• Home
  • Rajasthan News
  • Rani News
  • बिजोवा गांव में हुए सर्वधर्म सामूहिक विवाह में 101 जोड़े बने हमसफर
--Advertisement--

बिजोवा गांव में हुए सर्वधर्म सामूहिक विवाह में 101 जोड़े बने हमसफर

अक्षय तृतीय के अवसर पर सामाजिक सदभाव संगठन बिजोवा के तत्वावधान में सर्वधर्म सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया।...

Danik Bhaskar | Apr 19, 2018, 03:30 AM IST
अक्षय तृतीय के अवसर पर सामाजिक सदभाव संगठन बिजोवा के तत्वावधान में सर्वधर्म सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया। सामूहिक विवाह में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच 101 जोड़े हमसफर बने। कवि युगराज जैन के संयोजन में आयोजित सर्वधर्म सामूहिक विवाह में पाली,जालोर,सिरोही,उदयपुर,बाड़मेर, राजसमंद सहित कई जिलों के वर-वधुओं के जोड़े शामिल हुए।

सामाजिक समरसता की मिसाल कायम

बिजोवा में सामाजिक सदभाव संगठन के तत्वावधान में आयोजित सामूहिक विवाह में सभी समाज के वर-वधुआें को एक ही पांडाल में अलग-अलग चंवरियों में फेरे दिलवाकर सामाजिक समरसता का उदाहरण पेश किया।

गायत्री परिवार ने करवाए फेरे

बिजोवा में आयोजित सामूहिक विवाह में गायत्री परिवार के लोगों ने संगीतमय वैदिक मंत्रोच्चारण कर 101 वर-वधुआें के फेरे करवाए। संयोजक युगराज जैन के तत्वावधान में आयोजित सामूहिक विवाह में सभी वधुआें को घरेलू उपयोग के सामान सहित अन्य सामग्री दी गई। साथ ही सभी को विवाह का पंजीयन प्रमाण पत्र दिया गया।

समारोह में 10 हजार से अधिक लोग पहुंचे

बिजोवा में आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में दस हजार से अधिक लोग पहुंचे। इस अवसर पर कमला जैन, सुशीला जैन, किशोर जैन, कविता कर्मवीर जैन, शीतल नवीन जैन, अभिलाषा राजीव जैन, भारतेंदू जैन, विजय कुमार चौधरी, राजकमल पारीक, ताराचंद जैन, रामलाल भाटी, भरत शर्मा, वालाराम पारंगी, हरीश कुमावत, प्रहलाद परमार आदि मौजूद थे।

सर्वधर्म सामूहिक विवाह में जालोर, सिरोही, उदयपुर सहित कई जिलों से पहुंचे वर-वधु

रानी | बिजोवा गांव में अक्ष्य तृतीया पर सर्वधर्म सामूहिक विवाह सम्मेलन में 101 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे।

सामाजिक सदभाव संगठन के संयोजक व राष्ट्रीय कवि युगराज जैन ने कहा कि बिजोवा में संपन्न हुई सभी 101 बालिकाआें का आज से में बड़ा पापा बन गया हूं। इसलिए सभी का दूसरा पीहर बिजोवा होगा। उन्होंने सभी परिवारों को विश्वास दिलाया कि वे हर दुख की घड़ी में परिवार के साथ खड़ा रहूंगा। एेसे ही सामाजिक सदभाव के कार्य अनवरत रूप से जारी रखने का आव्हान किया।

सभी बेटियों का दूसरा पीहर बिजोवा होगा : जैन

रोहट में वैष्णव समाज के 25 जोड़े बंधे परिणय सूत्र में

अखिल भारतीय रांकावत ब्राह्मण सभा व संत शिरोमणि रांकाजी-बांकाजी धाम रोहट के तत्वावधान में नि:शुल्क सामूहिक विवाह संपन्न

रोहट | कस्बे के एसडीएम कार्यालय के पीछे अक्षय तृतीया पर अखिल भारतीय रांकावत ब्राह्मण सभा दिल्ली एवं संत शिरोमणि रांकाजी-बांकाजी धाम रोहट के तत्वावधान में प्रथम निशुल्क सामूहिक विवाह समारोह संपन्न हुआ। सामूहिक विवाह में 25 वैष्णव समाज के वर-वधुओं की वैदिक मंत्रोच्चार के बीच विवाह की रस्म हुई। इस अवसर पर अध्यक्ष अखिल भारतीय रांकावत ब्राह्मण सभा दिल्ली सुरेंद्र स्वामी ने समाज में व्याप्त कुरीतियों को समाप्त करने का संकल्प दिलाया। इस मौके पर विधायक ज्ञानचंद पारख ने सामूहिक विवाह के आयोजन को समाज विकास के लिए अहम बताया। इस अवसर पर मुख्य संरक्षक यमुनाप्रसाद, बाबूलाल शर्मा, डॉ. जसवंतराज शर्मा, मुकेश के व्यास, अजय बी. टाक, अर्जुनदास चांदोरा, जगदीश भैरूंदिया, जसराज मादावत, बाबूलाल सनाई, गणपतदास, बीरम उदेशरा, ओमदास वैष्णव खांडी आदि मौजूद थे।

रोहट | संत शिरोमणी रांका-बांका धाम में सामूहिक विवाह के बाद वर-वधु को कंधे पर उठाकर ले जाते हुए परिजन एवं उपस्थित समाजबंधु।