--Advertisement--

एसटी-5 की तलाश मेंं जुटा वन विभाग, हादसे की आशंका

अलवर | सरिस्का से लापता बाघिन एसटी-5 का शनिवार को 15वें दिन भी कोई सुराग नहीं लगा। सरिस्का बाघ अभयारण्य के आला...

Dainik Bhaskar

Mar 11, 2018, 06:55 AM IST
एसटी-5 की तलाश मेंं जुटा वन विभाग, हादसे की आशंका
अलवर | सरिस्का से लापता बाघिन एसटी-5 का शनिवार को 15वें दिन भी कोई सुराग नहीं लगा। सरिस्का बाघ अभयारण्य के आला अधिकारियों के नेतृत्व में 100 से ज्यादा वनकर्मी सरिस्का कोर एरिया और आसपास के जंगलों में बाघिन की तलाश करते रहे। सुबह उमरी के समीप हरसावल के जंगल में एक बाघिन के पगमार्क भी मिले, लेकिन जांच के बाद पता चला कि ये बाघिन एसटी-8 के हैं। सरिस्का प्रशासन ने बाघिन की तलाश में पूरे जंगल में 20 कैमरा ट्रैप लगाए थे, शनिवार को 50 और जगहों पर कैमरा लगाए गए। भास्कर में समाचार प्रकाशित होने के बाद मुख्य वन संरक्षक डाॅ. गोविंद स्वरूप भारद्वाज सहित सभी रेंजों का स्टाफ शनिवार रात आठ बजे तक बाघिन की तलाश में जुटा रहा।

लापरवाही : एक माह से खराब था रेडियो कॉलर

सवाल : शिकारी मौजूद थे, फिर बदले क्यों नहीं?

बाघों की सुरक्षा पर करोड़ों खर्च हो रहे हैं, लेकिन बाघिन एसटी-5 का रेडियो कॉलर 7 फरवरी से खराब था। इसके बावजूद इसे बदलना तो दूर बदलने की प्रक्रिया भी शुरू नहीं की गई। बाघिन एसटी-5 के एरिया में लगातार शिकारियों की मौजूदगी की पुष्टि हो रही थी। अक्टूबर और दिसंबर 2017 में शिकारियों की फायरिंग के मामले भी दर्ज हुए थे। हैरानी की बात तो यह है कि बाघिन को दिसंबर 2015 में नया रेडियो कॉलर लगाया गया था, जो दो साल बाद ही खराब हो गया। बाघिन एसटी-5 का एरिया शिकारियों की जद में सबसे ज्यादा रहता है। पहले भी यहां सांभर का शिकार हुआ था। संभावना है कि सांभर जैसे किसी जीव का शिकार करने आए लोगों का बाघिन से सामना हुआ हो और इसे मार दिया गया हो।

वन विभाग ने अभयारण्य के टहला गेट से शनिवार शाम प्रवेश भी बंद कर दिया।

X
एसटी-5 की तलाश मेंं जुटा वन विभाग, हादसे की आशंका
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..