• Home
  • Rajasthan News
  • Rani News
  • मारवाड़ जंक्शन विधायक ने चहेतों को ही बुलाया, नाराजगी जताते हुए कई वरिष्ठ पदाधिकारी लौटे
--Advertisement--

मारवाड़ जंक्शन विधायक ने चहेतों को ही बुलाया, नाराजगी जताते हुए कई वरिष्ठ पदाधिकारी लौटे

भास्कर संवाददाता | पाली/मारवाड़ जंक्शन. जिले में भाजपा कार्यकर्ताओं से संगठन तथा सत्ता का फीडबैक लेने दो दिन से...

Danik Bhaskar | Mar 31, 2018, 06:10 AM IST
भास्कर संवाददाता | पाली/मारवाड़ जंक्शन.

जिले में भाजपा कार्यकर्ताओं से संगठन तथा सत्ता का फीडबैक लेने दो दिन से पाली में प्रवास कर रहे राज्यसभा सदस्य नारायण पंचारिया गुरुवार को मारवाड़ जंक्शन तथा पाली विधानसभा के प्रमुख कार्यकर्ताओं से मिले। मारवाड़ जंक्शन में विधायक केसाराम चौधरी के चहेतों को ही बैठक में प्रवेश देने से बाहर खड़े कई वरिष्ठ पदाधिकारियों में गुस्सा देखा गया। वे कुछ देर तक गुस्सा जताने के बाद वहां से लौट गए। वहीं पाली में संगठन की तरफ से बूथ कमेटियां नहीं बनने से प्रभारी खफा हुए। उन्होंने कहा कि अगर बूथ स्तर पर तैयारी नहीं की गई तो भाजपा की पकड़ आम मतदाता तक कैसे बनेगी।

पंचारिया से नहीं मिलने दिया तो सोशल मीडिया पर जताई नाराजगी : मारवाड़ जंक्शन की एक होटल में बुलाई गई बैठक में कुल 68 कार्यकर्ताओं को बुलाया गया था। इसमें कई वरिष्ठ पदाधिकारियों के नाम ही गायब थे। होटल में पहुंचने पर ऐसे कार्यकर्ताओं को बाहर ही रोक दिया गया, इसको लेकर काफी नाराजगी जताई गई। अधिकांश पदाधिकारियों का आरोप था कि विधायक केसाराम चौधरी अपना पंचारिया के सामने होने वाले विराेध को देखते हुए मिलने नहीं दे रहे हैं। काफी देर तक होटल के मुख्य द्वार पर मौजूद संगठन के लोगों से वे तक-वितर्क करते रहे। आखिर में प्रवेश नहीं देने पर वे वहां से लौट गए। कई कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया पर विधायक के खिलाफ अपनी भड़ास भी निकाली।

पाली में बूथ स्तर पर कमेटियां तथा शक्ति केंद्र नहीं होने से खफा हुए प्रभारी

मारवाड़ जंक्शन. बैठक को संबोधित करते राज्य सभा सांसद व उप मुख्य सचेतक पंचारिया।

विधायक ने गिनाई उपलब्धियां, पंचारिया ने एकजुटता का मंत्र फूंका

बैठक में विधायक केसाराम चौधरी ने क्षेत्र में अब तक कराए गए कार्यों के बारे में जानकारी दी। पंचारिया ने सभी से एकजुटता रखने की अपील की। इस मौके पर जिलाध्यक्ष करणसिंह नेतरा, जिला महामंत्री राकेश भाटी, विधानसभा प्रभारी मोहनलाल जाट, प्रधान सुमेरसिंह कुंपावत, रानी प्रधान नवरतन सीरवी, खींवाराम ढारिया ,सोहनलाल टांक, शंकरसिंह राजपुरोहित, मांडा अध्यक्ष शैतानसिंह, धनला मंडल अध्यक्ष जीवाराम नायक, खिंवाड़ा मंडल अध्यक्ष किशोरसिंह राजपुरोहित सहित पदाधिकारी मौजूद रहे।

सीवरेज से पूरा शहर खोद डाला, इससे मतदाताओं में बढ़ रही भाजपा के प्रति नाराजगी

पाली | शहर के प्रजापत छात्रावास में पहुंचे राज्यसभा सदस्य नारायण पंचारिया को कार्यकर्ताओं ने सीवरेज खुदाई को लेकर पूरे शहर मेंं भाजपा की छवि खराब होने का आरोप लगाया। इन लोगों ने कहा कि 3 साल से सीवरेज की खुदाई चल रही है। अधिकांश सड़कों को वापस नहीं बनाए जाने के कारण जगह-जगह आंदोलन हो रहे हैं। इससे भाजपा को विधानसभा चुनाव में नुकसान उठाना पड़ सकता है। बैठक में अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ से जुड़े नेताओं ने भी संगठन के कार्यक्रमों में उचित सम्मान नहीं मिलने का उलाहना दिया। पंचारिया ने बूथ कमेटियों का गठन पूरा नहीं होने पर नाराजगी जताई तथा कहा कि वे जल्द ही इस कार्य को पूरा करें। क्योंकि बूथ स्तर से ही भाजपा विधानसभा चुनाव की तैयारियां कर रही है। बैठक में पंचारिया ने पहले मौजूद संगठन के कार्यकर्ताओं से कहा कि विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हाे चुकी है। संगठन के प्रत्येक कार्यकर्ता को अब घर बैठने के बजाय अपने क्षेत्र में सक्रिय रहना होगा। उन्होंने कहा कि बूथ स्तर पर हर मतदाता के पास जाकर उनको संगठन से जोड़ना जरूरी है। इस दौरान विधायक ज्ञानचंद पारख ने कहा कि विधानसभा चुनाव के लिए कार्यकर्ता पूरी तरह से तैयार है।



कई कार्यकर्ताओं ने शहर में विकास कार्य ठप होने तथा सीवरेज तथा 24 घंटे पानी के लिए पाइपलाइन बिछाने से शहर की सड़कों को खोदने के बाद वापस नहीं बनाने पर गुस्सा जताया। किसान नेता गंगादान चारण व पुखराज पटेल ने प्रदूषण समस्या को लेकर कहा कि इस समस्या ने नेहड़ा बांध को बर्बाद कर दिया है। किसानों के खेत भी बंजर हो रहे है। कई कार्यकर्ताओं ने व्यक्तिवाद की राजनीति को लेकर दोषारोपण दिया। इस दौरान पूर्व सांसद पुष्प जैन, नगरपरिषद चेयरमैन महेंद्र बोहरा, यूआईटी चेयरमैन संजय ओझा, शहर अध्यक्ष रामकिशोर साबू, नरपत दवे, जिला महामंत्री राकेश भाटी, सुनील भंडारी, पाली प्रभारी मंशाराम परमार, एससी प्रकोष्ठ के प्रदेश मंत्री गणपत मेघवाल, जिलाध्यक्ष प्रेम बरूत, महामंत्री मनोहर जाम समेत कई नेता मौजूद थे।

गुटबाजी जैसी बात नहीं


कार्यकर्ताओं का मनोबल टूटता है