--Advertisement--

नगरपालिका का नाम गढ़ी रखने के लिए ग्रामीण मुखर

राज्य सरकार ने परतापुर को नगरपालिका तो घोषित कर दिया, लेकिन अब परतापुर और गढ़ी के ग्रामीणों के बीच में नए विवाद हो...

Dainik Bhaskar

Mar 08, 2018, 06:00 AM IST
नगरपालिका का नाम गढ़ी रखने के लिए ग्रामीण मुखर
राज्य सरकार ने परतापुर को नगरपालिका तो घोषित कर दिया, लेकिन अब परतापुर और गढ़ी के ग्रामीणों के बीच में नए विवाद हो गया है। एक ओर जहां परतापुर को नगरपालिका बनाने से स्थानीय लोगों में खुशी है, वहीं गढ़ी के ग्रामीण नगरपालिका का नाम गढ़ी रखने पर अड़ गए हैं। ऐसे में दोनों पंचायतों के बीच उपजा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है।

बुधवार को गढ़ी के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री के नाम उपखंड अधिकारी को ज्ञापन देकर बताया कि विधानसभा क्षेत्र गढ़ी है, यहां के उपखंड, तहसील और पंचायत समिति कार्यालय, पुलिस थाना, कोर्ट, उपकोष कार्यालय, ग्राम न्यायालय, सहकारी समिति, डिस्कॉम, जलदाय, महिला एवं बाल विकास विभाग, गढ़ी डाइट भी गढ़ी के नाम से ही हैं, ऐसे में गढ़ी नाम से नगरपालिका होनी चाहिए। अगर सभी कार्यालय की तरह नगरपालिका को गढ़ी के नाम से रखा जाए तो भवन बनाने के लिए जमीन भी है। गढ़ी के ग्रामीणों ने गढ़ी को नगरपालिका घोषित नहीं किए जाने पर परतापुर से अलग करने की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में सरपंच सुभाष परमार, उपसरपंच सुरेंद्रनाथ रावल, इश्तियाक भाई, जाहिर मकराणी, कालू मकराणी, शाजी वर्गीस, अनवर अहमद समेत ग्रामीण शामिल हुए। वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार ने परतापुर को नगरपालिका घोषित किया है, इसलिए इसका मुख्यालय भी परतापुर होना प्रस्तावित है। ऐसे में दोनों गांवों के बीच में नाम को लेकर कशमकश चल रही है।

इसी विरोध को लेकर पहले हुई थी निरस्त

पहले परतापुर को नगरपालिका बनाया था, उस समय भी गढ़ी के लोगों ने गढ़ी नाम रखने की बात रखी थी। उस दौरान दोनों पंचायतों के लोगों में भी विवाद हुआ था, इसलिए नगरपालिका निरस्त किया था।

नगरपालिका का नाम गढ़ी रखने को लेकर एसडीएम को ज्ञापन देते गढ़ी के ग्रामीण।

X
नगरपालिका का नाम गढ़ी रखने के लिए ग्रामीण मुखर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..