--Advertisement--

स्वच्छता अभियान बन रहा मजाक, दुर्गंध हो रही अमानवीय

राजाखेड़ा। प्रधानमंत्री का महत्वाकांक्षी स्वच्छ भारत अभियान प्रशासनिक लापरवाही के चलते राजाखेड़ा क्षेत्र में...

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2018, 06:30 AM IST
राजाखेड़ा। प्रधानमंत्री का महत्वाकांक्षी स्वच्छ भारत अभियान प्रशासनिक लापरवाही के चलते राजाखेड़ा क्षेत्र में पूरी तरह दम तोड़ चुका है चारों ओर बिखरे गंदगी के ढेर से उड़ती हुई सड़ाने के झोंके नारकीय हालात पैदा करते हैं वही गलियों में टूटी नाली हो या नाली का अभाव के चलते सड़कों पर होता जलभराव सड़कों पर भी लोगों को बुरी तरह परेशान कर रहा है।

नगर पालिका में 85 सफाई कर्मचारियों की स्वीकृत पदों के विपरीत मात्र 12 सफाई कर्मी ही कार्यरत हैं ऐसे में सफाई कार्य को ठेकेदार संस्था के हवाले किया हुआ है जहां बड़ी संख्या में मजदूरों की हाजिरी तो दर्ज की जाती है लेकिन हालात पर उनकी मौजूदगी दिखाई नहीं देती वहीं नाबालिग बालकों को भी इस कार्य में झोंका गया है ऐसे में 25 वार्डों की 36000 से अधिक की आबादी का कचरा दिन-प्रतिदिन निस्तारित ही नहीं हो पाता। आबादी क्षेत्र में कई भूखंड विवादित होने का या अन्य कारणों से खुले पड़े हुए हैं। आसपास के मोहल्लों का कचरा हाथ गाड़ियों में एकत्रित कर इन में डाल देते हैं और यहीं सड़ता कचरा दुर्गंध और मच्छर पैदा कर लोगों को बीमार कर रहा है।

X

Recommended

Click to listen..