• Hindi News
  • Rajasthan
  • Rajsamand
  • Rajsamand News rajasthan news aarop a bill of 160 lakhs of goose bills stuck in the fog ride did the commission not get commission
विज्ञापन

अारोप : फाग सवारी में 1.60 लाख की गुलाल का बिल अटकाया, क्या सभापति को कमीशन नहीं मिला

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 05:42 AM IST

Rajsamand News - पिछले साल 24 फरवरी के बाद बुधवार को हुई नगर परिषद की बोर्ड बैठक हंगामे के बीच सिर्फ पौन घंटे में ही खत्म हो गई।...

Rajsamand News - rajasthan news aarop a bill of 160 lakhs of goose bills stuck in the fog ride did the commission not get commission
  • comment
पिछले साल 24 फरवरी के बाद बुधवार को हुई नगर परिषद की बोर्ड बैठक हंगामे के बीच सिर्फ पौन घंटे में ही खत्म हो गई। कांग्रेस समर्थित पार्षद रोहित पंचोली ने फाग की सवारी में गुलाल के पैसों का अब तक भुगतान नहीं होने का कारण पूछते हुए कमीशन नहीं मिलने के आरोप लगाए तो सभापति सुरेश पालीवाल बैठक बीच में ही छोड़कर चले गए। कुछ देर बाद वे वापस लौटे तो रो पड़े। बैठक में हंगामे कारण विकास कार्यों पर ज्यादा चर्चा नहीं हो पाई। नेशनल हाईवे 8 पर शहर के पास पहाड़ी पर उदयपुर में मोतीमगरी की तरह महाराणा प्रताप तथा राजसमंद के संस्थापक राजसिंह की प्रतिमाएं लगाने का प्रस्ताव लिया गया। आनन-फानन में एक अरब 25 करोड़ 33 लाख 18 हजार का बजट पारित किया।

पार्षद पंचोली ने पिछले साल द्वारकाधीश मंदिर से निकाली शोभायात्रा में उड़ाए गुलाल का भुगतान अब तक नहीं होने पर सवाल किया। उन्होंने सभापति पर कटाक्ष करते हुए पूछा कि, क्या सभापति को इसमें कमिशन नहीं मिला, इसलिए पेमेंट नहीं किया गया हैω आरोप पर सभापति ने तो कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, लेकिन भाजपा समर्थित पार्षद गुस्सा गए। बाद में भाजपा और कांग्रेस समर्थित पार्षद आमने-सामने हो गए। एक-दूजे का आरोप प्रत्यारोप लगाने लगे। भाजपा पार्षद हिम्मत मेहता, दीपक शर्मा, मोहन कुमावत, कुशलेंद्र दाधीच, शिशुपाल चौधरी, प्रकाश गमेती आदि ने कांग्रेस समर्थित पार्षद पंचोली से कहा, सदन में गलत आरोप नहीं लगाएं। कांग्रेस समर्थित कुछ पार्षदों ने भी पंचोली को ऐसे आरोप नहीं लगाने को कहा। हंगामे के बीच कुछ देर तक सदन की कार्रवाई ठप रही। हंगामे के बीच सभापति ने भी नाराज होकर एक अरब 25 करोड़ 33 लाख 18 हजार का बजट पारित करने का प्रस्ताव रखा। इसे भाजपा के पार्षदों ने ध्वनि जैसे ही ध्वनिमत से प्रस्ताव पारित किया तो सभापति सदन छोड़कर चले गए।

पौन घंटे चली बैठक में सिर्फ उलझते रहे पार्षद, 1 अरब 25 करोड़ 33 लाख का बजट पारित

हंगामे के बीच एक अरब 25 करोड़ 33 लाख 18 हजार का बजट पारित, पिछले साल से तीन करोड़ 33 लाख 98 हजार की आय और व्यय में बढ़ोतरी की, पहाड़ी पर महाराणा प्रताप और राजसमंद के संस्थापक राणा राजसिंह की प्रतिमाएं लगाने का प्रस्ताव लिया सभापति के जाते ही भाजपा के पार्षद दीपक शर्मा ने सभी पार्षदों के अपने क्षेत्र की समस्याएं लेकर आना बताते हुए इन पर चर्चा नहीं होने पर नाराजगी जताई। इस बीच सभापति फिर सदन में आए और पार्षद शर्मा को समझाया। बाद में सभापति कांग्रेस पार्षदों वाली लाइन में पीछे बैठ गए। पंचोली के आरोपों पर भावुक सभापति रो पड़े। पंचोली भी सभापति के पास गए और आरोप खुद पर नहीं लेने की बात कही।

लिखित में आदेश, टेंडर नहीं होने से अटक गया था 1.60 लाख के गुलाल का बिल

प्रभु द्वारकाधीश मंदिर से शोभायात्रा की तैयारी के लिए बैठक में नगर परिषद ने गुलाल का खर्च उठाना तय किया था। शोभायात्रा में एक लाख 60 हजार का गुलाल उड़ाने का बिल बाकी चल रहा है। बताया गया कि मंदिर के कर्मचारी परिषद में बिल भुगतान करवाने गए तो तत्कालीन आयुक्त ब्रजेश रॉय ने भुगतान रोक दिया था। जानकारों का कहना है कि गुलाल का खर्च परिषद के मार्फत देने का लिखित आदेश तथा टेंडर प्रक्रिया में नहीं होने के कारण बिल अटक गए थे।

राजसमंद. बैठक में उलझते हुए पार्षद तथा उन्हें समझाते सभापति।

35 वार्डों में बने सामुदायिक भवनों को शादी-समारोहों में किराये पर देकर बढ़ा सकते हैं आय, कमेटी बनाएंगे

वार्ड 27 के पार्षद रोहित पंचोली ने प्रस्ताव रखा कि शहर के 35 वार्ड में बने सामुदायिक भवनों को शादी-समारोहों में किराये पर देकर आय बढ़ा सकते हैं। इनका मेंटेनेंस करने की जरूरत भी बताई। सभापति से इन भवनों की चाबियों की जानकारी लेने पर सभापति ने उनके पास नहीं होने की बात कही। आयुक्त ने कमेटी बनाकर भवनों का उपयोग करने की बात कही। पंचोली ने कहा कि नगर परिषद कर्मचारियों की उदासीनता से परिषद की आय बढ़ना तो दूर कम हो रही है।

सवालों का जवाब मांगते हुए उलझे पार्षद

कांग्रेस समर्थित पार्षदों के सवालों पर भाजपा के पार्षद हिम्मत मेहता ने कहा, सभापति महोदय बजट पर पहले चर्चा की जाए। विपक्ष के पार्षदों ने विरोध करते हुए कहा कि ये सभी मुद्दे बजट के ही हैं। सभापति को सवालों का जवाब देने दो। इस दौरान पार्षद मोहन कुमावत और रोहित के बीच सामुदायिक भवन के मुद्दे हॉट टॉक हुई।

भावुक हुए सभापति बैठक छोड़ गए, कुछ देर बाद लौटे तो रो पड़े, बाेले-तकनीकी कारणों से अटका

पार्षद का आरोप, कचरा पात्र के लिए आईं बाल्टियां परिषद कर्मचारी अपने घर ले गए

पार्षद पंचोली ने स्वच्छ भारत मिशन में नगर परिषद को लाखों रुपए केंद्र सरकार से मिलना बताते हुए इसका हिसाब मांगा। मिशन के तहत शौचालयों का भुगतान नहीं होना बताया। इस पर सभापति ने भुगतान नहीं होने पर एईएन शंकर के प्रति नाराजगी जताई। मिशन के तहत दो साल पहले शहरभर में कचरा पात्र के लिए बांटी तीन हजार बाल्टियां मौके पर नहीं बताते हुए पूछा कि परिषद कर्मचारी बाल्टियां अपने घर लेकर चले गए क्याω सभापति ने जवाब दिया, सभी बाल्टियां बांट दी है। इस मुद्दे पर भी पार्षद आपस में उलझ गए। भाजपा पार्षद बजट पारित करने पर ही चर्चा की बात कहते रहे।

एक अरब 25 करोड़ 33 लाख 18 हजार का बजट पारित

नगर परिषद ने वित्तीय वर्ष 2019-20 का वार्षिक बजट पिछले साल के बजट एक अरब 21 करोड़ 52 लाख 20 हजार से बढ़ाकर तीन करोड़ 33 लाख 98 हजार की आय और व्यय में बढ़ोतरी करते हुए एक अरब 25 करोड़ 33 लाख 18 हजार का बजट पारित किया। इसमें विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत राजस्व आय में 68 करोड़ 43 लाख 68 हजार, पूंजीगत आय 36 करोड़ 19 लाख 10 हजार कुल आय 1 अरब 4 करोड़ 62 लाख 78 हजार आय का प्रावधान रखा गया। राजस्व व्यय 38 करोड़ 11 लाख 3 हजार और पूंजीगत व्यय 75 करोड़ 38 लाख सत्तर हजार रुपए का प्रस्तावित हुआ।

इन आरोप, समस्याओं पर बैठक में हंगामा







गुलाल का भुगतान करने जल्द चर्चा करेंगे : सभापति


शहर को ग्रीन, क्लीन, स्मार्ट बनाने पर 4 करोड़ का बजट रखा

स्मार्ट सिटी की तरह ही राजसमंद शहर को ग्रीन, क्लीन, स्वच्छ, सुंदर और स्मार्ट सिटी बनाने के लिए 4 करोड़ का प्रावधान यथावत रखा है। नौ चौकी के विकास और सौंदर्यकरण पर 1 करोड़ का प्रावधान रखा है। अधिकारियों और कर्मचारियों के वेतन-भत्तों में बढ़ोतरी देखते हुए 1 करोड़ 50 लाख का बजट बढ़ाते हुए 11 करोड़ रुपए खर्च को प्रस्तावित रखा है।

X
Rajsamand News - rajasthan news aarop a bill of 160 lakhs of goose bills stuck in the fog ride did the commission not get commission
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें