Hindi News »Rajasthan »Rani» सीबीएसई पेपर लॉकर्स से भी लीक, आरबीएसई के पेपर थानों में सुरक्षित

सीबीएसई पेपर लॉकर्स से भी लीक, आरबीएसई के पेपर थानों में सुरक्षित

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के बैंक लॉकर्स में रखे पेपर भी सुरक्षित नहीं रहे वहीं उससे चार लाख ज्यादा...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 30, 2018, 06:25 AM IST

सीबीएसई पेपर लॉकर्स से भी लीक, आरबीएसई के पेपर थानों में सुरक्षित
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के बैंक लॉकर्स में रखे पेपर भी सुरक्षित नहीं रहे वहीं उससे चार लाख ज्यादा स्टूडेंट्स वाले राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (आरबीएसई) ने पुलिस थानों के जरिए प्रश्न पत्र भेजकर सिस्टम सुधार लिया है। पिछले 5 साल में आरबीएसई ने सभी परीक्षाएं सफलतापूर्वक कराईं। आरबीएसई में 32 लाख परीक्षार्थियों की परीक्षार्थी हैं जबकि सीबीएसई में देशभर में 28 लाख स्टूडेंट्स। इधर, सीबीएसई के पेपर लीक होने के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के सामने परेशानी खड़ी हो गई है। यह वे परीक्षाएं हैं जिनमें विद्यार्थी आगामी दिनों में हिस्सा लेने वाले थे, लेकिन अब उनके सामने समस्या है कि वे बोर्ड परीक्षा की तैयारी करें या प्रतियोगी परीक्षा की। दसवीं के विद्यार्थी परीक्षा के बाद मेडिकल और इंजीनियरिंग की परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर देते हैं। कोचिंग संचालक भी अप्रैल में नए-नए बैच बनाकर पढाई शुरू कर देते हैं। अब इसमें कम से कम 20 से 25 दिन की देरी होना तय है।

कब कौनसी प्रतियोगी परीक्षा

नाटा, आर्किटेक्चर में प्रवेश 29 अप्रैल

क्लेट (सामान्य लॉ प्रवेश परीक्षा) 13 मई

जेईई एडवांस 20 मई

एआईआईएमएस यूजी ऑनलाइन 26, 27 मई

सीपीटी 17 जून

नीट 6 मई

जेईई मेंस 8,15 और 16 अप्रैल

प्रदेश के ग्यारह सौ स्कूलों के विद्यार्थी परेशान

प्रदेश में 1081 स्कूलें सीबीएसई से संबद्धता प्राप्त है। इनमें से करीब 100 स्कूल अकेले जयपुर में है। इन स्कूलों के 12वीं के विद्यार्थियों के सामने सबसे अधिक परेशानी है। अप्रैल और मई में कई प्रवेश परीक्षाएं हैं। सीबीएसई बारहवीं कला वर्ग, वाणिज्य वर्ग के विद्यार्थी ही नहीं, बल्कि विज्ञान वर्ग के विद्यार्थी भी अर्थशास्त्र विषय की पढ़ाई करते हैं। बारहवीं विज्ञान वर्ग में भौतिक, रसायन, गणित और जीव विज्ञान के साथ साथ अर्थशास्त्र का भी कांबिनेशन है। यानि विज्ञान की पढ़ाई करने वाले कई विद्यार्थी ऐसे हैं जो अर्थशास्त्र भी पढ़ रहे हैं।

देश के कोने-कोने में पहुंचा था पेपर, अन्य परीक्षाओं पर भी सवाल

सीबीएसई की 12वीं अर्थशास्त्र और 10वीं का गणित का पेपर सोशल मीडिया के जरिए लीक हुआ और चंद घंटों में देश के कोने-कोने में पहुंच गया। बताया जा रहा है कि शुरुआत में यह पेपर 35-40 हजार रु. तक बिका था। जिसने भी यह पेपर खरीदा उसने बाद में इसे आगे 5-10 हजार रु. लेकर कई स्टूडेंट्स को भिजवा दिया। उन स्टूडेंट्स ने भी दो-ढाई हजार रुपए लेकर अपने अन्य दोस्तों को बांट दिया। अंत में बिना पैसे के भी यह एक ग्रुप से दूसरे ग्रुप में घूमता रहा। इस तरह लीक पेपर बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स, टीचर्स व अन्य लोगों के मोबाइल तक पहुंच गया। राजस्थान में भी परीक्षा से 5 दिन पहले यह स्टूडेंट्स के पास पहुंच गया था। चेन लंबी होने के कारण पुलिस को असली गुनहगारों तक पहुंचने में मुश्किल हो रही है। सीबीएसई को सभी प्रश्न पत्रों की जांच करनी चाहिए। सीबीएसई के अन्य पेपरों की परीक्षा पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। क्योंकि अगर दो पेपर लीक हो सकते हैं तो हो सकता है परीक्षा के अन्य पेपर भी लीक हुए हो। जयपुर के 10वीं के कई विद्यार्थियों का दावा है कि यहां सोशल मीडिया पर हाथ से लिखा पेपर वायरल हो रहा था। उनका कहना था कि मोबाइल पर आए इस पेपर को लेकर वे अधिक गंभीर नहीं थे, लेकिन पेपर देखकर हैरान रह गए थे।

28,24,734 स्टूडेंट्स देशभर में शामिल हुए

16,38,428 स्टूडेंट्स 10वीं

11,86,306 स्टूडेंट्स 12वीं

अजमेर रीजन में

1.81 लाख विद्यार्थी 10वीं और 1.43 लाख विद्यार्थी 12वीं के

सिर्फ जयपुर में

27,000 विद्यार्थी 10वीं के और 15,000 विद्यार्थी 12वीं के। 12वीं के विद्यार्थियों में करीब 4,000 इकोनॉमिक्स के।

सलाह : अनुचित साधनों के उपयोग से बचें स्टूडेंट्स

पेपर की सुरक्षा के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में संचालन समितियां हैं जिसका उपाध्यक्ष एसपी होता है। पुलिस के अलावा माइक्रो ऑब्जर्वर भी थाने से पेपर परीक्षा केंद्र में पहुंचने तक पूरी निगरानी रखते हैं और पूरे मामले की वीडियोग्राफी होती है। केंद्राधीक्षक भी गंभीरता और जिम्मेदारी से काम करते हैं। इस कारण ऐसा मामला सामने नहीं आया और परीक्षा शांतिपूर्वक संपन्न हो गई। - प्रो. बीएल चौधरी, अध्यक्ष, राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड

विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा देते ही कोचिंग के लिए संपर्क करना शुरू कर देते हैं। हमने भी बैच बना दिए थे, लेकिन अब परीक्षा के बाद ही विद्यार्थियों की पढ़ाई शुरू हो सकेगी। - आलोक बंसल, डिप्टी डाय.,बंसल इंस्टीट्यूट

विद्यार्थी इस स्थिति के लिए तैयार नहीं थे। उनके आगामी कार्यक्रम गड़बड़ा गए हैं। सीबीएसई को जल्द परीक्षा की नई तारीख का एेलान करना चाहिए। ताकि राहत मिल सके। - अनिल शर्मा, अध्यक्ष, स्कूल शिक्षा परिवार

आगमी नीट परीक्षा में सीबीएसई को विशेष ध्यान रखने की जरुरत है। उतनी ही जिम्मेदारी परीर्थियों और अभिभावकों की भी है। नकल करने से किसी भी सूरत में भविष्य उज्ज्वल नहीं बन सकता। - डॉ. धनंजय अग्रवाल, सचिव, राजस्थान मेडिकल कॉलेज टीचर्स एसोसिएशन

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Rani News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: सीबीएसई पेपर लॉकर्स से भी लीक, आरबीएसई के पेपर थानों में सुरक्षित
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Rani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×