• Home
  • Rajasthan News
  • Pokran News
  • हर व्यक्ति को धर्म के लिए आगे आना चाहिए : संत माणकराम
--Advertisement--

हर व्यक्ति को धर्म के लिए आगे आना चाहिए : संत माणकराम

पोकरण (आंचलिक) | शहर के जटाबास स्थित सेवोजी भोमियाजी माली समाज सभा भवन में चल रही नानी बाई मायरों की कथा का बुधवार को...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 06:15 AM IST
पोकरण (आंचलिक) | शहर के जटाबास स्थित सेवोजी भोमियाजी माली समाज सभा भवन में चल रही नानी बाई मायरों की कथा का बुधवार को समापन किया। समापन के अवसर पर कथा में श्रद्धालाओं को हुजूम उमड़ा। कथा के अंतिम दिन शहर सहित आस-पास क्षेत्र के कई श्रद्धालुओंं ने कथा में पहुंचकर पुण्य लाभ प्राप्त किया। कथा के प्रारंभ में सैकड़ों श्रद्धालुओ ने कथा वाचक माणकराम, गोपालदास, शिवराम का फूल मालाओं से स्वागत कर आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं द्वारा ठाकुरजी की पूजा अर्चना के साथ ही भोग लगाया गया। इस अवसर पर नगरपालिका के उपाध्यक्ष शिवप्रताप माली, जलदाय विभाग के सेवानिवृत चीफ इंजीनियर गोपालसिंह भाटी, समाजसेवी विनिता भाटी, मुख्य आयोजक ठेकेदार पप्पूलाल माली, जय भोमियाजी सेवा संस्थान के अध्यक्ष जेठाराम माली, मगाराम सुथार, ताराचंद गहलोत, लक्ष्मण पंवार, पूर्व पार्षद मांगीलाल सोलंकी, किशन निंबली,अध्यापक भंवरलाल परिहार, हंसराज सोलंकी, देवीलाल वैष्णव सहित कई श्रद्धालुओं ने ठाकुरजी की विधि विधान से पूजा अर्चना तथा आरती में भाग लिया।

कथा के अंतिम दिन प्रवचन देते हुए कथा वाचक माणकराम ने कहा कि हर कोई व्यक्ति अपने जीवन काल में मोह माया फंसा रहता है तथा धर्म को लेकर कई लोग आज भी अंदर छिपे हुए है। महाराज ने कहा कि सभी लोगों को धर्म के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि धर्म की ध्वजा हमेशा के लिए लहराती है। उन्होंने बताया कि धर्म के बिना हमेशा लक्ष्मी भी खुशी नहीं रहती है। उन्होंने सभी श्रद्धालुओं को अपने हाथों से धर्म करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को धर्म मार्ग की ओर से आगे बढऩा चाहिए।

महाप्रसादी में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ रू कथा के समापन के अवसर पर सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं द्वारा महाप्रसादी में भाग लिया। मुख्य आयोजक पप्पूलाल सोलंकी व जय भोमायाजी सेवा संस्थान के अध्यक्ष जेठाराम माली ने बताया कि 16 मई से 13 जून तक नानी बाई मायरों की कथा रखी गई थी। जिसमें क्षेत्र कई श्रद्धालुओं ने कथा में भाग लेकर पुण्य लाभ प्राप्त किया।