• Hindi News
  • Rajasthan
  • Rajsamand
  • मदद मांगती रह गई उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम, 10 दिन से बेखबर राजसमंद पुलिस ने यहां बता दी बदमाशों की गिरफ्तारी
--Advertisement--

मदद मांगती रह गई उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम, 10 दिन से बेखबर राजसमंद पुलिस ने यहां बता दी बदमाशों की गिरफ्तारी

Rajsamand News - गुजरात के व्यापारियों का अपहरण कर लाखों की फिरौती वसूलने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का पीछा करते-करते राजसमंद पहुंची...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 02:55 AM IST
मदद मांगती रह गई उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम, 10 दिन से बेखबर राजसमंद पुलिस ने यहां बता दी बदमाशों की गिरफ्तारी
गुजरात के व्यापारियों का अपहरण कर लाखों की फिरौती वसूलने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का पीछा करते-करते राजसमंद पहुंची उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल सर्विलांस टीम इन बदमाशों का पकड़ने आई थी, लेकिन राजसमंद के दो थानों की पुलिस ने यूपी पुलिस के साथ मकान पर घेरा डालकर उन्हें पकड़ लिया। पुलिस ने पांच बदमाशों को पकड़कर तीन व्यापारियों को उनके चंगुल से छुड़ाया। ये सभी बदमाश नाथद्वारा में एक घर किराए पर लेकर रह रहे थे। बदमाशों के पकड़े जाने के बाद राजसमंद पुलिस ने देररात को राजसमंद पुलिस ने व्यापारियों से रिपोर्ट लेकर मामला दर्ज कर लिया। आरोपियों की राजसमंद में गिरफ्तारी बता दी। वहीं यूपी पुलिस कहती रह गई कि ये हमारे यहां के आरोपी हैं, इनका पीछा करते-करते वे यहां तक पहुंचे हैं। ऐसे में इन बदमाशों को हमें सुपुर्द कर दें।

पैसे नहीं मिले तो किडनी निकलवा देंगे

भावनगर मिस्त्री सरफराज (राजू) ने बताया कि वे जहाज तोड़ने का कार्य करते हैं। 12 दिन पूर्व जहाज का स्पेशल अलंक देने के नाम से झांसा देकर बदमाशों ने मिलने को कहा। शाम को कारखाने के बाहर आकर बुलाया और अपहरण कर ले गए। मकान में बंद कर पांच लाख रुपए की फिरौती मांगी। पैसा नहीं देने पर जयपुर ले जाकर किडनी निकलवाकर पैसा वसूलने की बात कही।

गिरोह के कुछ बदमाश जयपुर में छिपे

डीएसपी राजेंद्र सिंह ने बताया कि यूपी और गुजरात के बदमाशों के इस गिरोह में 10 सदस्य हैं। पांच बदमाश तो नाथद्वारा से पकड़े गए हैं। इनके कुछ साथी जयपुर में छुपे हुए हैं। ये बदमाश भी जयपुर भागने की फिराक में थे, लेकिन इससे पहले पकड़े गए।

देर शाम तक अधिकारियों का रहा कांकरोली थाने पर जमावड़ा : अंतरराज्यीय गैंग के पुलिस के हत्थे चढ़ने के बाद सोमवार देर शाम तक कांकरोली थाने में राजसमंद एसपी मनोज कुमार चौधरी, एएसपी मनीष त्रिपाठी, डीएसपी राजेंद्र सिंह, राजनगर थानाधिकारी दिनेश सुखवाल, कांकरोली थानाधिकारी गोविंद सिंह देर शाम तक थाने में डेरा डाले रहे।

राजसमंद पुलिस ने लूटी वाहवाही

गांधीनगर के व्यापारी की हत्या के आरोपी की तलाश में आई थी यूपी पुलिस

गांधीनगर के व्यापारी भूपेंद्र पुत्र अंबालाल पटेल का 6 जनवरी को बदमाशों ने रुपयों का झांसा देकर अपहरण कर लिया था और यहां से लखनऊ के जानकीपुर ले गए थे। वहां व्यापारी को बेरहमी से पीटा और उसी से परिजनों को फोन कर धंधे में रुपए कम पड़ने की बात बुलवाकर 40 लाख रुपए बैंक में ऑनलाइन डलवा लिए। रुपए मिलने के बाद 13 जनवरी को भूपेंद्र को जहर का इंजेक्शन या हाईडोज ड्रग्स देकर गांधीनगर की ट्रेन में बिठाकर छोड़ दिया। भूपेंद्र 14 जनवरी को गांधीनगर पहुंचा और परिजनों को देखते हुए बेहोश होकर गिर गया और वहीं उसकी मौत हो गई। पोस्टमार्टम में मौत तीव्र जहर से होना पाया गया। इस पर परिजनों ने लखनऊ के गोमतीनगर थाने में मामला दर्ज कराया। गोमतीनगर पुलिस ने पड़ताल कर गैंग के सदस्य बैहराईज उत्तरप्रदेश निवासी जितेंद्र पुत्र तेजराम सोनी को पकड़ा। पूछताछ में पूरी गैंग का खुलासा हुआ। इन बदमाशों की पड़ताल में यूपी पुलिस राजसमंद तक पहुंची। सर्विलांस टीम अनुसंधान करते हुए गुजरात पहुंची तो बदमाशों के नाथद्वारा के हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में रवि पुत्र भंवर नागदा के मकान में होने का पता चला। यूपी पुलिस ने राजसमंद आकर यहां की पुलिस का सहयोग लिया।

राजसमंद| उत्तर प्रदेश पुलिस व राजसमंद पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई कर अपहरणकर्ताओं को पकड़।

ब्याज पर रुपए लेकर बदमाशों को दिए व्यापारियों ने

व्यापारी विनोद और इरफान ने बताया कि बदमाशों का फोन आया कि हमारे परिजन वृद्ध दंपती नेपाल महाराजा के यहां काम करते हैं। जो नेपाल से राजा के डायमंड चुरा कर लाए हैं। वो डायमंड आप देख लो। आपको पसंद आते हैं तो आप ले लेना। यह बात कहकर दोनों व्यापारियों को गुजरात में हिम्मतनगर बुलाया। इस पर इनोवा कार किराए कर दोनों व्यापारी हिम्मतनगर पहुंचे। जहां पर बदमाशों ने कहा कि हीरे नेपाल से नाथद्वारा आ चुके हैं। दोनों व्यापारियों को झांसा देकर नाथद्वारा ले आए। नाथद्वारा पहुंचते ही होटल में रुके। सुबह राजसमंद लाए और एक मकान में बंद कर कार को रवाना कर दिया। इसके बाद बदमाशों ने व्यापारियों से मारपीट की। इस पर व्यापारियों ने अपने रिश्तेदारों से रुपए अपने खाते में डलवाए। जिसमें से 5 लाख 12 टका ब्याज से, 5 लाख 9 टका ब्याज से और 5 लाख छह टका ब्याज में लेकर आरोपियों को दिए। वहीं 10 लाख रुपए 12 टका ब्याज पर लेना तय कर पैसा देना था। व्यापारियों ने बताया कि 15 लाख रुपए जो ब्याज पर लिए थे अब उन्हें चुकाएंगे कैसे।

तीन बंधक व्यापारियों को भी छुड़वाया, पांच आरोपियों को किया गिरफ्तार

सरफराज को आर-पार दिखाने वाला चश्मा देने के बहाने बुलाया

मिस्त्री सरफराज ने बताया कि बदमाशों ने फोन किया था कि आप नाथद्वारा आ जाओ, हम आपको अलंक कांच का ऐसा चश्मा देंगे, जिससे दीवार के आर-पार और जमीन में गढ़ी 10 फीट नीचे की वस्तु आसानी से दिखाई देगी। प्रलोभन में आकर मिस्त्री भी नाथद्वारा पहुंचा। जहां से फोन करने पर राजसमंद फोरलेन पर बुलाया। वहां से मिस्त्री को राजसमंद हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी लेकर पहुंच गए।

देर रात किया राजसमंद पुलिस ने मामला दर्ज

डीएसपी राजेंद्रसिंह ने बताया कि गुजरात निवासी प्रोपर्टी डीलर विनोद व इरफान की शिकायत पर पांचों बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच प्रारंभ कर दी हैं। पुलिस ने व्यापारी की शिकायत पर बदमाशों के खिलाफ मारने की धमकी देकर रुपए वसूलने के आरोप में सभी को गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार आरोपी।

गिरफ्तार आरोपी।

X
मदद मांगती रह गई उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम, 10 दिन से बेखबर राजसमंद पुलिस ने यहां बता दी बदमाशों की गिरफ्तारी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..