रानी

--Advertisement--

दुनिया के सौ प्रभावी शख्स 40 वर्ष से कम के 45 लोग

(© 2018 Time Inc.) सर्वाधिकार सुरक्षित। टाइम मैग्जीन से अनुवादित और Time Inc. की अनुमति से प्रकाशित। पूर्व अनुमति के बिना किसी भी...

Dainik Bhaskar

Apr 22, 2018, 05:00 AM IST
दुनिया के सौ प्रभावी शख्स 40 वर्ष से कम के 45 लोग
(© 2018 Time Inc.) सर्वाधिकार सुरक्षित। टाइम मैग्जीन से अनुवादित और Time Inc. की अनुमति से प्रकाशित। पूर्व अनुमति के बिना किसी भी भाषा में पूरा या आंशिक रूप में प्रकाशित करना प्रतिबंधित। टाइम मैग्जीन और टाइम मैग्जीन लोगो Time Inc. के रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क हैं। इनका उपयोग अनुमति लेकर किया गया है।

टाइम मैग्जीन की वर्ष 2018 के सबसे असरदार लोगों की सूची में इस बार अनेक क्षेत्रों में अमूल्य योगदान देने वाले चर्चित लोगों ने जगह बनाई है। 45 नाम 40 वर्ष से कम आयु के हैं। बड़ी बात ये हैं कि पहली बार महिलाओं की संख्या 45 है। भारत से इस सूची में पहली बार दीपिका पादुकोण, विराट कोहली, माइक्रोसॉफ्ट के सत्या नडेला, ओला के भाविश अग्रवाल को लिया गया है। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सूची में इस बार नहीं हैं। समाज में प्रभाव छोड़ने वाले # मी टू अभियान को चलाने वाली महिलाओं को इसमें प्रमुखता से लिया गया है।

टिफनी हैडिश  कॉमेडी क्वीन

केविन हार्ट

पहली बार टिफनी से 13 वर्ष पहले भेंट हुई थी। वे तब युवा थीं। जब मैंने उनकी कार की ओर देखा तो उसमें बहुत सारा सामान खचाखच भरा हुआ था। जब मैंने पूछा कि सब ठीक है, तब पता चला कि वे बेघर हैं और उस कार में ही रहती हैं। मैं जानता था कि वे प्रतिभाशाली हैं, लेकिन उनके जीवन में इतने कष्ट हैं, इसकी जानकारी नहीं थी। आज टिफनी की हर अदा में कॉमेडी है। उनमें लोगों को हंसाने की काबलियत है।

(हार्ट अमेरिकन कॉमेडियन हैं)

टराना बर्क  # मी टू मूवमेंट क्रिएटर

गेब्रियल यूनियन

पहली बार जब मैं टराना बर्क से मिला तो वे मुझे ऐसी लगी मानो तूफान आने पर कोई बदहवास-सा चिल्ला रहा हो। वे दुष्कर्म पीड़ितों के पक्ष में खड़ी होने वाली पहली आवाज हैं। इन्होंने # मी टू मूवमेंट शुरू किया है। इनके अभियान से दुनिया की कई महिलाएं जुड़ गई हैं। टराना चाह रही थी कि लोग इस अभियान से जुड़ें।

(यूनियन अमेरिकी एक्टर हैं)

भारत से ये : विराट कोहली, दीपिका पादुकोण, सत्या नडेला और ओला प्रमुख भाविश अग्रवाल।

, पाली, रविवार, 22 अप्रैल, 2018

केमरन कास्की, जेकलीन कोरिन, डेविड हॉग, एमा गोंजालेस एवं एलेक्स विंड

स्टूडेंट्स जिन्होंने प्रदर्शन किया

बराक ओबामा

ये सभी 17 से 19 वर्ष के किशोर हैं। पार्कलैंड गोलीबारी के विरोध में इन्होंने मार्च निकाला। इनमें से अधिकांश अभी वोट भी नहीं दे सकते, न ही इनके पास अपनी बात का प्रचार करने के लिए पैसा है। मैं इस बात के लिए कुंठित हूं कि मैं अपने रहते हुए कुछ नहीं कर सका। गन कंट्रोल पर कोई काम नहीं कर सके। इन बच्चों ने पुरानी सभी रूढ़ियों को तोड़ते हुए अपनी बात प्रभावी ढंग से रखी है। हमारा इतिहास गवाह है कि जब भी युवाओं ने किसी काम की कमान थामी है, देश कानून के लिहाज से और संतुलित हुआ है।

(बराक ओबामा, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति)

X
दुनिया के सौ प्रभावी शख्स 40 वर्ष से कम के 45 लोग
Click to listen..