पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Charbhuja News Rajasthan News At The Conclusion Of Bhagwat Katha The Yajmans Gave Poornahuti

भागवत कथा के समापन पर यजमानों ने दी पूर्णाहुति

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

चारभुजा | गोमती चौराहा पर चल रही साप्ताहिक संगीतमय भागवत कथा का शनिवार को पूर्णाहूति, हवन यज्ञ के साथ भागवत कथा का समापन हुआ। बाल ब्रह्मचारी अवधेश दास ने कृष्ण की मधुराष्टकम की प्रस्तुति के साथ कथा की शुरुआत की। उन्होंने भागवत कथा को कलयुग की अमृत धारा बताया। इसके रसास्वादन, स्मरण, श्रवण करने से ही मोक्ष की प्राप्ति हो जाती हैं। सुदामा-कृष्ण की अटूट मित्रता, उनकी कारुणिक दीनहीन स्थिति से कृष्ण ने अर्पूवकृपा से स्थिति को राज श्री ठाट में बदल दिया। चिन्तन, दृष्टिकोण से ही मानव शांतिपूर्ण जीवनयापन कर सकता हैं। समाजसेवी अपनी कमाई का सदुपयोग करें तथा अंश राशि परमार्थ में लगावे। हजारीलाल, नंदलाल, देवीलाल, भावेश ने यज्ञ में आहुतियां दी गई। कथा में मांगीलाल टांक, मोहनलाल गुर्जर, हेमराज चण्डालिया, महन्त गंगादास, नीमड़ी के महन्त रामचरणदास, विधायक सुरेन्द्र सिंह राठौड़, प्रदेश कांग्रेस इंटक के महामंत्री महेश सिंह साैलंकी, सैवन्त्री सरपंच विकास दवे, चारभुजा सरपंच धर्मचंद सरगरा, शिवराज साैलकी, गोमती व्यापार मण्डल अध्यक्ष धर्मचंद गुर्जर माैजूद थे।
खबरें और भी हैं...