Hindi News »Rajasthan »Rani» खेल मंत्रालय के प्रतिबंध के बावजूद एशियन गेम्स के लिए ट्रायल कराने पर अड़े तीरंदाजी और जिम्नास्टिक एसोसिएशन

खेल मंत्रालय के प्रतिबंध के बावजूद एशियन गेम्स के लिए ट्रायल कराने पर अड़े तीरंदाजी और जिम्नास्टिक एसोसिएशन

खेल मंत्रालय से प्रतिबंधित आर्चरी (तीरंदाजी) और जिम्नास्टिक एसोसिएशन ने एशियन गेम्स के ट्रायल खुद कराने का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 03, 2018, 05:55 AM IST

खेल मंत्रालय से प्रतिबंधित आर्चरी (तीरंदाजी) और जिम्नास्टिक एसोसिएशन ने एशियन गेम्स के ट्रायल खुद कराने का निर्णय लिया है। दोनों एसोसिएशन इसके लिए डेट जारी कर चुके हैं। तीरंदाजी महासंघ तो फर्स्ट ट्रायल आयोजित कर चुकी है। खेल मंत्रालय ने तीरंदाजी, गोल्फ, ताइक्वांडो, जिम्नास्टिक एसोसिएशन को बैन किया है। उसने इन खेलों की टीम चयन के लिए भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओए) को जिम्मेदारी दी है।

तीरंदाजी के दूसरे ट्रायल 16-17 जून को

आर्चरी एसोिसएशन ऑफ इंडिया 16 और 17 जून को दूसरा और फाइनल ट्रायल लेगा। आर्चरी एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सहायक सचिव गुंजन अबरोल ने कहा कि एसोसिएशन को आईओए की निगरानी में ट्रायल करवाने काे लेकर कोई आदेश नहीं मिला है। इंडिया जिम्नास्टिक एसोसिएशन 27 जून को पुणे में ट्रायल कराएगा। एसोसिएशन के अध्यक्ष सुधाकर शेट्‌टी ने कहा कि आईओए का काम टीम का चयन करना नहीं है।

खेल मंत्रालय का आदेश है कि एशियन गेम्स के लिए आईओए की निगरानी में तीरंदाजी और जिम्नास्टिक की टीमें चुनी जाएं। अगर एसोसिएशन इस आदेश को नहीं मानते हैं, तो खेल मंत्रालय को बताया जाएगा। हम उसके निर्देश पर ही चलेंगे। -राजीव मेहता, आईओए सचिव

एशियन गेम्स के लिए 1938 संभावितों की लिस्ट भेजी

आईओए (इंडियन ओलिंपिक एसोसिएशन) ने एशियन गेम्स के लिए भारत के 1938 संभािवत खिलाड़ियों की लिस्ट भेज दी है। आईओए के अध्यक्ष नरेंद्र बत्रा ने बताया कि फाइनल लिस्ट 30 जून को भेजी जाएगी, जो इससे छोटी होगी। जो खेल महासंघ आईओए से मान्यता प्राप्त नहीं है और उन्हें एशियन गेम्स में शामिल किया गया है ऐसे महासंघों को एसोसिएट मेंबर के रूप में शामिल किया जाएगा।

खेल मंत्रालय ने आईओए को टीम चुनने को कहा है

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×