Hindi News »Rajasthan »Pokran» सैन्य स्क्रैप ठेकेदार पर छापा, 400 गोले जिंदा मिले, सेना का दावा- सब डिफ्यूज

सैन्य स्क्रैप ठेकेदार पर छापा, 400 गोले जिंदा मिले, सेना का दावा- सब डिफ्यूज

भास्कर न्यूज | जैसलमेर/पोकरण/जोधपुर सेना का स्क्रैप खरीदने वाले ठेकेदार के गोदाम पर छापा मारकर मिलिट्री...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 06, 2018, 05:50 AM IST

सैन्य स्क्रैप ठेकेदार पर छापा, 400 गोले जिंदा मिले, सेना का दावा- सब डिफ्यूज
भास्कर न्यूज | जैसलमेर/पोकरण/जोधपुर

सेना का स्क्रैप खरीदने वाले ठेकेदार के गोदाम पर छापा मारकर मिलिट्री इंटेलीजेंस (एमआई) ने भारी मात्रा में तोप व टैंक के गोले बरामद किए हैं। इनमें बोफोर्स व टी-92 टैंक के 400 से ज्यादा गोले हैं। बताया जा रहा है कि ये गोले अवधि पार होने के साथ ही जिंदा हैं। गोला-बारूद को फायरिंग रेंज में नष्ट किए बिना ही ठेकेदार को सौंप दिया गया। हालांकि, सेना ने इनके जिंदा होने से इनकार किया है, यानी सभी गोले डिफ्यूज थे। जिस ठेकेदार के गोदाम पर कार्रवाई की गई, वह जैसलमेर जिले में स्थित पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज से सेना का स्क्रैप खरीदता है। धोलिया व खेतोलाई गांव के पास स्थित गोदाम में मंगलवार दोपहर इन्हें जलाने की कार्रवाई चल ही रही थी कि मिलिट्री इंटेलीजेंस पहुंच गई। एमआई ने ठेकेदार को पकड़ लिया और 400 विस्फोटक बरामद कर लिए। आर्मी इंटेलिजेंस को गत 15 मई को मिली सूचना मिली थी कि पोकरण फायरिंग रेंज में नष्ट किए बिना ही सीधे ठेकेदार के हाथों में स्क्रैप पहुंच रहा है। इस पर एमआई की टीम मामले की पड़ताल में जुट गई थी। पेज |11 भी पढ़ें

गनीमत रही कि जलाने से पहले ही एमआई पहुंच गई, नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता था

जोधपुर से ट्रकों में भेजा था गोला बारूद

जोधपुर स्थित 19 एफओडी से ट्रकों में अवधि पार स्क्रैप नष्ट करने के लिए फील्ड फायरिंग रेंज भेजा गया। वहां सेना की ओर से बोफोर्स व टी 92 टैंक के गोला बारूद को सुनसान इलाके में एक निश्चित प्रक्रिया के तहत इसे नष्ट करना था। इसके बाद ही ठेकेदार कबाड़ एकत्रित कर सकता था। लेकिन इस प्रक्रिया को अपनाए बिना ही जिंदा गोला-बारूद सीधे ही ठेकेदार को सौंप दिया गया। गोदाम में ही गड्‌ढा खोदकर मंगलवार को इन्हें जलाया जा रहा था। गनीमत रही कि ठेकेदार ने बमों से स्क्रेप निकालने का प्रयास नहीं किया, अन्यथा एक बम में विस्फोट होते ही सभी बमों में धमाके होने से पूरा क्षेत्र तबाह हो सकता था।

1600 विस्फोटक की तलाश

बताया जा रहा है कि ठेकेदार को जोधपुर स्थित सेना की 19 फील्ड एम्युनेशन डिपो (एफओडी) की ओर से ये गोला-बारूद सौंपा गया। मिलिट्री इंटेलीजेंस ने मौके से 400 विस्फोटक बरामद किए, जबकि बचे हुए 1600 विस्फोटक की सेना अभी भी तलाश कर रही है।

सेना मुख्यालय प्रवक्ता का दावा- जीवित गोला-बारूद नहीं मिला

दिल्ली स्थित सेना मुख्यालय के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने बयान जारी कर बताया कि स्क्रैप डीलर से खाली गोला-बारूद बरामद किया गया है। मौके से जीवित गोला-बारूद नहीं मिला है। सैन्य अधिकारी पूरे मामले की जांच में जुटे हैं।

सेना ने सील किया गोदाम क्षेत्र

सेना ने गोदाम क्षेत्र को सील कर दिया है। सैन्य अधिकारी ठेकेदार से पूछताछ कर इस बात का पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं कि आखिरकार इतनी बड़ी संख्या में जिंदा बम ठेकेदार के पास कैसे आए। अमूमन सेना बम को निष्क्रिय करने के बाद उसका स्क्रेप बना तोल में बेचती है। लेकिन इस बार बड़ी संख्या में जिंदा बम मिलने से सेना में भी हड़कंप मचा हुआ है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pokran

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×