• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pokran
  • पूर्व विधायक के आग्रह को न टाल सके पालिका अध्यक्ष, रफी का गीत गुनगुनाया
--Advertisement--

पूर्व विधायक के आग्रह को न टाल सके पालिका अध्यक्ष, रफी का गीत गुनगुनाया

शहर की ह्रदय स्थली गांधी चौक स्थित सरस्वती विद्या मंदिर उच्च माध्यमिक विद्यालय के प्रांगण में ब्रजेश गुचिया और...

Dainik Bhaskar

May 14, 2018, 06:00 AM IST
पूर्व विधायक के आग्रह को न टाल सके पालिका अध्यक्ष, रफी का गीत गुनगुनाया
शहर की ह्रदय स्थली गांधी चौक स्थित सरस्वती विद्या मंदिर उच्च माध्यमिक विद्यालय के प्रांगण में ब्रजेश गुचिया और पुरोहित बगेची स्थित जिम के सदस्यों के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार की रात्रि को एक शाम रफी के नाम संगीत संध्या का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व विधायक शाले मोहम्मद उपस्थित थे। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता नगरपालिका अध्यक्ष आनंदीलाल गुचिया ने की। इसके साथ ही विशिष्ट अतिथि के रूप में नगरपालिका के ईओ जोधाराम विश्नोई, उपाध्यक्ष शिवप्रताप माली, पार्षद नारायणदास रंगा, अखिल भारतीय पुष्टीकर समाज के अध्यक्ष रूपकिशोर, कांग्रेस के नगर अध्यक्ष राजेन्द्र पुरोहित, युवा समाजसेवी जसवंतसिंह रावलोत, आरब खां मेहर, शिवकुमार बोहरा उर्फ पीनी भा उपस्थित थे। कार्यक्रम की शुरूआत में उपस्थित अतिथियों द्वारा सरस्वती माता की तस्वीर और स्व. मोहम्मद रफी की तस्वीर के समक्ष दीपक जलाया। वहीं महिला गायक कलाकार शर्मिला ने शिव भजन प्रस्तुत किया।

संगीत संध्या के दौरान महिला कलाकार शर्मिला ने मोरनी बागा में… गीत प्रस्तुत कर कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके पश्चात अशोक व्यास ने तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है…, तुलसीदास ने चाहे कोई मुझे जंगली कहे…गीत प्रस्तुत कर दर्शकों का मन मोहा। वहीं कार्यक्रम के आयोजक ब्रजेश गुचिया व शर्मिला ने कुछ कुछ होता है… गीत प्रस्तुत किया। इसके साथ ही पवन ने मेरे रश्के कमर…, सागर जोशी ने नशा ये प्यार का नशा है…., हेमंत शर्मा और शर्मिला ने कोयल क्यूं गाए…, धर्मेंद्र पुरोहित और शर्मिला ने इशारों इशारों में…गीत प्रस्तुत किया। इसके साथ ही पूर्व विधायक शाले मोहम्मद की मांग पर नगरपालिका अध्यक्ष आनंदीलाल गुचिया ने मैं कहीं कवि न बन जाऊं… गीत प्रस्तुत कर लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम में लोक कलाकार सरवर खां एण्ड पार्टी ने केशरिया बालम आओ नी…, जतिन गुचिया ने ओ साथी रे…, सुनील मराठे ने बदन पे सितारे लपेटे हुए…, राज छंगाणी ने क्या हुआ तेरा वादा…, कविता ने मोह मोह के धागे…, नक्षत्र ने तू ही ये मुझको बता दे…, मोतीलाल ने लिखे जो खत तूझे… गीत प्रस्तुत कर लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया।

दंगल फिल्म के बाल संगीतकार ने जौहर पर झूम उठे लोग : एक शाम रफी के नाम संगीत संध्या के दौरान दंगल फिल्म में संगीत दे चुके बाल कलाकार सरवर खां द्वारा दी गई प्रस्तुति बापू सेहत के लिए तू तो हानिकारक है…ने उपस्थित सभी दर्शकों का मन मोह लिया। इसके साथ ही बाल संगीतकार के साथ उपस्थित दर्शकों ने काफी फोटो खिंचवाए। वहीं लोगों ने बाल कलाकार द्वारा दी गई प्रस्तुति को खूब सराहा।

पोकरण (आंचलिक) सरस्वती विद्या मंदिर में एक शाम रफी कवि के नाम कार्यक्रम में उपस्थित दर्शक ।

पूर्व विधायक के आग्रह को न टाल सके पालिका अध्यक्ष, रफी का गीत गुनगुनाया
X
पूर्व विधायक के आग्रह को न टाल सके पालिका अध्यक्ष, रफी का गीत गुनगुनाया
पूर्व विधायक के आग्रह को न टाल सके पालिका अध्यक्ष, रफी का गीत गुनगुनाया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..