Hindi News »Rajasthan »Pokran» सुथारों की बेरी स्थित बाबा गरीबदास की धूणी का जनसहयोग से जीर्णोद्धार, Rs. 8 लाख खर्च

सुथारों की बेरी स्थित बाबा गरीबदास की धूणी का जनसहयोग से जीर्णोद्धार, Rs. 8 लाख खर्च

भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक) उपखंड पोकरण क्षेत्र की ग्राम पंचायत डिडाणिया के पीरूजी की ढाणी में बाबा गरीब...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 16, 2018, 06:05 AM IST

सुथारों की बेरी स्थित बाबा गरीबदास की धूणी का जनसहयोग से जीर्णोद्धार, Rs. 8 लाख खर्च
भास्कर संवाददाता | पोकरण (आंचलिक)

उपखंड पोकरण क्षेत्र की ग्राम पंचायत डिडाणिया के पीरूजी की ढाणी में बाबा गरीब साहेब की ढाणी का श्रद्धालुओं ने जीर्णोद्धार कराया। पिछले 20 साल से यह ठिकाना जीर्णशीर्ण हालत में था। आस पास क्षेत्र के लोगों द्वारा उसकी पूजा अर्चना करते थे। उसके बाद धीरे-धीरे ठिकाणा जीर्णशीर्ण स्थित हाे गया। मरम्मत नहीं होने के कारण यह ठिकाणा दिनों दिन जीर्णशीर्ण में पहुंच गया था। इस स्थान पर वर्तमान में उपखंड क्षेत्र सहित आस-पास क्षेत्र के श्रद्धालुओं द्वारा अधिक मास, पुरषोतम मास कार्तिक मास की पूनम, अमावस्या, चतुर्थमास तथा पंचमी को मेला भरता है। इसी के साथ बाबा गरीबदास साहेब की पुण्य तिथि के दिन सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं का मेला भरा जाता है। जो ठिकाणा नागल सुथार समाज से पहचाना जाता है।

बेरी का पानी पीते ही बीमारी होती थी नष्ट

पीरूजी की ढाणी में 150 वर्ष पूर्व सुथारों की बेरी में पर्याप्त मात्रा में पानी था। मान्यता है कि इस स्थान का पानी पीते ही बीमारी नष्ट हो जाती थी। 125 वर्ष पहले देचू गांव के कानोडिय़ा निवासी गरीबदास सुथार ने मां की मृत्यु से दुखी होकर कर अपना घर छोड़कर पीरूजी की ढाणी आए गए। उन्होंने धीरे-धीरे सुथारों की बेरी के पास अपना धूणा स्थापित किया। उन्होंने धूणे देखरेख कर एक पक्का कमरा के निर्माण करवाकर उसमें रहने लगे। बेरी का पानी पीने से पशु व मनुष्य हमेशा स्वच्छ रहते हैं। किसी प्रकार की बीमारी नहीं होती है। इस बेरी का पानी बाहर के लोगों द्वारा पानी की बोतल भरकर ले जाते हैं।

विकास कार्यों में आगे आए विधायक व समाजसेवी

पीरूजी की ढाणी में बाबा गरीबदास साहेब ठिकाणे में क्षेत्रीय विधायक शैतानसिंह राठौड़ द्वारा ठिकाणे में 14 लाइट बिजली पोल, एक सरकारी टांका, शौचालय का निमार्ण कार्य करवाया। इसी के साथ क्षेत्र के डिडाणिया सरपंच गुड्डी-जानकीलाल माली, समाजसेवी हरिकिशन राठी, गिरधारीलाल सुथार, कुंभसिंह चंपावत, मूलचंद सोनी, खेताराम लीलड़, लख सिंह भाटी, भंवरलाल, रतनसिंह जोधा, दूलीचंद सोलंकी, नारायणसिंह लूणा, भूपतसिंह सांकड़ा, महेन्द्रसिंह भाटी, सुमेरसिंह चौहान, किशोर सोनी, कालूसिंह, भोमाराम सुथार सहित कई समाजसेवियों द्वारा ठिकाणे में निर्माण कार्य शुरू करवाकर ठिकाणे में 68 तीर्थ संगम की पहचान दी।

बीस वर्षों से ठिकाणा था जीर्णशीर्ण

एक वर्ष पूर्व गुजरात के संत जयपुरी ने बताया कि पीरूजी की ढाणी स्थित बाबा गरीबदास ठिकाणा में पहुंचे उन्होंने समाजसेवी द्वारा ठिकाणे में निर्माण कार्य शुरू किया। तो धीरे-धीरे समाजसेवियों में धार्मिक स्थल पर रुपए लगाने की इच्छा जागृत हुई तथा उन्होंने धीरे-धीरे ठिकाणे का निर्माण बढ़ता रहा है। सामाजिक कार्यकर्ता गौरी शंकर जोशी ने दिन रात एक कर ठिकाणे में निर्माण कार्य शुरू करवाया।

आठ लाख की लागत से करवाया निर्माण | ग्राम पंचायत डिडाणिया के पीरूजी की ढाणी में सुथारों की बेरी स्थित बाबा गरीबदास ठिकाणे में गए वहां पर कुछ लोगों का जाना रहता था। सामाजिक कार्यकर्ता गौरीशंकर जोशी ने इस स्थान को धार्मिक स्थल बनाने की इच्छा पैदा हुई उन्होंने धीरे-धीरे निमार्ण कार्य करना शुरू किया। समाजसेवियों द्वारा निर्माण कार्य में हाथ बढ़ाया और आठ लाख की रुपए की लागत से ठिकाणा में स्वरूप निखार दिया

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pokran

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×