Hindi News »Rajasthan »Rani» जालोर में महिला साक्षरता दर कम है, इसे बढ़ाने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं : देवल

जालोर में महिला साक्षरता दर कम है, इसे बढ़ाने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं : देवल

रानीवाड़ा से विधायक नारायण सिंह देवल ने कहा है कि जालोर में महिलाओं की साक्षरता दर कम हैं, इसे बढ़ाने के लिए सरकार को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 06, 2018, 06:45 AM IST

रानीवाड़ा से विधायक नारायण सिंह देवल ने कहा है कि जालोर में महिलाओं की साक्षरता दर कम हैं, इसे बढ़ाने के लिए सरकार को प्रभावी कदम उठाने चाहिए। उन्होंने शिक्षा मंत्री का इस ओर ध्यान आकर्षित करते हुए बताया कि राजस्थान में महिलाओं की साक्षरता दर 52.10 प्रतिशत है, जबकि जालोर जिले में 38.74 प्रतिशत ही है। वे सोमवार को राज्य विधानसभा में शिक्षा, कला एवं संस्कृति की अनुदान मांगों के विषय पर बोल रहे थे। उन्होंने सरकार की ओर से शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे नवाचार की सराहना की और साथ ही इसमें और सुधार से सुझाव भी दिए। विधायक देवल ने सुंधा माता मंदिर परिसर में महाराणा प्रताप की पेनोरमा बनाने की मांग की। साथ ही भीनमाल कस्बे में कवि माघ का पेनोरमा बनाने पर मुख्यमंत्री का आभार जताया।

विधायक देवल ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने 2018-19 के बजट में 17 नए सरकारी कॉलेज खोलने की घोषणा की है। उन्होंने धन्यवाद देते हुए कहा कि इसमें रानीवाड़ा को शामिल किया गया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि जुलाई में इसका विधिवत शुरुआत करेंगे। देवल ने कहा कि रानीवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में कोटड़ा और आजोदर पंचायत मुख्यालय है, जहां आजोदर में कक्षा दसवीं में वर्तमान में 38 छात्र हैं और कोटड़ा में कक्षा दसवी में 40 से अधिक हैं। अत: दोनों स्कूलों को क्रमोन्नत करने की घोषणा की जाए। उन्होंने ग्राम पंचायत मुख्यालय आलड़ी, मेत्रीवाड़ा, सेड़िया और दुगावा को भी क्रमोन्नत कनरे की मांग की। उन्होंने क्रमोन्नत किए उच्च माध्यमिक विद्यालयों में छात्रों की संख्या के अनुपात में भवन बनाने की मांग भी की।

विधायक देवल ने कहा कि प्रत्येक देश अपनी सामाजिक सांस्कृतिक, अस्मिता बनाए रखने के लिए समय की चुनौतियों का सामना करने के लिए अपनी एक शिक्षा प्रणाली विकसित करता है। देश में संविधान के अनुच्छेद 45 में प्राथमिक शिक्षा को निशुल्क और अनिवार्य कर दिया गया है। इसी क्रम में हमारी सरकार ने 4 वर्षों में 5,863 विद्यालयों को क्रमोन्नत किया है। वहीं, सरकारी स्कूलों में 12 लाख नामांकन की वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि शिक्षा की दृष्टि से पिछले ब्लॉक में 134 स्वामी विवेकानंद मॉडल स्कूल खोले गए हैं।

उन्होंने जसवंतपुरा उपखंड कार्यालय में स्वामी विवेकानंद मॉडल स्कूल खोलने की मांग की। एकीकरण और समायोजना के तहत स्कूलों का समायोजन करने के बाद जो भवन खाली रह गए हैं, उनका उपयोग किया जाना चाहिए, वरना वे खंडहर हो जाएंगे। विधायक देवल ने कहा कि रानीवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के मीरपुरा, टिटोप, वासन, देवड़ा, सेवाड़िया, बिलड़, मोखातरा, लुणियासर, कारलूू, वाड़ा में उच्च प्राथमिक विद्यालय को माध्यमिक स्तर पर क्रमोन्नत करने की मांग की।

उन्होंने कई नए प्राथमिक विद्यालय खोलने की भी मांग की। रानीवाड़ा ब्लॉक में 39 विद्यालयों में नोर्म्स के अनुसार 66 अतिरिक्त कक्षा कक्षों की जरूरत है। ब्लॉक के 30 विद्यालयों के भवन अतिवृष्टि के कारण जर्जर हो गए हैं, उनके मरम्मत की जरूरत है। विधायक ने रानीवाड़ा, जसवंतपुरा व सांचौर ब्लॉक के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय में लेवल प्रथम के 450 से अधिक पद रिक्त पड़े हैं। उन्होंने कुक कम हैल्पर का मानदेय बढ़ाने की भी मांग की।





उन्होंने फिक्स वेतन पर सेवाएं देने वाले शिक्षा कर्मियों को विभिन्न संवर्ग वाले योग्यताधारियों को तृतीय श्रेणी पदों को समायोजित कर एक ही पद नाम कर अनियमित को नियमित करने और ग्रामीण क्षेत्र में तृतीय श्रेणी के रिक्त पद भरने पर जोर दिया।



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×