Home | Rajasthan | Rani | राज्यवर्धन सिंह का कद बढ़ा, अब प्रदेशाध्यक्ष पर निगाह

राज्यवर्धन सिंह का कद बढ़ा, अब प्रदेशाध्यक्ष पर निगाह

जयपुर | जयपुर ग्रामीण से सांसद राज्यवर्धन सिंह को केंद्र सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार...

Bhaskar News Network| Last Modified - May 15, 2018, 05:55 AM IST

राज्यवर्धन सिंह का कद बढ़ा, अब प्रदेशाध्यक्ष पर निगाह
राज्यवर्धन सिंह का कद बढ़ा, अब प्रदेशाध्यक्ष पर निगाह
जयपुर | जयपुर ग्रामीण से सांसद राज्यवर्धन सिंह को केंद्र सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया गया है। उनके पास अभी युवा एवं खेल मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार और सूचना एवं प्रसारण का राज्य मंत्री का प्रभार था। मोदी मंत्रिमंडल में सोमवार रात हुए फेरबदल से माना जा रहा है कि राज्यवर्धन सिंह को काम का इनाम मिला है। उन्होंने राज्यमंत्री रहते हुए अरुण जेटली, वैंकया नायडू और स्मृति ईरानी के साथ इस मंत्रालय में काम किया। साथ ही खेल मंत्रालय में खेलो इंडिया जैसे कार्यक्रम के जरिए देशभर में खेल प्रतिभाएं खोेेजने का अभियान चलाया। राज्यवर्धन सिंह का कद बढ़ाए जाने के बाद अब प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के पद पर गजेंद्र सिंह शेखावत के नाम को लेकर अलग-अलग कयास लगने शुरू हो गए हैं। पार्टी नेताओं की ओर से दो तर्क दिए जा रहे हैं। पहला तर्क यह कि राज्यवर्धन को दो मंत्रालयों का स्वतंत्र प्रभार मिलने के बाद अब गजेंद्र सिंह को अध्यक्ष बनाकर चुनाव में राजपूतों को मजबूत तरीके से साधा जा सकता है। वहीं दूसरा तर्क यह भी है कि गजेंद्रसिंह पहले से ही केंद्र में मंत्री हैं, यदि उनको प्रदेश अध्यक्ष बनाया जाता है तो अन्य जातियों की ओर से फिर से सत्ता-संगठन में राजपूतों की ज्यादा भागीदारी का मुद्दा खड़ा किया जा सकता है। ऐसे में हो सकता है कि गजेंद्र का नाम प्रदेश अध्यक्ष से कट जाए और किसी अन्य व्यक्ति को इस पद पर बिठाया जाए।



इस बीच यूपी में भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री का काम देख रहे सुनील बंसल का नाम भी पिछले दिनों से भाजपा के सियासी हल्कों में तेजी से उभरा है।

भाजपा में अब गजेंद्र के अध्यक्ष बनने के कयासों पर अलग-अलग चर्चाएं

राज्यवर्धन सिंह

जल्द हो सकती है भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा

मंत्रिमंडल में फेरबदल को राजस्थान से जोड़कर ज्यादा देखा जा रहा है। कहा जा रहा है कि अब राजस्थान भाजपा को जल्द ही प्रदेश अध्यक्ष मिल सकता है। पिछले 28 दिन से प्रदेश में भाजपा अध्यक्ष विहीन है। 16 अप्रैल को अशोक परनामी का इस्तीफा लिए जाने के बाद नया अध्यक्ष घोषित नहीं हुआ। इस बीच भाजपा ने मध्यप्रदेश, जम्मू कश्मीर, आंध्र प्रदेश में नए अध्यक्ष तैनात कर दिए हैं। अब तक अध्यक्ष पद पर नाम का फैसला केंद्र और राज्य नेतृत्व के बीच सहमति नहीं बन पाने के कारण अटका हुआ है। सोमवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक ली।

बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री और राजस्थान के संगठनात्मक मामले देख रहे वी.सतीश, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश भाजपा प्रभारी अविनाश राय खन्ना और प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर से उन्होंने मौजूदा हालातों पर बात की है।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now