• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • पोकरण फायरिंग रेंज के पास कार्रवाई,आज हो सकता है पूरे मामले का खुलासा
--Advertisement--

पोकरण फायरिंग रेंज के पास कार्रवाई,आज हो सकता है पूरे मामले का खुलासा

भास्कर संवाददाता | जैसलमेर/पोकरण सेना की इंटेलीजेंस टीम ने फायरिंग रेंज के पास गंगाराम की ढाणी में ठेकेदार के...

Danik Bhaskar | Jun 06, 2018, 05:50 AM IST
भास्कर संवाददाता | जैसलमेर/पोकरण

सेना की इंटेलीजेंस टीम ने फायरिंग रेंज के पास गंगाराम की ढाणी में ठेकेदार के गोदाम से बरामद तोप के गोले जोधपुर स्थित 19 एफओडी से ट्रकों में अवधि पार स्क्रैप नष्ट करने के लिए फील्ड फायरिंग रेंज भेजा गया था। सेना की ओर से बोफोर्स व टी 92 टैंक के गोला बारूद को सूनसान इलाके में एक निश्चित प्रक्रिया के तहत पहले इसे नष्ट करना था। इसके बाद ही ठेकेदार इसका कबाड़ एकत्रित कर सकता था। कहा यह जा रहा है कि इस प्रक्रिया को अपनाएं बिना ही जिंदा गोला बारूद सीधे ही ठेकेदार को सौंप दिया। एमआई की टीम मौके पर पहुंच गई। हालांकि सेना के प्रवक्ता का कहना है कि ये डिफ्यूज थे। कहा जा रहा है कि इसकी सूचना सेना को पहले मिल गई जिससे यह कार्रवाई हुई।

अधिकृत फर्म ही निकालती है स्क्रैप से बारूद

सेना प्रवक्ता का कहना है कि ये विस्फोटक नहीं है। इनमें किसी भी तरह का बारूद नहीं है। जानकारी के अनुसार सेना स्क्रैप माल में थोड़े बहुत शेष रहने वाले बारूद को अधिकृत फर्म से निकलवाने की प्रक्रिया करती है। इन 400 गोलो से बारूद किसने निकाला, यह जांच का विषय है। सुरक्षा की दृष्टि से अब इस मामले की जांच की जा रही है कि अधिकृत फर्म ने बारूद निकाला था या किसी अन्य ने।

बोफोर्स व टी 90 तोप के 400 गोले जोधपुर से ट्रकों में आए, इनमें से बारूद किसने निकाला; इसकी होगी जांच

स्पेशल टीम करेगी अब मामले की जांच

बारूद निकले गोले के खोल की जांच को पहुंचे मिलिट्री इंटेलीजेंस और पुलिस द्वारा सभी गोलों को सही बताते हुए मामले की जांच की जा रही है। वहीं इस संबंध में स्पेशल टीम को सूचना दी गई है। बुधवार को जोधपुर से स्पेशल टीम पहुंचेगी और स्क्रैप में रखे गोलों की जांच करेगी। अगर गोले के खोल सही पाए जाते हैं तो ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

पूरे दिन चली कार्रवाई पर बाजार में तरह तरह की चर्चाएं

स्क्रैप के ठेकेदार के गोदाम पर हुई कार्रवाई के बाद ठेकेदार के पास जिंदा बमों के मिलने की चर्चा रही। वहीं दूसरी ओर ठेकेदार के पास मिले बमों में बोफोर्स और टी92 तोप के जिंदा बमों के मिलने की सूचना चलती रही, लेकिन शाम को सेना ने इसे डिफ्यूज बताया।

सेना ने सील किया गोदाम

सेना ने गोदाम क्षेत्र को पूरी तरह से सील कर दिया है। अमूमन सेना सभी तरह के बम को निष्क्रिय करने के बाद उसका स्क्रैप बना तोल के भाव बेच देती है। ठेकेदार से भी पूछताछ हो रही है।


मिलिट्री इंटेलीजेंस और पुलिस की निगरानी में है खोल

धौलिया के पास स्थित गंगाराम की ढाणी में स्क्रैप ठेकेदार के स्टोर में पड़े 400 बम के गोलों की बुधवार को स्पेशल टीम द्वारा जांच की जाएगी। तब तक इनकी सुरक्षा के लिए मिलिट्री इंटेलीजेंस और पुलिसकर्मी मौके पर तैनात है।

एमआई को 15 मई को ही मिल गई थी यह सूचना

दिल्ली स्थित सेना मुख्यालय के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने एक बयान जारी कर बताया, कि स्क्रैप डीलर से खाली गोला बारूद बरामद किया है। मौके से जीवित गोला बारूद नहीं मिला। आर्मी इंटेलिजेंस को गत 15 मई को मिली सूचना मिली थी कि पोकरण फायरिंग रेंज में बिना नष्ट किए बिना ही स्क्रैप सीधे ठेकेदार के हाथ में पहुंच रहा है।

जोधपुर स्थित सेना की 19 फील्ड एम्युनेशन डिपो (एफओडी) की ओर से ठेकेदार को ये गोला बारूद सौंपना बताया जा रहा हैं। ऐसी भी चर्चा रही कि धोलिया व खेतोलाई गांव के पास गोदाम में ठेकेदार इस विस्फोटक को जलाने ही वाला था कि एमआई ने छापा मारकर जब्त कर लिया

सूचना मिलते ही खुफिया एजेंसियां भी हुई सतर्क

स्क्रैप ठेकेदार के पास से करीब 400 गोले मिले। ये बोफोर्स व टी-90 तोप के गोले बताए जा रहे हैं। बड़ी मात्र में एक साथ मिले इस स्क्रैप से एकबारगी हड़कंप मच गया। बाद में बारूद नहीं होने की पुष्टि होने पर सभी ने राहत की सांस ली। एक बारगी जिंदा गोले होने की बात सामने आई तो अन्य खुफिया एजेंसियां सतर्क हो गई।