Hindi News »Rajasthan »Rani» आरसीए-रा. रॉयल्स पर 7 करोड़ रु. बकाया, कमिश्नरेट ने नोटिस तो दूर, तकाज़ा ही छोड़ा

आरसीए-रा. रॉयल्स पर 7 करोड़ रु. बकाया, कमिश्नरेट ने नोटिस तो दूर, तकाज़ा ही छोड़ा

चार साल बाद अब फिर से जयपुर में आईपीएल के मैच शुरू होने जा रहे हैं। मगर एक बार फिर मैचों से ठीक पहले स्टेडियम के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 09, 2018, 06:25 AM IST

आरसीए-रा. रॉयल्स पर 7 करोड़ रु. बकाया, कमिश्नरेट ने नोटिस तो दूर, तकाज़ा ही छोड़ा
चार साल बाद अब फिर से जयपुर में आईपीएल के मैच शुरू होने जा रहे हैं। मगर एक बार फिर मैचों से ठीक पहले स्टेडियम के सुरक्षा प्रबंध पर विवाद खड़ा होने जा रहा है। कारण ये कि अभी तक 2006 से 2011 के बीच हुए मैचों की सुरक्षा व्यवस्था के लिए राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन और राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन ने जयपुर कमिश्नरेट को 6.99 करोड़ रु. का ही भुगतान नहीं किया। उस पर तुर्रा ये कि कमिश्नरेट ने एक साल से बकाया मांगना भी छोड़ दिया है। कमिश्नरेट ने इतने सालों में भुगतान के लिए आरसीए या राजस्थान रॉयल्स को एक भी कानूनी नोटिस तक नहीं भेजा है, सिर्फ पत्राचार ही किया है। पिछले साल अप्रैल के बाद से तो पत्राचार भी बंद हो गया है। बकाया राशि नहीं मिलने के कारण सुरक्षा में लगे हजारों पुलिसकर्मियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि मैचों के आयोजन के दौरान ड्यूटी लगाए जाने पर पुलिसकर्मियों को अतिरिक्ति भुगतान किया जाना था। कमिश्नरेट के उच्चाधिकारी कानूनी कार्रवाई के सवाल पर तो कुछ कहने को तैयार नहीं हैं, हालांकि इस बार मैचों की सुरक्षा के विषय में उनका कहना है कि मीटिंग के बाद तय किया जाएगा कि आगे क्या करना है। दरअसल जयपुर कमिश्नरेट की पुलिस से सुरक्षा व्यवस्था के लिए आरसीए और राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन ने एमओयू किया था। इसके लिए प्रति मैच के आधार पर पुलिस द्वारा सुरक्षा के लिए लगाए गए जाप्ते के अनुसार आरसीए व राजस्थान रॉयल्स को भुगतान करना था। लेकिन अभी भी पुलिस को कानून व्यवस्था के लिए लगाए जाप्ते का भुगतान नहीं किया है।

पिछले दस साल से पुलिस आरसीए व राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन को बकाया राशि का भुगतान करने के लिए कई दफा पत्राचार कर चुकी है। भुगतान नहीं करने पर जयपुर कमिश्नरेट की पुलिस ने भी बकाया राशि लेने के लिए पत्राचार करना बंद कर दिया। पुलिस ने अंतिम बार आरसीए को अप्रेल 2017 में बकाया राशि का भुगतान करने के लिए पत्र लिखा था।

रियलिटीचैक

4 साल बाद जयपुर में फिर होने हैं आईपीएल मैच : जबकि पुलिस को अभी तक पुराने मैचों का ही बकाया नहीं मिला..

राजस्थान रॉयल्स पर 86 लाख, आरसीए पर 6.13 करोड़ बकाया

पड़ताल में सामने आया कि वर्ष 2011 में हुए आईपीएल मैचों और इससे पहले एसएमएस स्टेडियम में हुए अंतरराष्ट्रीय मैचों का राजस्थान रॉयल्स को पुलिस को 1.36 करोड़ रुपए और आरसीए को 5.26 करोड़ रुपए से ज्यादा का भुगतान करना है। इसमें ब्याज की राशि 1.30 करोड़ रुपए भी शामिल है।

जबकि आरसीए व राजस्थान रॉयल्स को पुलिस कल्याण कोष में मैचों के आयोजन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था लगाए जाने पर 20 लाख रुपए का भुगतान करना था। आरसीए व राजस्थान रॉयल्स ने पुलिस को महज 70 लाख रुपए का भुगतान किया है। राजस्थान रॉयल्स और आरसीए पर अभी 6.99 करोड़ रुपए से ज्यादा का भुगतान बकाया है।

हैरानी देखिए...पुलिस ने एक भी नोटिस नहीं भेजा, अप्रैल 17 से तकाजे के लिए चल रहा पत्राचार भी बंद

सबसे बड़ा सवाल... 12 साल से क्यों अटका है पैसा?

यह हैरान करने वाला है कि पुलिस ने अपना ही बकाया वसूलने के लिए आरसीए और राजस्थान रॉयल्स के मैनेजर्स को एक भी कानूनी नोटिस नहीं भेजा। इतना ही नहीं, तकाजे के लिए चल रहा पत्राचार तक बंद कर दिया। बकाया राशि का सवाल भी अब तभी उठेगा जब अप्रैल में होने वाले मैचों के लिए दोबारा पुलिस से सुरक्षा व्यवस्था मांगी जाएगी। ये हैरान करने वाला है कि पुलिस का 12 साल से पैसा अटका हुआ है।

एसएमएस स्टेडियम में सात मैच खेले जाएंगे

एसएमएस स्टेडियम में आईपीएल मैच 11 अप्रैल से शुरू होंगे। राजस्थान रॉयल्स के कुल सात मैच खेले जाएंगे। जयपुर में सीजन-11 का पहला मुकाबला 11 अप्रैल को राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली डेयरडेविल्स के बीच होगा। हालांकि अभी तक आरसीए व राजस्थान रॉयल्स के पदाधिकारियों ने जयपुर कमिश्नरेट की पुलिस से मैचों के आयोजन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लिए जाप्ता लगाए जाने के लिए संपर्क नहीं किया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Rani News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: आरसीए-रा. रॉयल्स पर 7 करोड़ रु. बकाया, कमिश्नरेट ने नोटिस तो दूर, तकाज़ा ही छोड़ा
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Rani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×