिंह जोधा, सांगसिंह गड़ी, गुलाबसिंह, उम्मेदसिंह, लालसिंह सहित कई लोग उपस्थित थे।

फार्मेसिस्ट भी नही, चला रहा है दवाखाना

श्रीकरणी मेडिकल क्लीनिक का झोलाछाप चिकित्सक अरविंददान चारण के पास किसी तरह की कोई फार्मेसी का लाइसेंस नहीं है। उसके बाद भी ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को धोखा देकर इन ग्रामीणों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। लोगों के स्वास्थ्य के साथ किए जा रहे खिलवाड़ के बाद भी चिकित्सा विभाग द्वारा इन झोलाछाप चिकित्सकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pokran

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×