--Advertisement--

पद्मावती का विरोध जायज, मुसलमानों को समर्थन करना चाहिए: दरगाह दीवान

दरगाह दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खां बोले- पद्मावती फिल्म का विरोध जायज है

Dainik Bhaskar

Nov 17, 2017, 09:51 AM IST
दरगाह दीवान ने इस आशय का एक बया दरगाह दीवान ने इस आशय का एक बया

अजमेर. दरगाह के आध्यात्मिक प्रमुख दरगाह दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खां ने कहा कि संजय लीला भंसाली का आचरण विवादित लेखक सलमान रुश्दी, तस्लीमा नसरीन और तारिक फतह की तरह धार्मिक भावनाएं भड़काने वाला है, इसलिए पद्मावती फिल्म का विरोध जायज है। बॉलीवुड निर्देशक संजय लीला भंसाली की अपकमिंग फिल्म पद्मावती को लेकर राजस्थान में विवाद गहराता जा रहा है। इस विवादित फिल्म का विरोध जायज है और मुसलमानों को राजपूतों का समर्थन करना चाहिए।


गुरुवार को दरगाह दीवान ने इस आशय का एक बयान जारी किया है। इसमें दीवान ने पद्मावती के विरोध का समर्थन किया है। फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली का किरदार ठीक उसी तरह है, जैसे विवादित लेखक सलमान रुश्दी तस्लीमा नसरीन और तारिक फतह हैं।

भंसाली इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पद्मावती का निर्माण करके देश के राजपूत समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत किया है, उसी तरह अभिव्यक्ति की आजादी का सहारा लेकर इन तीनों लेखकों ने इस्लाम धर्म के खिलाफ अनर्गल बयानबाजी कर मुसलमानों की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है।

पद्मावती फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी और पद्मावती के प्रस्तुत किए गए कथित चित्रण से राजपूत समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचना स्वाभाविक है। इसलिए भंसाली और पद्मावती फिल्म का विरोध जायज है।

वे महिलाओं के शौर्य और स्वाभिमान की प्रतीक हैं दरगाह दीवान ने आशंका जताई है कि फिल्म की कथावस्तु एवं ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किए जाने से शां‍ति व्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। दीवान ने कहा कि इस फिल्म के कुछ दृश्यों से किसी समुदाय की भावना आहत हो रही हैं तो इस फिल्म के दृश्यों की समीक्षा की जानी चाहिए।

कोई फिल्म किसी समुदाय की भावना को आहत करने वाली नहीं होनी चाहिए, क्योंकि फिल्म का मकसद किसी समुदाय की भावना को आहत करना नहीं होना चाहिए। इस फिल्म में राजपूतों के गौरवशाली इतिहास को तोड़ मरोड़कर पेश करके छवि धूमिल करने का प्रयास किया गया है। ऐसे में भारत सरकार को पद्मावती फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगानी चाहिए।

X
दरगाह दीवान ने इस आशय का एक बयादरगाह दीवान ने इस आशय का एक बया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..