• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pokran
  • पांच वर्ष पूर्व 570 रिहायशी भूखंडों के लिए 28 हजार फाॅर्म जमा, अभी तक फाॅर्मों की छंटनी भी पूरी नहीं
--Advertisement--

पांच वर्ष पूर्व 570 रिहायशी भूखंडों के लिए 28 हजार फाॅर्म जमा, अभी तक फाॅर्मों की छंटनी भी पूरी नहीं

नगरपालिका प्रशासन द्वारा लगभग पांच वर्ष पूर्व शहरवासियों को अपने घर का सपना दिखाते हुए तीन कॉलोनियों के कुल 570...

Dainik Bhaskar

Jun 27, 2018, 05:35 AM IST
पांच वर्ष पूर्व 570 रिहायशी भूखंडों के लिए 28 हजार फाॅर्म जमा, अभी तक फाॅर्मों की छंटनी भी पूरी नहीं
नगरपालिका प्रशासन द्वारा लगभग पांच वर्ष पूर्व शहरवासियों को अपने घर का सपना दिखाते हुए तीन कॉलोनियों के कुल 570 भूखंडों के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए थे। जिसके चलते शहरवासियों के साथ साथ बाहरी जिलों से भी कुल 28 हजार फार्म जमा करवाए गए। इसमें सर्वाधिक फार्म रामदेव कॉलोनी के लिए करवाए गए थे। इन कॉलोनियों के आवंटन को लेकर आमजन द्वारा कई बार मांग उठाई तो पालिका प्रशासन द्वारा भी कई बार तारीखें घोषित कर आवंटन प्रक्रिया को शुरू करने का आश्वासन दिया, लेकिन न तो इन तारीखों को आवंटन की प्रक्रिया हो पाई और न ही लोगों को पालिका की इस आवास योजना का कोई फायदा मिल पाया। वहीं हाल ही में पालिका ने बोर्ड की बैठक के दौरान पालिका की तीनों प्रस्तावित आवासीय कॉलोनियों के भूखंडों के आवंटन को लेकर घोषणा की है। ऐसे में शहरवासियों द्वारा फिर से आवंटन को लेकर तरह तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।

पालिका ने अब की 30 जून की घोषणा

पालिका की प्रस्तावित आवासीय योजना लम्बे समय से मात्र फाइलों में ही बंद है। पालिका प्रशासन बार बार भूखंड आवंटन को लेकर नई-नई तारीखों की घोषणा कर रहा है। वहीं दूसरी ओर कॉलोनियों के भूखंड के आवंटन की प्रक्रिया मंथर गति से चल रही है। इस कारण पालिका द्वारा घोषित तारीखें लगातार गुजरती ही जा रही है और आवंटन प्रक्रिया ठंडे बस्ते में पड़ी है। हाल ही में पालिका बोर्ड की बैठक के दौरान बोर्ड के सभी सदस्यों ने 30 जून को इन प्रस्तावित आवासीय योजनाओं के निस्तारण करना तय किया है, लेकिन हाल ही में नगरपालिका में चल रही तैयारियों को देखते हुए यह तारीख भी निकलती हुई दिखाई दे रही है।

28 हजार फार्मों में से हो रही है छंटनी | नगरपालिका प्रशासन अपनी प्रस्तावित कॉलोनियों के आवंटन को लेकर ज्यादा गंभीर नहीं दिखाई दे रहा है। अधिकारियों की इसी लापरवाही के चलते पिछले पांच वर्षों से फार्मों की छंटनी ही हो रही है। न तो उन फार्मों को अलग किया गया है और न ही इन फार्मों की जांच की गई है। इसके चलते आवंटन प्रक्रिया में भी काफी सवालिया निशान लग रहे हैं। भूखंड आवंटन को लेकर जहां आमजन में उम्मीद जगी हुई है वहीं पालिका प्रशासन इन दिनों आमजन की उम्मीद पर खरा उतरता हुआ दिखाई नहीं दे रहा है।

अतिक्रमणकारियों की नजर में है आवासीय कॉलोनी की जमीन | एक ओर पालिका प्रशासन अपनी प्रस्तावित आवासीय कॉलोनियों के भूखंड आवंटन को लेकर कछुआ चाल चल रहा है, वहीं दूसरी ओर सरकारी जमीन पर आंखें लगाए अतिक्रमणकारी इन दिनों पालिका की प्रस्तावित कॉलोनियों पर अतिक्रमण करने में जुटे हुए हैं। पालिका की जमीन पर हो रहे अतिक्रमण को हटाने में पालिका प्रशासन नाकाम है। इससे आमजन आशंकित है कि उन्हें भूखंड मिलेंगे भी या नहीं।

X
पांच वर्ष पूर्व 570 रिहायशी भूखंडों के लिए 28 हजार फाॅर्म जमा, अभी तक फाॅर्मों की छंटनी भी पूरी नहीं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..