Hindi News »Rajasthan »Ramsin» रामसीन के उच्च जलाशय पर ढक्कन नहीं, अंदर तैर रहे पंख व गंदगी, 27 सौ लोग पीते हैं पानी

रामसीन के उच्च जलाशय पर ढक्कन नहीं, अंदर तैर रहे पंख व गंदगी, 27 सौ लोग पीते हैं पानी

गांव में बाइपास पर बने उच्च जलाशय (ओवरहैड) से सप्लाई होने वाले पानी की शुद्धता पर सवाल खड़े हो रहे हैं। दरअसल, इस...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 06:00 AM IST

  • रामसीन के उच्च जलाशय पर ढक्कन नहीं, अंदर तैर रहे पंख व गंदगी, 27 सौ लोग पीते हैं पानी
    +1और स्लाइड देखें
    गांव में बाइपास पर बने उच्च जलाशय (ओवरहैड) से सप्लाई होने वाले पानी की शुद्धता पर सवाल खड़े हो रहे हैं। दरअसल, इस ओवरहैड पर ढक्कन नहीं है। जिस कारण अंदर कई पक्षियों के पंख व अन्य प्रकार की गंदगी जमा पड़ी हुई है और यही पानी गांव समेत आसपास के करीब 2700 परिवारों को सप्लाई किया जा रहा है।

    हालांकि जलदाय विभाग के अधिकारियों का दावा है कि समय पर सफाई की जाती है, लेकिन मौका स्थल पर हालात से साफ जाहिर है कि लंबे समय से जलाशय की न तो सफाई हुई है और न ही इसकी देखरेख गंभीरता से की जा रही है। जिस कारण टूटे हुए ढक्कन को भी वापस नहीं लगाया गया है।

    गंभीर नहीं है जलदाय विभाग : उच्च जलाशय का निर्माण करते समय पानी की शुद्धता बनी रहे, इस तकनीक को विशेष रूप से ध्यान में रखते हुए निर्माण किया जाता है। जिस कारण ओवरहैड के ढक्कन के अलावा सबसे ऊपर एक जालीदार रोशनदान भी बनाया होता है, लेकिन अभी ढक्कन के साथ यह रोशनदान भी टूटा हुआ है। जिस कारण टंकी में मिट्टी जमा हो रही है। भास्कर टीम ने गुरुवार दिन को जब टंकी का जायजा लिया तो नजारा चौंकाने वाला सामने आया कि जिस पानी से ग्रामीण प्यास बुझा रहे है उसमें गंदगी जमी पड़ी है।

    शुद्धता का पूरा ख्याल, ढक्कन लगवा देंगे

    टंकी से सप्लाई होने वाले पानी की शुद्धता का पूरा ख्याल रखा जाता है। ढक्कन लगवा देंगे। - मनीष पांडे, कनिष्ठ अभियंता, जलदाय विभाग, रामसीन

    पक्षियों के पंख व अन्य गंदगी पड़ी हुई है जलाशय में

    रामसीन. ओवरहैड का गायब ढक्कन।

    आठ दिनों में एक दिन में होती है सप्लाई

    जानकारी के अनुसार सणदरा बांध परियोजना के तहत इस उच्च जलाशय से रामसीन गांव के लगभग 2700 घरों में जलापूर्ति होती है। यह उच्च जलाशय विधायक मद से 25 दिसंबर 2013 को 13 लाख 25 हजार की लागत से बनाया गया था, लेकिन इसकी न तो देखरेख की जा रही है और न ही सफाई। इतना ही नहीं कस्बे में पानी की किल्लत होने के कारण आठ दिनों के अंतराल में सप्लाई की जा रही है। जिस कारण लोगों को पर्याप्त मात्रा में पानी भी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

    ओवरहैड में गिरे पक्षियों के पंख व पानी में जमा गंदगी।

  • रामसीन के उच्च जलाशय पर ढक्कन नहीं, अंदर तैर रहे पंख व गंदगी, 27 सौ लोग पीते हैं पानी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ramsin

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×