• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • हर व्यक्ति को धैर्य और विश्वास रखना चाहिए : माणकराम
--Advertisement--

हर व्यक्ति को धैर्य और विश्वास रखना चाहिए : माणकराम

भास्कर संवाददाता| पोकरण (आंचलिक) शहर के जटाबास में चल रही है अधिक मास की कथा के 18वें दिन श्रद्धालुओं की भीड़ देखने...

Danik Bhaskar | May 31, 2018, 05:50 AM IST
भास्कर संवाददाता| पोकरण (आंचलिक)

शहर के जटाबास में चल रही है अधिक मास की कथा के 18वें दिन श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को मिली। कथा चलने के कारण शहर सहित आस-पास क्षेत्र का वातावरण धार्मिक मय हो गया। कथा सुनने के लिए शहर सहित आस-पास क्षेत्र के श्रद्धालु भी पहुंच रहे है। कथा के शुभारंभ से पहले श्रद्धालुओं ने संत माणकराम, गोपालदास, शिवराम सहित कई संत महात्माओं की े पूजा अर्चना की गई। पूजा अर्चना के बाद श्रद्धालुओं ने संत महात्माओं से आशीर्वाद लेकर पुण्य लाभ प्राप्त किया।कथा में प्रवचन देते कथा वाचक रामस्नेही संत माणकराम ने नरसी की जन्म कथा एवं कृष्ण भक्ति के प्रसंग पर पूर्ण वर्णन किया। महाराज ने नानी बाई मायरे के 16वें अध्याय का अध्ययन किया गया। संत ने कहा कि नरसी मेहता की भक्ति से प्रसंन्न होकर स्वयं भगवान कृष्ण को नरसी की बेटी नानी बाई का मायरा भरने के लिए आना पड़ा। महाराज ने कहा कि व्यक्ति में विश्वास एवं धैर्य होना चाहिए। उन्होंने कहा कि संकट में चिंता करने से समस्या का हल नहीं होता है बल्कि उसका डटकर मुकाबला करने से समाधान होता है। महाराज ने सुखी जीवन जीने का रहस्य बताया। उन्होंने कहा कि भगवान भजन करने वाले भक्त वश में रहते है। श्रद्धालुओं ने लगाई परिक्रमा कथा संपन्न होने के बाद दर्जनों महिलाओं ने पूर्णिमा के अवसर पर धार्मिक स्थलों पर परिक्रमा का कार्यक्रम रखा गया। कथा संपन्न होने बाद दर्जनों महिलाओं ने धार्मिक स्थलों पर जाकर परिक्रमा लगाई तथा अपनी मनोकामनाएं पूर्ण की। श्रद्धालुओं ने पूर्णिमा के दिन हनुमान मंदिर, सांई बाबा मंदिर, खींवज माता मंदिर, कालका मंदिर, आशापूर्णा मंदिर, सतियों का देवल, कैलाश टेकरी पहुंचकर श्रद्धालुओं ने परिक्रमा लगाई। जय भोमियाजी सेवा संस्थान के व्यवस्था पप्पूलाल सोलंकी ने बताया कि माली समाज जटाबास में चल रही कथा संपन्न के बाद परिक्रमा का कार्यक्रम रखा गया।