--Advertisement--

ऑडी RS5 में कूपे रूफ और फ्लैर्ड व्हील आर्च

पुरानी ऑडी RS5 की बात अलग थी। जब प्रतियोगिता छोटी साइज और टर्बो चार्जिंग की थी तब भी वो अपने वी8 इंजन और उसके 8,250rpm...

Danik Bhaskar | Jun 09, 2018, 06:05 AM IST
पुरानी ऑडी RS5 की बात अलग थी। जब प्रतियोगिता छोटी साइज और टर्बो चार्जिंग की थी तब भी वो अपने वी8 इंजन और उसके 8,250rpm रेडलाइन के साथ थी। गाड़ी का अपना चरित्र था और इसीलिए वो यादगार है। अब सेकंड जेनरेशन RS5 आ गई है। शुरुआत में तो ये पुरानी RS5 जैसी ही आवाज़ करती है। ऑडी A5 परिवार की ये तीसरी बॉडी स्टाइल है। एड-ऑन्स में ब्लैक हेडलैम्प और टेललैम्प शेल के अलावा ग्लॉसी ब्लैक ग्रिल हैं। 20 इंच के क्रोम अलॉय-व्हील्स हैं, हालांकि ये वैकल्पिक हैं। 19 इंच के स्टैंडर्ड व्हील्स हैं। डिफ्यूज़र भी है जो काम इतना नहीं करता जितना कि वो दिखता है। ये दो बड़े टेलपाइप ढांकता है। A5 की खूबसूरती कूपे स्टाइल में ज्यादा दिखाई देती है। व्हील आर्क एक्सटेंशन्स कूपे के आकार को ज्यादा उभारते हैं।

इंटीरियर: इसका इंटीरियर अन्य A5 या A4 की तरह ही लगता है। वर्चुअल कॉकपिट डिजिटल डायल के लिए फ़्लैट बॉटम स्टीयरिंग के साथ इसका लेआउट काफी रेसी लगता है जो स्पोर्टबैक में भी मिलता है। फ्रंट सीट्स नई हैं और S5 से ज्यादा मजबूत भी हैं। आगे की सीट इतनी जगह लेती हैं की पीछे लेगरूम की कमी पड़ती है। ड्राइविंग मोड बताने वाले ड्राइव सिलेक्ट स्विचेस निराश करते हैं। इन्हे सेंट्रल कंसोल के पैसेंजर साइड पर लगाया है जो असुविधा पैदा करते हैं।

परफॉर्मेंस: RS5 की एक खतरनाक बात भी है, वो ये कि कंफर्ट मोड में गाड़ी चला रहे हैं तो कब इसकी स्पीड लिमिट दोगुनी हो जाएगी ये पता भी नहीं चलता है। स्पीड इतनी आसानी से बदल जाती है कि पता भी नहीं चलता है। आरामदायक भी ये बहुत है जबकि 20 इंच व्हील्स के साथ 30 प्रोफ़ाइल टायर हैं। गड्ढों वाली सड़क पर इसके साधारण टायर कैबिन में हल्के झटके देते हैं।

RS5 की मोटर इसे सबसे अलग बनाती है। ये वी6 है जिसमें 2 टर्बोचार्जर्स हैं। इंजन वही है जो पोर्श अपने पैनामेरा S और कैयीन S मॉडल्स में इस्तेमाल करती है। 450hp का पावर आउटपुट है और 170Nm का टॉर्क है। दावा ये भी किया है कि केवल 3.9 सेकंड में ही 0 से 100kph की स्पीड पकड़ लेती है।

बीएमडब्ल्यू M4 से भी मुकाबला है। राइड कंफर्ट ही गाड़ी की लग्जरी है लेकिन थ्रिल जरा कम महसूस होता है। ये वो गाड़ी है जो संडे को क्लासी कूपे बन जाती है और मंडे को ट्रैक पर आ जाती है।

कीमत

1.1 करोड़

(एक्स-शोरूम)