Hindi News »Rajasthan »Pratapur» पेंशनर्स से जुड़ी समस्याएं

पेंशनर्स से जुड़ी समस्याएं

बांसवाड़ा | जिंदगी भर नौकरी और परिवार का भरण पोषण करने के दायित्व के बाद बांसवाड़ा के पेंशनर्स जिंदगी की ढलती शाम...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 19, 2018, 05:45 AM IST

बांसवाड़ा | जिंदगी भर नौकरी और परिवार का भरण पोषण करने के दायित्व के बाद बांसवाड़ा के पेंशनर्स जिंदगी की ढलती शाम में सामाजिक सरोकारों को निभाने में कोई कसर बाकी नहीं रखना चाह रहे हैं। ऐसा ही जज्बा दिखा रहे हैं इंदिरा कॉलोनी की पेंशनर्स समिति के हाजी शब्बीर अहमद बेलीम और हाजी हयातगुल खान पठान सहित समिति के पदाधिकारी। जानिए हमारे पेंशनर्स समाज के सामाजिक सरोकार।

कोचिंग नहीं ले पाने वाले गरीब बच्चों को कर रहे फोकस

बेलीम और पठान ने बताया कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है कि जिन बच्चों को स्कूल के अलावा अलग से मार्गदर्शन की जरूरत है और वे आर्थिक कारणों से कहीं कोचिंग नहीं ले पा रहे हों, तो ऐसे बच्चों पर खास तौर से फोकस कर उन्हें अच्छे अंक लाने के लिए प्रेरित किया जा सकता है। ऐसे प्रयास निरंतर किए जाने से आने वाले समय में दूरगामी बेहतर परिणाम सामने आएंगे।

युवाओं के लिए संदेश : पेंशनर ने अधिक उम्र होने के बावजूद समाज सेवा की ललक दिखा कर समाज के युवाओं को भी एक तरह से संदेश दिया कि जब 60 से 65 वर्ष की आयु के लोग समाज के बच्चों के शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने के लिए काम कर सकते हैं, तो ऐसा समाज के उन शिक्षित युवा को भी करना चाहिए, जिससे कि उनसे कम उम्र के बच्चों को अतिरिक्त समय देकर पढ़ा कर उन्हें आगे बढ़ने में मदद मिले।

अगर आप भी पेंशन से संबंधित समस्या से जूझ रहे हैं तो नंबर 9413017545 पर पूरी जानकारी वॉट्सएप करें।

भास्कर उठाएगा आवाज

विधवा पेंशनर्स की मदद के

लिए विशेष प्रयास

समिति के हाजी रफीक ने विधवा पेंशनर्स की समस्याओं का समाधान करने के लिए पेंशनरों के अनुभव का लाभ लेकर पेंशन और नि:शुल्क दवाएं मिलने में आने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए सतत प्रयास करने पर जोर दिया। समिति में फिलहाल 12 पेंशनर हाजी इकरार मोहम्मद सिंधी, हाजी अब्दुल मजीद सिंधी, अब्दुल हमीद अंसारी सहित और लोग जुटे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pratapur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×