• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pratapur
  • मुनिश्री ने कहा अभिषेक, शांतिधारा और पूजन से मन की मलीनता होती है दूर
--Advertisement--

मुनिश्री ने कहा- अभिषेक, शांतिधारा और पूजन से मन की मलीनता होती है दूर

Dainik Bhaskar

May 05, 2018, 06:10 AM IST

Pratapur News - परतापुर में धर्मसभा को संबोधित करते मुनि समता सागरजी महाराज। परतापुर| ज्ञान विद्या शिक्षण संस्कार शिविर में...

मुनिश्री ने कहा- अभिषेक, शांतिधारा और पूजन से मन की मलीनता होती है दूर
परतापुर में धर्मसभा को संबोधित करते मुनि समता सागरजी महाराज।

परतापुर| ज्ञान विद्या शिक्षण संस्कार शिविर में धर्मसभा को संबोधित करते हुए मुनि समता सागर महाराज ने कहा कि अभिषेक, शांतिधारा और पूजन करने से मन की मलीनता दूर होती है।

दिनभर धूल मिट्टी से वस्त्र गंदे होते हैं, उन्हें धोने के लिए साबुन और पानी चाहिए, उसी प्रकार दिनभर आरंभ परिग्रह द्वारा जो दोष लगे, उसे पूजन, अभिषेक और शांतिधारा से दूर किया जा सकता है। हमें हमेशा पूजन अभिषेक में दूसरों के सुखी निरोगी होने की भावना होनी चाहिए। शिविर में निश्चय सागर, राजेश भैया, चंदन भैया, किरण दीदी, मालती दीदी के पास 350 शिक्षणार्थी पढ़ रहे हैं। संचालन कुलदीप कोठारी ने किया। पादप्रक्षालन गणेशलाल छापिया, जिनवाणी पुण्य दोसी, विनोद दोसी ने भेंट की।

X
मुनिश्री ने कहा- अभिषेक, शांतिधारा और पूजन से मन की मलीनता होती है दूर
Astrology

Recommended

Click to listen..