• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • पोकरण में आंधियों से अब भी सड़कों पर रेत, बसें टैक्सियां बंद, ऊंट गाड़ी से सफर कर रहे हैं लोग
--Advertisement--

पोकरण में आंधियों से अब भी सड़कों पर रेत, बसें टैक्सियां बंद, ऊंट गाड़ी से सफर कर रहे हैं लोग

जैसलमेर जिले में सोमवार को कुछ हिस्सों में बारिश हुई तो पोकरण में धूलभरी आंधियों से अब भी राहत नहीं है। पोकरण और...

Danik Bhaskar | Jun 20, 2018, 05:55 AM IST
जैसलमेर जिले में सोमवार को कुछ हिस्सों में बारिश हुई तो पोकरण में धूलभरी आंधियों से अब भी राहत नहीं है। पोकरण और भणियाणा उपखंड क्षेत्र में चलने वाली आंधियों ने न सिर्फ जनजीवन को प्रभावित किया है बल्कि यातायात व्यवस्था को पूरी तरह से ठप कर दिया है। ग्रामीण क्षेत्रों से बाड़मेर के लिए चलने वाली बसों और टैक्सियां भी सड़कों पर जमा रेत के कारण काफी प्रभावित हुई है। सड़कों पर जमा रेत के कारण कई ढाणियां भी राजस्व गांवों से पूरी तरह से कट चुकी है। बाड़मेर जाने वाली बस और टैक्सियां भी बंद हैं। सड़कों पर जमा रेत के कारण जहां एक ओर वाहनों की आवाजाही बंद हो गई है वहीं दूसरी ओर लोगों को मजबूरी में ऊंट नगाड़ों पर यात्रा करनी पड़ रही है।

पोकरण क्षेत्र के साथ साथ भणियाणा क्षेत्र में भी इन दिनों सड़कों पर आंधी के कारण रेत के टीले जमा हो गए हैं। जिन्हें हटाने में इन दिनों सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी पूरी तरह से नाकाम दिखाई दे रहे हैं। क्षेत्र में चलने वाली धूलभरी आंधी के कारण पोकरण से बड़ली नाथूसर, बड़ली मांडा के साथ साथ फलसूंड से मानासर जाने वाली सड़क पर रेत जमा होने के कारण बालोतरा, पाटोदी, बायतू, देवड़ों की ढाणी, राइकों की ढाणी, चौधरियों की ढाणी, सऊवों का वास, खोखसर, परेऊ जाने वाली बसें व टैक्सियां भी बंद हो गई है। इसके साथ ही रामदेवरा से नाचना जाने वाली सड़क, आसकंद्रा से नाचना, सत्याया, लोहारकी, छायण, बरड़ाना की सड़कों पर रेत जमा हो गई।

भीखोड़ाई. ग्रामीण क्षेत्रों में जाने वाली सड़कों पर जमा है रेत के टीले, इससे वाहनो का चलना दूभर हो गया है ।

अधिकारी कर रहे हैं खानापूर्ति

आंधियों का दौर चलने के कारण सड़कों पर रेत के टीले बन गए हैं। जिसके कारण आमजन की परेशानी बढ़ गई है। वहीं इन सब परेशानियों से दूर सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारी मात्र खानापूर्ति कर रहे हैं। आंधियों से सड़कों पर जमा रेत की परेशानी से अवगत करवाने पर विभाग का जेईएन फलसूंड तो पहुंचा, लेकिन फलसूंड चौराहा पर घूमकर उन्होंने कार्य की इतिश्री कर दी। न तो सड़कों का मौका मुआयना किया और न ही इन सड़कों पर जमा रेत को हटाने के संबंध में कोई कार्रवाई की। इसके कारण विभागीय अधिकारियों के इस रवैये को लेकर आमजन में विभागीय अधिकारियों के खिलाफ काफी रोष व्याप्त है।