• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Rani News
  • 10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर
--Advertisement--

10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर

दसवीं बोर्ड में होनहारों ने लिखी अपनी कामयाबी की कहानी जिले में 80 से ज्यादा होनहारों ने 90 फीसदी से ज्यादा अंक...

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2018, 05:50 AM IST
10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर
दसवीं बोर्ड में होनहारों ने लिखी अपनी कामयाबी की कहानी

जिले में 80 से ज्यादा होनहारों ने 90 फीसदी से ज्यादा अंक हासिल किए

भास्कर संवाददाता | पाली

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान के दसवीं कक्षा के परीक्षा परिणाम में जिले के कई होनहारों ने 90 फीसदी से ज्यादा अंक हासिल कर अपनी कामयाबी की कहानी लिख डाली है। इन बच्चों में कई तो ऐसे हैं जिन्होंने पारिवारिक स्थिति ठीक नहीं होने के बावजूद अभावों से संघर्ष करते हुए कामयाबी हासिल की।

जिले के छोटे से गांव भाटूंद के विनय ने 96.67 फीसदी अंक प्राप्त किए हैं। जिले में टॉपर रहने वाले विनय भविष्य में कलेक्टर बनने का सपना संजोए हुए हैं। बड़ी बहन आंचल शर्मा को प्रेरणा मानकर विनय ने लगन से पढ़ाई की। शिक्षक पिता व गृहिणी माता की प्रेरणा से विनय ने दिन-रात मेहनत कर अपने परिवार का नाम रोशन किया।

(पेज 18 भी पढ़ें)

मां के साथ मेहंदी काेण बनाने वाली रिंकू ले आई 94.6 फीसदी अंक

ठाकरवास गांव में पिता के साथ फसल की कटाई व मां के साथ मेहंदी का कोण बनाने के बावजूद नियमित अध्ययन कर रिंकू 10वीं की परीक्षा में 94.6 फीसदी अंक हासिल किए हैं। घर पर ही स्वयं के बूते पढ़कर रिंकू ने यह सफलता हासिल की है। यहां तक कि खाली समय में घर पर मवेशियों की देखभाल का जिम्मा भी रिंकू पर ही था। स्कूल समय के बाद रिंकू अपने पिता के साथ खेतीबाड़ी भी करती है।

स्कूल प्रबंधन ने निशुल्क पढ़ाया, राहुल लाया 88.17

भांवरी गांव के राहुल सुथार ने अपने पिता के सपने को पूरा करने के लिए दिनरात मेहनत की। पिता कैलाश सुथार मजदूरी करके परिवार चलाते हैं। ऐसे में मरुधर केसरी स्कूल के निदेशक डूंगरराम पटेल ने राहुल की पढ़ाई का पूरा खर्च दिया। राहुल ने 10वीं बोर्ड में 88.17 फीसदी अंक प्राप्त किए।

चाय बनाने के साथ पढ़ाई की, धीरज ले आया 90 फीसदी अंक

रानी में पिता के साथ चाय की होटल में हाथ बंटाते हुए धीरज अरोड़ा ने 10वीं में 90 फीसदी अंक प्राप्त किए। हालांकि धीरज के हाथ चाय के लिए कप व बर्तनों के बीच चलते थे, लेकिन उसने मन में कुछ कर दिखाने का लक्ष्य भी तय कर रखा था। अर्थशास्त्र में पढ़ रहे भाई व शिक्षकों द्वारा बताए शैक्षणिक टिप्स के बूते उसने यह मुकाम हासिल किया। धीरज बताते हैं कि पढ़ाई के दौरान रखा धीरज ही उसके काम आया।

10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर
10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर
X
10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर
10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर
10वीं बोर्ड : भाटूंद का विनय 96.67 फीसदी अंक के साथ जिले का टॉपर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..