Hindi News »Rajasthan »Pratapgarh» तेरस पर खेलेंगे रंग, बजेंगे चंग, युवा जमाएंगे गेर के रंग

तेरस पर खेलेंगे रंग, बजेंगे चंग, युवा जमाएंगे गेर के रंग

देशभर में होली के अगले दिन रंगों का पर्व धुलंडी मनाया जाता है, लेकिन आदिवासी बाहुल्य प्रतापगढ़ जिले में आदिवासी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 06:00 AM IST

तेरस पर खेलेंगे रंग, बजेंगे चंग, युवा जमाएंगे गेर के रंग
देशभर में होली के अगले दिन रंगों का पर्व धुलंडी मनाया जाता है, लेकिन आदिवासी बाहुल्य प्रतापगढ़ जिले में आदिवासी समुदाय आज भी 100 साल पुरानी परंपरा का निर्वाह करते हुए होली के अगले दिन धुलंडी पर रंग नहीं खेलता। पूर्व राजघराने में शोक के चलते होली के 12 दिन बाद रंग तेरस पर रंगों का पर्व मनाया जाता है।

देश में कई जगहों पर होली मनाने की अलग परंपरा है। प्रतापगढ़ में होली दहन के 12 दिन बाद रंग तेरस पर अलग ही नजारा देखने को मिलता है। जिलेभर में होली पर लोक परंपरा के अनुसार गेर नृत्य होता है। इसके साथ ही फूलों और गुलाल से होली खेली जाती है। इसमें रंग, गेर नृत्य और आदिवासी संस्कृति का अनूठा समावेश देखने को मिलता है। जिले के धरियावद उपखंड में धुलंडी के दिन ढूंढ़ोत्सव होता है। इसी तरह बारावरदा क्षेत्र में होली के अगले दिन गेर खेलकर होली के सात फेरे लगाए जाते हैं। निकटवर्ती टांडा और मानपुरा गांव में लट्ठ मार होली खेली जाती है।

पारंपरिक वेशभूषा के साथ होता है गेर नृत्य

जिला मुख्यालय से 40 किमी दूर बारावरदा, मेरियाखेड़ी, मधुरा तालाब, नकोर में आदिवासी पिछले सौ साल से धुलंडी पर पारंपरिक वाद्य यंत्रों पर गेर नृत्य करते आ रहे हैं। ऐसी मान्यता है कि पूरे साल के बीच परिणय सूत्र में बंधे वैवाहिक जोड़ों को धुलंडी के दिन सज धजकर होली के सात फेरे लगाकर गेर नृत्य करना होता है। ऐसा करने से दांपत्य जीवन सुखी और खुशहाल होता है। वहीं साल भर में जिस किसी के घर में मृत्यु हो जाती है वह भी धुलंडी को सात फेरे लेकर शोक खत्म करते हैं। शोक खत्म करने से पहले आदिवासी महिलाएं पल्ला लेकर मृत आत्मा के मोक्ष की कामना करती हैं। होली के बाद शोक वाले घर में शोक नहीं मनाया जाता। घरों में मृत व्यक्ति की मोक्ष की कामना के साथ उसे दुबारा याद नहीं करने का प्रण भी होलिका के सामने लिया जाता है। यहां के लोगो का मानना है कि होली के सात फेरे लेने से साल भर तक व्यक्ति बीमार नहीं होता है, साथ ही सालभर तक खेतों में फसलें लहलहाती रहती है। इसके साथ ही होली के फेरे लगाकर आदिवासी समाज देश में खुशहाली की कामना भी करता है।

लोक देवता को खुश करने की लिए मनाया जाता है उत्सव

आदिवासी समाज के रामलाल मीणा ने बताया कि होली दहन के बाद दूसरे दिन राज परिवार में शोक के चलते होली तो नहीं खेली जाती, लेकिन होली दहन के बाद समाज के लोग धुलंडी के दिन होली की भस्म के सात फेरे जरूर लगाते हैं। यह एक सामाजिक परंपरा है। इस दौरान होली की भस्म में से आनी वाले भविष्य और मौसम की भविष्यवाणी भी समाज के बुजुर्ग करते हैं। वहीं आदिवासी महिलाएं होली को जल से ठंडा कर लोक गीत गाती है, समाज में खुशहाली की प्रार्थना करती हैं। उसके बाद समाज के युवाओं के साथ गेर नृत्य शुरू किया जाता है। धुलंडी के दिन होली का रंग भले ही ना दिखे, लेकिन पूरे दिन लोक संस्कृति का रंग जरूर दिखाई देता है। गेर नाचने वाले युवाओं की टोलिया होली दहन के स्थलों पर जाकर गैर नृत्य करते है और उत्सव मनाते है। सुबह से मनाए जाने वाला यह उत्सव रात तक चलता है।

प्रतापगढ़. गेर नृत्य करते आदिवासी समाज के युवा। (फाइल फोटो)

आग बुझाने में लगेगी फायरब्रिगेड की तीन गाड़ियां

होली के त्योहार को देखते हुए, प्रतापगढ़ नगर परिषद ने फायरब्रिगेड की तीनों गाड़िया पुरी तरह से किसी भी आग पर काबू पाने के लिए तैयार रखी है। कल तीनों गाड़ीया शहर के सूरजपोल चौकी पर तैनात रहेगी। हर गाड़ी के साथ तीन व्यक्तियों की टीम भी लगाई गई है। अगर कोई आगजनी होती है तो तुरंत प्रभाव से या तो 100 नंबर डायल कर सकते है या फिर नगर परिषद प्रतापगढ़ के 01478-222043 पर कॉल कर सूचना कर सकते है। सावन चनाल, फायर इंचार्ज

परंपरा में हो बदलाव

पुरानी परंपरा को भूल अब लोकतांत्रिक देश में सबके साथ मिलकर धुलंडी पर ही होली खेलने के लिए लोगों को एक जुट हो कर जनप्रतिनिधियों के साथ में मिल कर इस परंपरा को बदलना चाहिए। होलिका दहन के बाद होने वाले उत्सव को लगातार रखना चाहिए ताकि यहां के लोग भी देश की एक प्रमुख धारा के साथ जुड़ सके। - हरीश व्यास, कवि एवं गीतकार, प्रतापगढ़

होली दहन के बाद आदिवासी परंपरा के अनुसार गेर नृत्य अाैर ढूंढ़ोत्सव से आपसी रंजिश को भूलकर नई शुरूआत की जाती है। जिस घर में किसी बच्चें का जन्म होता है वहां गेर की टोली जा कर नृत्य करती है और उनकी खुशियों में शामिल होती है। साथ ही नव विवाहित जोड़े होली के फेरे लेते है और इच्छा अनुसार दान करते हैं। - लक्ष्मणसिंह चिकलाड़, अध्यक्ष, वन सुरक्षा समिति, प्रतापगढ़

धरियावद . होलीका दहन पर रावला चौक, कलार चौक, पुरानी कॉलोनी, कुम्हारवाड़ा, जवाहरनगर, लसाड़िया चौराहा, गांधीनगर और खुन्ता सहित दर्जनो गांवों गुरुवार को होली दहन किया जाएगा। मुख्य होली रावला चौक पर धरियावद ठिकाने के भानुप्रतापसिंह राणावत करेंगे। दूसरे दिन शुक्रवार को नगर में ढूढोत्सव पर छोटे छोटे बच्चों को मुख्य होली रावला चौक पर बैंड बाजो के साथ होली के फेरे लगवाएंगे। पालीवाल समाज का सामूहिक ढूंढोत्सव उनके नोहरे में होगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pratapgarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: तेरस पर खेलेंगे रंग, बजेंगे चंग, युवा जमाएंगे गेर के रंग
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Pratapgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×