• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pokran
  • युवाओं में धार्मिक आस्था कम,अब राम-राम बोलने में आती है शर्म : संत
--Advertisement--

युवाओं में धार्मिक आस्था कम,अब राम-राम बोलने में आती है शर्म : संत

भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक) शहर के जटाबास में चल रही है नानी बाई मायरों की कथा के 21वें दिन श्रद्धालुओं का...

Dainik Bhaskar

Jun 03, 2018, 05:45 AM IST
युवाओं में धार्मिक आस्था कम,अब राम-राम बोलने में आती है शर्म : संत
भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक)

शहर के जटाबास में चल रही है नानी बाई मायरों की कथा के 21वें दिन श्रद्धालुओं का हुजूम देखने को मिला। कथा चलने के कारण शहर सहित आस-पास क्षेत्र का वातावरण धार्मिक मय बना गया है। जहां पर भी जहॉं कथा की चर्चाएं देखने को मिल रही है। कथा चलने से आस-पास क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों के भी श्रद्धालुओं ने कथा में भाग लिया। आयोजकों द्वारा कथा में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बैठने के लिए भी उत्तम व्यवस्था की की गई है। कथा में प्रवचन देते कथा वाचक माणकराम महाराज ने कहा कि जब तक तार नहीं मिलता तब-तक अवतार नहीं होता। आज लोग एक दूसरे की प्रगति को देखकर जलते हैं। उन्होंने कहा कि संसार में अच्छे सींग वाली गाय, अच्छे कान वाली घोड़ी और घूंघट वाली महिलाएं कम ही दिखाई देती हैं। उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों को भोजन करवाने के बाद आदरपूर्वक दक्षिणा देकर विदा करना चाहिए। बहन-भानेज व बुआ का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि संसार में श्रीराम ने जो कार्य किया हैं उसका अनुसरण करना चाहिए। महाराज ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने जो किया है उसे न करते हुए जो कहा है, उसे करना चाहिए। उनके द्वारा कही गई बातों को अमल में लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि छल-कपट छोड़ कर निर्मल मन से भगवान की भक्ति करना चाहिए। आज का युवा भगवान से विमुख होता जा रहा हैं। उन्होंने कहा कि उसे राम-राम बोलने में भी शर्म आती हैं। कथा के समापन के बाद श्रद्धालुओं द्वारा मंगल गीत का गाकर संत महात्माओं का स्वागत किया गया। इस अवसर पर संत माणकराम, गोपालदास, शिवराम सहित कई संत महात्माओं का मंगल गीत के साथ स्वागत किया गया। इस अवसर पर जसोदादेवी, छीयादेवी, अखुदेवी, लीलादेवी, बालादेवी, रेखा, माया, आरती, संजू, पूजा, आरती, मीमोदेवी, मीरादेवी, पप्पूलाल ठेकेदार, जेठाराम, प्रेमचंद गहलोत सहित कई श्रद्धालुओं ने संत महात्माओं का स्वागत कर आशीर्वाद प्राप्त किया।

X
युवाओं में धार्मिक आस्था कम,अब राम-राम बोलने में आती है शर्म : संत
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..