• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • टोल टैक्स बचाने के चक्कर में शहर से होकर निकलते हैं भारी वाहन, कोई रोकटोक नहीं
--Advertisement--

टोल टैक्स बचाने के चक्कर में शहर से होकर निकलते हैं भारी वाहन, कोई रोकटोक नहीं

शहर में इन दिनों भारी वाहनों की आवाजाही बढ़ गई है। वहीं नेशनल हाइवे पर बने टोल नाकों में लगने वाले टैक्स को बचाने के...

Danik Bhaskar | May 26, 2018, 06:10 AM IST
शहर में इन दिनों भारी वाहनों की आवाजाही बढ़ गई है। वहीं नेशनल हाइवे पर बने टोल नाकों में लगने वाले टैक्स को बचाने के लिए भारी वाहन चालक इन दिनों शहर के बीच से होकर गुजर रहे है। नेशलन हाइवे विभाग द्वारा कांडला पोर्ट से आने वाले वाहनों को गुजरात जाने के लिए फलोदी से वाया सेतरावा होते हुए गुड़ामालानी सड़क मार्ग बनाया गया है। वहीं इन सड़क मार्गों पर जगह जगह टोल नाका भी लगाया गया है। जहां प्रत्येक भारी वाहन का टैक्स चुकाना पड़ता है। लेकिन यह भारी वाहन चालक टैक्स बचाने के चक्कर में इन दिनों फलोदी से खारा, रामदेवरा वाया पोकरण होते हुए सांकड़ा सड़क मार्ग पर से गुजर रहे हैं। जिसके कारण इन दिनों शहर में भारी वाहनों की आवाजाही बढ़ गई है। नेशनल हाइवे विभाग द्वारा हाल ही में नेशनल हाइवे के विस्तार के चलते बाइपास का निर्माण करवाया। बाइपास का निर्माण होने के साथ ही लोगों ने खुशी जाहिर की। लेकिन हाइवे विभाग ने इसी बाइपास पर टोल नाका स्थापित कर दिया। जिसके चलते वाहन चालकों का टोल नाका पर भार कम शहर में भार अधिक बढ़ गया। कई वाहन चालक टोल को बचाने के चक्कर में शहर के भीतर से वाहनों को लेकर जाते हैं। जिसके कारण शहर में वाहनों की संख्या में दिनों दिन इजाफा हो रहा है।

विभाग को हो रहा है प्रति माह लाखों का नुकसान

नेशनल हाइवे विभाग द्वारा हाइवे पर बनाए गए टोल नाकों पर प्रत्येक भारी वाहन के 2 हजार रुपए से अधिक टोल टैक्स वसूला जाता है। जिसे पुन: सड़क की मरम्मत तथा बारिश के दौरान होने वाले नुकसान पर खर्च किया जाता है। लेकिन विभाग द्वारा लगाए गए इन टोल नाकों पर ली जाने वाली राजस्व से बचने के लिए वाहन चालकों द्वारा इन दिनों पोकरण शहर में से वाहनों को गुजारा जा रहा है। जिसके चलते जहां एक ओर शहर में जगह जगह ट्रैफिक जाम लग जाता है। वहीं दूसरी ओर शहर में भारी वाहनों के कारण हर समय हादसे का भय बना रहता है।

वर्जित सड़क मार्गों पर भारी वाहन

शहर से जुड़ी अधिकांश सड़क मार्गों पर इन दिनों भारी वाहनों की आवाजाही बढ़ गई है। जिसके कारण यह सड़क मार्ग आए दिन क्षतिग्रस्त होती जा रही है। बार बार क्षतिग्रस्त हो रहे सड़क मार्गों से परेशान होकर सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा सड़कों के पास में भारी वाहनों के वर्जित का बोर्ड भी लगाया। लेकिन यह वाहन चालक इन सूचना पट्टों की अनदेखी करते हुए वर्जित सड़क मार्गों पर से गुजर रहे हैं। जिसका खामियाजा विभाग को उठाना पड़ रहा है।