• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • बीलिया फिल्टर प्लांट का गंदा पानी सालमसागर तालाब पहुंचा, चादर चली
--Advertisement--

बीलिया फिल्टर प्लांट का गंदा पानी सालमसागर तालाब पहुंचा, चादर चली

शहर में सोमवार की सुबह सालमसागर तालाब में बारिश के दौरान अत्यधिक पानी के साथ ही चलने वाली चादर बिन मौसम चली। वहीं...

Danik Bhaskar | May 15, 2018, 05:45 AM IST
शहर में सोमवार की सुबह सालमसागर तालाब में बारिश के दौरान अत्यधिक पानी के साथ ही चलने वाली चादर बिन मौसम चली। वहीं बिन मौसम चलने वाली इस चादर को देखने के लिए कई लोग एकत्रित हुए। इसके साथ ही सालमसागर तालाब में काफी मात्रा में पानी की आवक हुई। कारण यह कि शनिवार की रात्रि को नहर का क्लोजर खुलने के साथ ही बीलिया फिल्टर प्लांट में हुई गंदे पानी की आवक को प्लांट के अधिकारियों ने बीलिया बरसाती नदी में छोड़ दिया। बीलिया बरसाती नदी में पानी की आवक के साथ ही सारा पानी सालमसागर तालाब में आ गया। जिसके चलते जहां बरसाती नदी पानी से लबालब हो गई वहीं दूसरी ओर तालाब और बीलिया बरसाती नदी के बीच बने पुल के ऊपर से होकर बरसाती नदी का पानी तालाब में आने लगा। बीलिया फिल्टर प्लांट के अधिकारियों ने गंदे पानी की सप्लाई को बरसाती नदी में छोड़ने के साथ ही सारा गंदा और बदबूदार पानी तालाब में जमा हो गया। ऐसे में जहां पूर्व में तालाब में साफ पानी था वह भी इस पानी के मिलने के साथ ही बदबू मारने लगा। वहीं तालाब में काफी मात्रा में गंदा व बदबूदार पानी आने के कारण तालाब के आस-पास के लोगों को परेशानी उठानी पड़ी।

शहर में कई स्थानों पर एक सप्ताह से पेयजल सप्लाई बाधित

बीलिया फिल्टर प्लांट से शहर की पेयजल सप्लाई दो दिनों से बाधित होने के कारण जहां एक ओर पेयजल सप्लाई पूरी तरह से लड़खड़ा गई है। वहीं शहर के भीतरी भागों में कई स्थानों पर पेयजल संकट गहराने लगा है। शहर में कई स्थानों पर चार दिनों से पीने के पानी की सप्लाई हो रही है। वहीं दो दिनों तक हैडवर्क्स में पानी की सप्लाई नहीं होने के कारण कई मोहल्लों में पेयजल संकट गहराने लगा है। जिसके कारण स्थानीय लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।


निजी टैंकर धारक ले रहे हैं मनमाना किराया

शहर में पेयजल संकट गहराने के साथ ही क्षेत्र में चलने वाले निजी पेयजल सप्लाई के टैंकर भी इन दिनों मनमाना किराया वसूल रहे हैं। जिसके कारण शहरवासियों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। वहीं दूसरी ओर पेयजल संकट से परेशान शहरवासियों को मजबूरन महंगे दामों में पानी की सप्लाई करनी पड़ रही है। इस संबंध में स्थानीय लोगों द्वारा कई बार विभागीय अधिकारियों को सूचित किया गया है। लेकिन अभी तक इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।