रानी

--Advertisement--

वैधानिक लूट के दौर में एक और डाकू फिल्म

सुशांत सिंह राजपूत और भूमि पेडनेकर एक दस्यु कथा अभिनीत कर रहे हैं। लंबे अरसे बाद एक डाकू फिल्म बन रही है। 1960 में राज...

Dainik Bhaskar

Apr 06, 2018, 06:50 AM IST
वैधानिक लूट के दौर में एक और डाकू फिल्म
सुशांत सिंह राजपूत और भूमि पेडनेकर एक दस्यु कथा अभिनीत कर रहे हैं। लंबे अरसे बाद एक डाकू फिल्म बन रही है। 1960 में राज कपूर की ‘जिस देश में गंगा बहती है’ के कुछ समय बाद ही दिलीप कुमार की ‘गंगा जमुना’ और सुनील दत्त की ‘मुझे जीने दो’ सहित तीन दस्यु केन्द्रित फिल्मों का प्रदर्शन हुआ था। कुछ वर्ष पूर्व ही इरफान खान अभिनीत ‘पान सिंह तोमर’ का प्रदर्शन हुआ था। हमारे हर वर्तमान क्षण में भूतकाल के साथ ही भविष्य के संकेत भी विद्यमान रहते हैं। हर क्षण गर्भधारण किया हुआ क्षण होता है।

भूमि पेडनेकर की ‘जोर लगाकर हइशा’ के बाद ‘शुभ मंगल सावधान’ भी सफल रही। इसी तरह सुशांत सिंह राजपूत ‘पीके’ जैसी सफल फिल्म का हिस्सा थे और ‘काई पो छे’ के भी नायक रहे हैं। इस तरह सफल ट्रैक रिकॉर्ड वाले दो कलाकार अब दस्यु आधारित फिल्म अभिनीत करने वाले हैं। अगर क्रिकेट के मुहावरे में कहें तो ये दोनों ही पुरानी गेंद से भी रिवर्स स्विंग कर सकते हैं। फिल्म में रिवर्स स्विंग नहीं होता, क्योंकि इसमें अवाम अम्पायर की जगह बैठी है। यह अधिकतम लोगों की पसंद या नापसंद का मजमा है।

डाकू पनपे हैं, क्योंकि उसकी बनावट ऐसी होती है कि यहां किसी का पीछा करना आसान नहीं है। मारियो पुजो का उपन्यास ‘गॉडफादर’ पूंजीवादी देशों की महाभारत है। ‘गॉडफादर’ घटना प्रधान उपन्यास है पर उसमें महाभारत की तरह अर्थ की परतें नहीं हैं। बहरहाल लेखक अर्जुन देव रश्क ने अपनी कथा देव आनंद को सुनाई। देव आनंद ने कहा कि वे इस तरह की फिल्म नहीं बनाते परंतु देव आनंद ने अर्जुन देव रश्क की मुलाकात राज कपूर से कराई। अर्जुन देव रश्क ने शंकर, जयकिशन, हसरत और शैलेन्द्र की मौजूदगी में अपनी कथा सुनाई। सुनकर राज कपूर ने उन्हें कुछ रकम देकर कथा खरीद ली। रश्क के बाहर जाते ही शंकर ने कहा कि इस दस्यु कथा में गीत-संगीत की कोई गुंजाइश नहीं है। दो सप्ताह बाद राज कपूर ने उसी कथा को कुछ इस अंदाज में सुनाया कि ग्यारह गीतों की गुंजाइश निकल आई।

यह इत्तेफाक देखिए कि जब राज कपूर इस फिल्म का क्लाईमैक्स उदगमंडलम में शूट कर रहे थे तब मध्यप्रदेश में विनोबा भावे के प्रयास से डाकू आत्म-समर्पण कर रहे थे। इसी तरह 1985 में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी लाल किले से अपना पहला भाषण दे रहे थे, जिसमें उन्होंने गंगा को प्रदूषण मुक्त होने की बात की तब सिनेमाघरों में राज कपूर की ‘राम तेरी गंगा मैली’ का प्रदर्शन प्रारंभ हो चुका था।

आज चम्बल पूरे देश में फैल गया है। सिसली से आया हुआ लगता है अमेरिका का राष्ट्रपति। अब डाके दूसरे ढंग से डाले जाते हैं और उन्हें वैधानिकता भी मिल गई है। सरेआम उसकी जेब काटी जा रही है और कोई आपराधिक प्रकरण भी नहीं बनता। बहरहाल शेखर कपूर ने ‘बैन्डिट क्वीन’ बनाई थी, जिसकी प्रेरणा उन्हें फूलन देवी से मिली थी परंतु फूलन देवी ने अदालत से फिल्म प्रदर्शन रोकने की गुजारिश की कि यह प्रामाणिक फिल्म नहीं। जज ने फैसला शेखर कपूर के पक्ष में दिया। उस समय खाकसार ने कॉलम में संत रामदास की कथा लिखी थी जो इतने मनोयोग से रामकथा बांचते कि उनकी ख्याति हनुमानजी तक जा पहुंची। हनुमानजी सामान्य व्यक्ति की तरह कथा श्रोताओं के बीच बैठ गए।

कथावाचक ने सुनाया कि रावण की कैद में सीता सफेद साड़ी पहने बैठी थीं और चहुं ओर सफेद फूल खिले थे। हनुमानजी ने विरोध किया की साड़ी लाल रंग की थी और फूल भी लाल थे परंतु कथावाचक अपनी बात पर अड़ा रहा। श्रीराम ने हनुमान से कहा कि क्रोध के कारण उनकी आंखों में खून उतर आया था। इसलिए उन्हें सब कुछ लाल दिखा। गोयाकि, घटनास्थल पर मौजूद व्यक्ति गलत हो सकता है, कथावाचक सच कहता है।

जयप्रकाश चौकसे

फिल्म समीक्षक

jpchoukse@dbcorp.in

X
वैधानिक लूट के दौर में एक और डाकू फिल्म
Click to listen..