--Advertisement--

कश्मीर : तनाव भड़का रहे 5 ट्विटर हैंडल पर केस

श्रीनगर | आतंकियों के सफाए का अभियान छेड़ने के बाद अब जम्मू-कश्मीर पुलिस ऐसे जिहादियों की धरपकड़ कर रही है जो सोशल...

Dainik Bhaskar

May 28, 2018, 05:40 AM IST
श्रीनगर | आतंकियों के सफाए का अभियान छेड़ने के बाद अब जम्मू-कश्मीर पुलिस ऐसे जिहादियों की धरपकड़ कर रही है जो सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर अफवाहें फैलाकर कानून-व्यवस्था की स्थिति को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। पुलिस ने ऐसे 5 ट्विटर हैंडल्स के खिलाफ केस दर्ज किए हैं और सर्विस प्रोवाइडर्स से भी शिकायत की है। पुलिस ने फेसबुक और वॉट्सऐप पर अफवाहें फैलाने वाले पोस्ट्स को लेकर जल्द से जल्द कार्रवाई करने की बात कही है। अधिकारियों ने कहा कि इस संबंध में माइक्रो ब्लॉगिंग साइट से बात कर उनसे ऐसे ट्विटर हैंडल्स की जानकारी मांगी गई है।



इसके बाद इनके खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत की जाएगी। पुलिस ने कहा कि इससे ‘कीपैड जिहादियों’ से निपटने में मदद मिलेगी।

पुलिस ने सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स पर निगरानी रखनी शुरू कर दी है। इसके लिए टीम गठित की गई है, जो वॉट्सऐप, टेलिग्राम और ऐसे अन्य मेसेजिंग साइट्स पर नजर रख रही है। अधिकारियों ने कहा, “हमने कई शिकायतें कंप्यूटर इमर्जेंसी रेस्पॉन्स टीम को देकर फेसबुक और ट्विटर पर सक्रिय कई अकाउंट्स को बंद करने के लिए कहा है।’ यही नहीं ऐसे कई सिम कार्ड्स को भी ब्लॉक किया गया है, जिनके नंबर का इस्तेमाल कर वॉट्सऐप से अफवाहों को फैलाने का काम किया गया।

युद्ध का नया मैदान :

अधिकारियों ने कहा कि अब आतंकियों ने युद्ध का नया मैदान चुना है। अब वह संकरी गलियों में छिपने और जंगलों में पनाह लेने की बजाय स्मार्टफोन और कंप्यूटर्स के जरिए घाटी समेत कहीं भी अपने मकसद को अंजाम देने का काम कर रहे हैं। ये लोग यह काम अपने घर से ही बल्कि कैफे से भी कर रहे हैं। 2016 के बाद से कश्मीर ही नहीं जम्मू में भी ऐसे ऑनलाइन ग्रुप एक्टिव हुए हैं, जो लोगों में भ्रम पैदा करने का काम करते हैं। यही नहीं कई बार इन लोगों की ओर से फैलाई गई अफवाहों के चलते ही दंगे की स्थितियां पैदा हुई हैं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..