• Hindi News
  • Rajasthan
  • Rani
  • यथास्थिति स्वीकार है या संघर्ष चाहते हैं?
--Advertisement--

यथास्थिति स्वीकार है या संघर्ष चाहते हैं?

Dainik Bhaskar

Mar 05, 2018, 06:10 AM IST

Rani News - पिछले हफ्ते शुरू जंगल की यात्रा में कौन से सवाल उठते हैं? जवाब क्या बताते हैं? 1) भालू डरावना है या दोस्ताना? 2) यह...

यथास्थिति स्वीकार है या संघर्ष चाहते हैं?
पिछले हफ्ते शुरू जंगल की यात्रा में कौन से सवाल उठते हैं? जवाब क्या बताते हैं?

1) भालू डरावना है या दोस्ताना?

2) यह कितना बड़ा है? (सामने घड़ा है।)

3) घड़ा कैसा है? किस चीज का बना है?

4) क्या इसके अंदर कुछ है? क्या है?

5) (रास्ता एक मकान पर खत्म होता है) यह कैसा घर है? बड़ा या छोटा?

(भीतर से किसी की आवाज आती है कि दरवाजे खोलें और उसे मुक्त कर दें)

6) क्या आप दरवाजा खोलते हैं?

7) चारों तरफ सफेद रंग है। आप चलते हैं तो कुछ नहीं बदलता।

8) आप क्या करते हैं? वहीं बने रहते हैं? आप रास्ता खोजने की कोशिश करते हैं पर सफल नहीं होते? कितनी देर प्रयास करते हैं?

मनोविज्ञान : 1. भालू जितना डरावना है, व्यक्ति ज़िंदगी की समस्याओं से उतना ही परेशान है। 2. भालू का आकार बताता है कि व्यक्ति समस्या को कितनी बड़ी मानता है। 3. घड़ा बड़ा है तो जीवन पर पालकों का बड़ा प्रभाव है। पुरानी सामग्री का है तो वह उनसे खुद को दूर पाता हैं। नया है तो उनकी वर्तमान में प्रासंगिकता है। 4. घड़े में जो भी हो, यह दर्शाता कि वे पूर्व की पीढ़ियों से जुड़ाव महसूस करते हैं। घड़ा खाली होने का मतलब है संबंध को महत्व तो देते हैं पर लगता नहीं कि वर्तमान में उनसे कुछ मिलता है। 5. बड़ा घर यानी संपत्ति और समृद्धि। छोटे घर का मतलब, जो जि़ंदगी ने दिया है उसे स्वीकार करना। 6.दरवाजा खोलने का मतलब व्यक्ति मदद करना चाहता है। न खोलना अजनबियों से भूतकाल का अप्रिय अनुभव दर्शाता है। 7. सफेद रंग बदलाव न होने का प्रतीक है। 8. उसे स्वीकारना यानी यथास्थिति स्वीकार करने की तैयारी। संघर्ष करने वाले चाहते हैं कि ज़िंदगी लगातार विकसित हो।

X
यथास्थिति स्वीकार है या संघर्ष चाहते हैं?
Astrology

Recommended

Click to listen..