• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pokran
  • 60 लाख की लागत से बनी सड़क, बारिश में बह गई, अब मरम्मत नहीं
--Advertisement--

60 लाख की लागत से बनी सड़क, बारिश में बह गई, अब मरम्मत नहीं

नगरपालिका क्षेत्र में एक ऐसा भी वार्ड है जहां पर न तो लोगों को पीने के लिए पानी मिल रहा है और न ही उनके घरों में...

Dainik Bhaskar

Jul 08, 2018, 05:50 AM IST
60 लाख की लागत से बनी सड़क, बारिश में बह गई, अब मरम्मत नहीं
नगरपालिका क्षेत्र में एक ऐसा भी वार्ड है जहां पर न तो लोगों को पीने के लिए पानी मिल रहा है और न ही उनके घरों में विद्युत सुविधा है। साथ ही शहर से जोड़ने के लिए बनी सड़क भी पूर्ण रूप से बिखरने लगी है। ऐसे में इस वार्ड के वासियों को शहरी क्षेत्र में होते हुए भी ग्रामीण जीवन जीना पड़ रहा है। शहर से दो किलोमीटर दूर स्थित कैलाश टेकरी को शहर से जोड़ने के लिए बनाया गया सड़क मार्ग जगह जगह से क्षतिग्रस्त पड़ा है। वहीं हालत यह है कि कहीं पर यह सड़क बिखर गई है तो कहीं पर इस सड़क पर रेत जम गई है। इ सके चलते यहां पर से गुजरना भी मुश्किल हो गया है। वार्ड संख्या 20 में नगरपालिका द्वारा दी जाने वाली मूलभूत सुविधाएं भी नहीं है। इसके चलते वार्डवासियों को मजबूरन वहां से पलायन करना पड़ रहा है। वसुंधरा सरकार द्वारा भैरव राक्षस गुफा से रेलवे स्टेशन तक 60 लाख की लागत से सड़क निर्माण करवाई गई थी। लेकिन बारिश के दौरान टूटी सड़क पर विभाग द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया गया। जिसके कारण कई जगहों से सड़क बह गई है।

न तो बिजली है और न ही शिक्षा

वार्ड संख्या 20 कैलाश टेकरी शहर से दूर होने के कारण वार्डवासियों द्वारा कई बार शिक्षा विभाग से क्षेत्र में विद्यालय खोलने की मांग की थी। लेकिन अभी तक वहां पर विद्यालय नहीं खुला है। ऐसे में क्षेत्र के अधिकांश बच्चे अशिक्षित है। साथ ही वार्डवासियों से डिस्कॉम विभाग द्वारा भी सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। जिसके चलते वार्डवासी बिजली व्यवस्था को तरस रहे हैं। इस संबंध में कई बार लोगों द्वारा मांग उठाई गई लेकिन विभाग द्वारा वार्डवासियों की मांग को दरकिनार कर दिया गया है। जिसके चलते शहर में होने के बाद भी यह वार्ड ग्रामीण क्षेत्र से कम नहीं है।




भास्कर संवाददाता | पोकरण

नगरपालिका क्षेत्र में एक ऐसा भी वार्ड है जहां पर न तो लोगों को पीने के लिए पानी मिल रहा है और न ही उनके घरों में विद्युत सुविधा है। साथ ही शहर से जोड़ने के लिए बनी सड़क भी पूर्ण रूप से बिखरने लगी है। ऐसे में इस वार्ड के वासियों को शहरी क्षेत्र में होते हुए भी ग्रामीण जीवन जीना पड़ रहा है। शहर से दो किलोमीटर दूर स्थित कैलाश टेकरी को शहर से जोड़ने के लिए बनाया गया सड़क मार्ग जगह जगह से क्षतिग्रस्त पड़ा है। वहीं हालत यह है कि कहीं पर यह सड़क बिखर गई है तो कहीं पर इस सड़क पर रेत जम गई है। इ सके चलते यहां पर से गुजरना भी मुश्किल हो गया है। वार्ड संख्या 20 में नगरपालिका द्वारा दी जाने वाली मूलभूत सुविधाएं भी नहीं है। इसके चलते वार्डवासियों को मजबूरन वहां से पलायन करना पड़ रहा है। वसुंधरा सरकार द्वारा भैरव राक्षस गुफा से रेलवे स्टेशन तक 60 लाख की लागत से सड़क निर्माण करवाई गई थी। लेकिन बारिश के दौरान टूटी सड़क पर विभाग द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया गया। जिसके कारण कई जगहों से सड़क बह गई है।


X
60 लाख की लागत से बनी सड़क, बारिश में बह गई, अब मरम्मत नहीं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..