--Advertisement--

चारे पानी को तरस रहे हैं पशु

क्षेत्र के ग्राम पंचायत सांकड़ा में चारे पानी की व्यवस्था न होने के कारण पशुओं ने अपना आपा खो दिया है। जानकार के...

Danik Bhaskar | Jun 05, 2018, 05:55 AM IST
क्षेत्र के ग्राम पंचायत सांकड़ा में चारे पानी की व्यवस्था न होने के कारण पशुओं ने अपना आपा खो दिया है। जानकार के अनुसार ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत सांकड़ा व माधोपुरा के आस-पास के राजस्व गांवों में अकाल की मार को देखते हुए ग्रामीणों व पशुओं का हाल बेहाल है। इन गांवों में अधिकतर लोगों का व्यवसाय पशुपालन ही है व इन पर ही निर्भर है। इसलिए गांवों में अकाल के कारण चारे पानी की भयंकर कमी आने के कारण दिनों दिन पशु काल के ग्रास बन रहे हैं। अकाल के कारण ग्रामीणों की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण वह अपने पशुओं के चारे पानी की व्यवस्था नहीं कर पा रहे हैं और प्रशासन की हठधर्मिता के कारण लोगों में भय पैदा हो रहा है कि वे अपने पशुधन को कैसे बचाया जा सके। ग्रामीणों का कहना है कि यह हर घर की समस्या है।