• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • पुरोहितसर गांव में पानी भरने को लेकर महिलाओं में फिर हुआ विवाद
--Advertisement--

पुरोहितसर गांव में पानी भरने को लेकर महिलाओं में फिर हुआ विवाद

पोकरण (आंचलिक) | उपखंड पोकरण व भणियाणा क्षेत्र में पेयजल को लेकर समस्या बनी हुई है। पेयजल समस्या को लेकिन अभी तक...

Danik Bhaskar | May 15, 2018, 05:45 AM IST
पोकरण (आंचलिक) | उपखंड पोकरण व भणियाणा क्षेत्र में पेयजल को लेकर समस्या बनी हुई है। पेयजल समस्या को लेकिन अभी तक जलदाय विभाग के अधिकारी गंभीर नजर नहीं आ रहे है। ऐसे में कई जगहों पर चार-पांच दिनों से पानी का टैंकर पहुंचता है तो वहां पर विवाद शुरू हो जाता है। जिससे कभी भी पानी को लेकर बड़ा हादसा हो सकता है। क्षेत्र में पानी को लेकर अभी तक जलदाय विभाग पूर्ण रूप से सतर्क नहीं है। जिसके कारण कई ग्रामीण इलाकों में पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची हुई है। उपखंड पोकरण क्षेत्र के ग्राम पंचायत डिडाणिया के पुरोहितसर गांव में लंबे समय से चल रही है पानी की समस्या को लेकर ग्रामीण परेशान है। वहीं जलदाय विभाग द्वारा पिछले चार दिनों से पानी का टैंकर सोमवार को पहुंचा तो गांव की महिलाओं द्वारा पानी भरने को लेकर महिलाओं के बीच विवाद शुरू हो गया। वहीं महिलाओं के बीच इतना विवाद बढ़ गया कि महिलाएं आपस में मरने व मारने के लिए उतारू हो गए। जलदाय विभाग द्वारा पुरोहितसर समय पर पानी की सप्लाई नहीं देने के कारण पानी को लेकर आए दिन विवाद शुरू हो जाता है। जिससे कभी भी बड़ा हादसे को इनकार नहीं किया जा सकता है। सोमवार को पुरोहितसर गांव में जलदाय विभाग द्वारा पानी टैंकर पहुंचते ही महिलाओं द्वारा अपने घरो से घड़े लेकर रवाना पानी के टैंकर पास पहुंची तो पानी को लेकर महिलाओं में आपस में विवाद शुरू हो गया जो पानी का टैंकर खत्म होने के बाद विवाद थमा। ग्राम पंचायत डिडाणिया के पुरोहितसर गांव में कई वर्षों से पानी की समस्या बनी हुई। पुरोहितसर गांव में पानी उपलब्ध करवाने लिए जलदाय विभाग द्वारा लाखों रुपए खर्च करने के बाद भी पुरोहितसर ग्रामीणों को पानी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जलदाय विभाग द्वारा विधायक मद व जलदाय विभाग के मद से बिछाई गई पाइन लाइन से भी पुरोहितसर में पानी पहुंच पा रहा है। जिससे ग्रामीणों को इस भीषण गर्मी में महंगे दामों में पानी का टैंकर मंगवाकर प्यास बुझानी पड़ रही है। अभी तक पानी को लेकर जलदाय विभाग के अधिकारी व कर्मचारी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिसके कारण ग्रामीणों में जलदाय विभाग के प्रति दिनों दिन रोष बढ़ता जा रहा है।