Hindi News »Rajasthan »Rani» इन्क्रेडिबल... 600 वर्ष पुरानी यह घड़ी आज भी बताती है सही समय

इन्क्रेडिबल... 600 वर्ष पुरानी यह घड़ी आज भी बताती है सही समय

चेक गणराज्य में प्राग शहर के ओल्ड सिटी स्क्वेयर पर 600 साल पुरानी एक घड़ी लगी है, जो आज भी बिल्कुल सही समय बताती है। वह...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 29, 2018, 06:40 AM IST

इन्क्रेडिबल... 600 वर्ष पुरानी यह घड़ी आज भी बताती है सही समय
चेक गणराज्य में प्राग शहर के ओल्ड सिटी स्क्वेयर पर 600 साल पुरानी एक घड़ी लगी है, जो आज भी बिल्कुल सही समय बताती है। वह केवल इसी देश का नहीं, बल्कि कई महाद्वीपों का समय बताती है। इसके अतिरिक्त इसे जो लोग समझ पाते हैं, वे बताते हैं कि आज भी इससे मिलने वाली खगोलीय जानकारी बिल्कुल सही होती है। उदाहरण के तौर पर जब घने बादल छा जाते हैं, तब भी यह सूर्य एवं चंद्रमा की स्थिति बताती है। इसके अतिरिक्त अन्य खगोलीय जानकारियां भी इसमें मिल जाती हैं।

प्राग में लगी इस घड़ी को समझने वाले आज ज्यादा लोग नहीं हैं। कुछ वैज्ञानिक हैं जो अपने अध्ययन के आधार पर उसकी गणना करते हैं और जानकारी देते हैं। प्राग की यह ‘एस्ट्रोनॉमिकल क्लॉक’ यूरोप में सबसे पुरानी घड़ियों में से है, उसके बाद अन्य देशों में भी ऐसी घड़ी लगाई गई थी। हालांकि, बाद में कई देशों में यह घड़ी उचित रखरखाव के अभाव में बंद हो गई।

प्राग शहर के रिकॉर्ड बताते हैं कि ओल्ड स्क्वेयर में वर्ष 1410 में इसे स्थापित किया गया था। स्थानीय भाषा में इसे ऑर्लय कहा जाता है। प्राग शहर आने वाले पर्यटक ओल्ड स्क्वेयर जरूर आते हैं और समय बीतने का इंतजार करते हैं ताकि वे घड़ी की गतिविधियां देख सकें।

-दूसरे विश्वयुद्ध के बाद प्राग में लड़ाई के दौरान मई 1945 में इस घड़ी को काफी नुकसान पहुंचा था। कई महीनों तक लगातार सुधार कार्य के बाद 1948 में इसे व्यवस्थित किया जा सका। जुलाई 2017 में इसका नवीनीकरण शुरू किया गया, जो जनवरी 2018 में ही पूरा हुआ है।

facebook.com

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Rani News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: इन्क्रेडिबल... 600 वर्ष पुरानी यह घड़ी आज भी बताती है सही समय
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Rani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×