• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • टेकरा में सुबह घरों में दौड़ा करंट,एक की मौत 3 घायल, ग्रामीणो का प्रदर्शन
--Advertisement--

टेकरा में सुबह घरों में दौड़ा करंट,एक की मौत 3 घायल, ग्रामीणो का प्रदर्शन

भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक) फलोदी तहसील के ग्राम पंचायत टेकरा में शुक्रवार की अल सुबह घरों में अकरंट आने से...

Danik Bhaskar | Jun 09, 2018, 05:55 AM IST
भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक)

फलोदी तहसील के ग्राम पंचायत टेकरा में शुक्रवार की अल सुबह घरों में अकरंट आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई तथा तीन व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के बाद ग्रामीण मूलसिसंह को पोकरण अस्पताल लेकर पहुंचे जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस घटना को लेकर ग्रामीणों ने डिस्कॉम के अधिकारियों के प्रति जमकर नारेबाजी की और उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। सूचना मिलने पर पोकरण एसडीएम रेणु सैनी, डिप्टी नानकसिंह, पोकरण थानाधिकारी माणक लाल विश्नोई, रामदेवरा थानाधिकारी देवीसिंह सहित कई थानों के थानाधिकारी व मय पुलिस जाप्ता मौके पहुंचे तथा ग्रामीणों को समझाइश की। जिस पर ग्रामीणों ने डिस्कॉम के एक्सईएन व एईएन को हाथों हाथ निलंबित करने मांग पर पांच घंटे तक अड़े रहे।

जानकारी के अनुसार टेकरा में पिछले चार-पांच दिनों से अर्थ करंट निकल रहा था। जिसकी सूचना डिस्कॉम के अधिकारियों को देने के बाद भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया। शुक्रवार को टेकरा के कई घरों में करंट अचानक करंट दौड़ने लगा जिसके कारण टेकरा निवासी मूलसिंह पुत्र प्रयागसिंह, सुमेरसिंह पुत्र माधुसिंह, प्रेमसिंह पुत्र नखतसिंह, ओमसिंह पुत्र बच्चनसिंह गंभीर रूप से घायल हो गए। गंभीर रूप से घायल ब्पुत्र प्रयागसिंह को नजदीकी अस्पताल पोकरण लाया गया जहां पर चिकित्सकों ने मूलसिंह को मृत घोषित कर दिया। इसके साथ ही दो-तीन अन्य व्यक्तियों का फलोदी में उपचार चल रहा है। पूर्व में डिस्कॉम अधिकारियों को सूचना ददेने के बावजूद भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं देने के कारण शुक्रवार को हादसा हो गया।

पोकरण (आंचलिक) युवक के मौत के बाद अस्पताल परिसर में विरोध दर्ज करवाते ग्रामीण

तीन घंटे तक चली समझौता वार्ता के बाद उठाया शव

राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में करंट आने से हुई व्यक्ति की मौत को लेकर टेकरा ग्रामीणों द्वारा मृतक शव पोकरण अस्पताल लाया गया, जहां पर ग्रामीणों द्वारा आठ सूत्री मांगों को मंजूर नहीं करने पर शव उठाया नहीं गया। इसके कारण ग्रामीणों व प्रशासन के बीच तीन घंटे तक समझौता वार्ता चली जिसमें में ग्रामीणों की दी गई आठ सूत्री मांगों को प्रशासन मान ली तथा प्रशासन ने लिखित में प्रार्थना देकर जल्द से जल्द मृतक परिवार को राहत दिलाने का भरोसा दिलाया। समझौता वार्ता में बाप एसडीएम सुमित्रा पारीक, पोकरण एसडीएम रेणु सैनी, डिप्टी नानकसिंह, बाप तहसीलदार भंवरसिंह, जैसलमेर तहसीलदार विरेन्द्रसिंह भाटी, फलोदी थानाधिकारी मदनसिंह, जलदाय विभाग के सेवानिवृत चीफ इंजीनियर गोपालसिंह भाटी, टेकरा सरपंच शैतानसिंह, सरपंच संघ अध्यक्ष मदनसिंह राठौड़, पंचायत समिति सदस्य आईदानसिंह भाटी, पार्षद लालसिंह, नखतसिंह, रूपसिंह, नरपतसिंह, सांगसिंह, हरिसिंह सहित कई पदाधिकारी उपस्थित थे।

ग्रामीणों ने किया पांच घंटे तक विरोध प्रदर्शन

इस घटना के बाद शव को मोर्चरी में रखकर ग्रामीणों ने डिस्कॉम व प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। ग्रामीणों द्वारा अस्पताल परिसर में पांच घंटे तक डिस्कॉम के प्रति जमकर नारेबाजी व विरोध प्रदर्शन किया। इस घटना को देखकर फलोदी, मंडला, बारू, टेकरा सहित आस-पास क्षेत्र के कई ग्रामीण पोकरण पहुंचकर विरोध दर्ज करवाया गया। विरोध प्रदर्शन के बाद छह घंटे बाद बाप एसडीएम व बाप तहसीलदार तथा फलोदी थानाधिकारी पोकरण पहुंचे।

ग्रामीणों ने आठ सूत्री मांगों को लेकर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

अर्थ करंट से हुई व्यक्ति की मौत को लेकर टेकरा सरपंच शैतानसिंह के नेतृत्व में पोकरण एसडीएम रेणु सैनी को आठ सूत्री मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। सरपंच शैतानसिंह ने बताया कि मृत व्यक्ति के आश्रित को सरकारी नौकरी दिलाने, डिस्कॉम द्वारा मृत परिवारजनों को आर्थिक सहायता देने, प्रशासन द्वारा भी आर्थिक सहायता देने, डिस्कॉम के एक्सईएन व एईएन को निलंबित करने तथा उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने व गांव में दो बिजली कर्मी व एक लाइन मैन लगाने, पिछले 5 वर्ष में करंट से हुई 8 लोगों की मृत्यु को लेकर बिजली प्रणाली में खराबी उच्च अधिकारियों से जांच करवाने, जीएसएस से संविदा कर्मी को हटाकर विभागीय कर्मचारी लगाने की मांग की। ज्ञापन में बताया कि डिस्कॉम की लापरवाही के चलते पिछले 4-5 वर्षों में करंट आने से 8 लोगों की मौत हो गई है। उसके बाद भी अभी तक डिस्कॉम पूर्णतया लापरवाह व गैर जिम्मेदार है। सरपंच ने बताया कि इस संबंध में कई बार लिखित व मौखिक रूप से सूचित करने के बाद भी डिस्कॉम के अधिकारियों द्वारा इस तरफ नजर अंदाज किया गया था।