धोखाधड़ी पर कंपनी पर 86 हजार रुपए जुर्माने के आदेश

Rajsamand News - राजमसंद | साॅफ्टवेयर का अाॅनलाइन भुगतान करने के बावजूद साॅफ्टवेयर नहीं भेजने पर चेन्नई की ट्रांजिट...

Feb 15, 2020, 10:30 AM IST

राजमसंद | साॅफ्टवेयर का अाॅनलाइन भुगतान करने के बावजूद साॅफ्टवेयर नहीं भेजने पर चेन्नई की ट्रांजिट टेक्नाेलाॅजी सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड काे 86 हजार रुपए भुगतान का अादेश देते हुए उपभाेक्ता काे राहत प्रदान की है। । जिला उपभाेक्ता विवाद प्रतितोष मंच, राजसमंद के पीठासीन अधिकारी कमलचंद नाहर, सदस्य किशाेर कुमार गुर्जर अाैर पुष्पा पुराेहित ने यह फैसला सुनाया। इस संबंध में राजसमंद में देवथड़ी निवासी हिमेश पुत्र छगनलाल कुमावत ने चेन्नई के ट्रांजिट टेक्नाेलाॅजी सोल्यूशन प्रा. लि, ग्रेम्स राेड थाउजेंड लाइट्स के खिलाफ 18 अक्टूबर 19 काे परिवाद दायर किया। परिवाद अनुसार एमसीए कर रहे हिमेश ने अपने स्वयं के प्रयाेग अाैर जानकारी के उपयाेग के लिए विपक्षी से एक फुड्डी एप सार्स काेड साॅफ्टवेयर क्रय करने के लिए 10 जून 2019 काे अाॅनलाइन एग्रीमेंट किया। इसके तहत फुड्डी अाैर सार्स काेड साॅफ्टवेयर खरीदने के लिए एक हजार डाॅलर यानी तत्कालीन प्रचलित भारतीय मुद्रा 69 हजार रुपए अाैर उस पर जीएसटी मूल्य दस हजार सहित कुल 79 हजार रुपए अाॅनलाइन भुगतान किया। इसके बाद कंपनी से अाश्वस्त किया कि इनवाॅइस नंबर अाईएनवी-1058 जारी किया। दाे घंटे में ई-मेल डिलीवर हाेने की बात कही। लेकिन साॅफ्टवेयर डिलीवर नहीं हुअा ताे कंपनी से संपर्क िकया। दस दिनाें के बाद कंपनी ने साॅफ्टवेयर देने से मना कर धाेखाधड़ी की। मामले में अदालत ने अादेश दिया कि विपक्षी साॅफ्टवेयर के लिए भुगतान किए गए 79 हजार रुपए 11 जून 2019 से अदायगी 9 प्रतिशत वार्षिक की दर से ब्याज सहित देने का अादेश िदया। इसके साथ ही परिवादी काे हुए मानसिक अाैर अार्थिक संताप की क्षतिपूर्ति के रूप में 5 हजार रुपए अाैर अभिभाषक शुल्क के मद में 2 हजार कुल सात हजार पाने का अधिकारी हैं। 86 हजार रुपए एक माह में देने होंगे। अवधि में भुगतान न करने पर ताअदायगी 9%वार्षिक की दर से ब्याज सहित राशि देने के अादेश दिए।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना