Hindi News »Rajasthan »Rani» लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी

लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी

पांच ‌‌‌वर्षों में कर्नाटक की सिद्दारमैया सरकार ने किसानों को तबाह कर दिया है। लोगों के बीच जाने की जगह कांग्रेस...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 09, 2018, 06:10 AM IST

  • लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी
    +5और स्लाइड देखें
    पांच ‌‌‌वर्षों में कर्नाटक की सिद्दारमैया सरकार ने किसानों को तबाह कर दिया है। लोगों के बीच जाने की जगह कांग्रेस नेता ये सोच रहे हैं कि कर्नाटक चुनाव में हार का कारण वे क्या देंगे। उनके कारणों में ईवीएम भी एक कारण होगा। वोट बैंक की राजनीति में डूबी कांग्रेस बेटियों पर भाषण दे रही है, लेकिन इन्होंने तीन तलाक कानून को संसद में पारित नहीं होने दिया।

    लिंगायत पर फोकस; भाजपा ने इस समुदाय के 68 और कांग्रेस ने 49 लोगों को टिकट दिया है

    सिद्दारमैया ने चुनाव से पहले लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा देने का प्रस्ताव पास किया

    संतोष कुमार | नई दिल्ली

    कर्नाटक में जाति ही तय करती हैं कि सरकार किसकी बनेगी। यहां की राजनीति पर लिंगायत और वोक्कालिगा समुदाय का वर्चस्व है। लिंगायत 17% और वोकालिंगा 15% हैं। लिंगायत तटीय इलाकों को छोड़कर राज्यभर में फैले हैं। 120 सीटों पर प्रभाव है, जबकि वोक्कालिगा दक्षिणी कर्नाटक में डॉमिनेटेड हैं। 1956 में भाषाई आधार पर कर्नाटक बना था। मौजूदा सीएम सिद्दारमैया राज्य के 28वें सीएम हैं। 20 लोग इस पद पर रहे हैं। इन 20 में 8 लिंगायत नेता रहे हैं। इस बार सभी राजनीतिक दलों ने टिकट बांटने में सोशल इंजीनियरिंग का संतुलन बनाने की कोशिश की है। कुरबा समुदाय से आने वाले सिद्दारमैया ने चुनाव से ठीक पहले लिंगायत समुदाय को हिंदू धर्म से अलग अल्पसंख्यक धर्म का दर्जा दे दिया है। यह इस समुदाय की पुरानी मांग रही है।

    2 साल बाद प्रचार में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कहा- मोदी पर कांग्रेस मुक्त भारत का जुनून सवार; भाजपा ने उन्हें मैडम माइनो कहा

    कांग्रेस ने 17, जेडीएस ने 19 मुस्लिम प्रत्याशी उतारे, भाजपा को 1 भी नहीं मिला

    कर्नाटक की राजनीति में क्यों अहम हैं लिंगायत

    लिंगायत समुदाय 1990 से पहले कांग्रेस के साथ थे। 1990 में कुछ हिस्सों में दंगे हुए। इस पर तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राजीव गांधी ने लिंगायत मुख्यमंत्री वीरेंद्र पाटिल को हटा दिया। इससे यह समुदाय नाराज हो गया। अगले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को जनता दल के हाथों शिकस्त मिली। भाजपा का वोट प्रतिशत 4.14% से 16.99% हो गया। सीटें भी 4 से 40 हो गईं। वहीं कांग्रेस को 26.95% वोट व 34 सीटंे मिली। यह राज्य का एक मात्र चुनाव है, जब कांग्रेस को 35% से कम वोट मिला हो। लिंगायत नेता येद्दियुरप्पा को ही सीएम फेस बनाकर भाजपा 2008 में सत्ता में आई थी। पर भ्रष्टाचार का आरोप लगने पर हटाया तो अगले चुनाव में शिकस्त झेलनी पड़ी।

    मोदी को गर्व है कि वे अच्छा भाषण देते हैं, पर सिर्फ भाषण से ही पेट नहीं भरता: सोनिया

    सिद्दाधारमैया सरकार ने 22 लाख किसानों का कर्ज माफ किया। मोदी सरकार का चार साल से एकमात्र एजेंडा कांग्रेस के अच्छे कामों को खत्म करना रहा है। उन पर कांग्रेस मुक्त भारत का जुनून सवार है। उनको इस बात का घमंड है कि वह अच्छा भाषण देते हैं। अगर उनके भाषण से देश का पेट भर सकता है तो वो और भी भाषण दें। लेकिन केवल भाषण से तो पेट नहीं भर सकता। इसके लिए दाल-चावल चाहिए।

    राज्य में 30 से ज्यादा सीटों पर लिंगायत बनाम लिंगायत

    सिद्दारमैया कांग्रेस के सीएम उम्मीदवार

    कुरबा समुदाय से। 17 को टिकट। 7% आबादी।

    1. लिंगायत

    भाजपा 68

    कांग्रेस 49 जेडीएस 41

    2. वोक्कालिगा

    भाजपा 38

    कांग्रेस 46 जेडीएस 55

    3. कुरबा

    भाजपा 6

    कांग्रेस 17 जेडीएस 14

    4. ब्राह्मण

    भाजपा 9

    कांग्रेस 6

    जेडीएस 3

    5. एससी

    भाजपा 37

    कांग्रेस 35 जेडीएस 31

    6. एसटी

    भाजपा 17

    कांग्रेस 17

    जेडीएस 11

    7. मुस्लिम

    भाजपा 0

    कांग्रेस 17 जेडीएस 19

    8. अन्य

    भाजपा 49

    कांग्रेस 35 जेडीएस 47

    राज्य में आबादी

    ओबीसी 30%

    एससीएसटी 23%

    लिंगायत 17%

    वोकालिंगा 15%

    मुस्लिम 9%

    सवर्ण 6%

    बीएस येद्दियुरप्पा भाजपा के सीएम उम्मीदवार

    लिंगायत नेता। 68 प्रत्याशी इस समुदाय से।

    कर्नाटक के लोग जो कहते हैं, करके दिखाते हैं, भाजपा की तरह झूठ नहीं बोलते हैं: राहुल

    मैं पूछना चाहता हूं कि कि आप कैसा सीएम चाहते हैं, गरीबों का सीएम या भ्रष्टाचारी। कर्नाटक के लोग जो कहते हैं, वो करके दिखाते हैं, बीजेपी की तरह झूठ नहीं बोलते। जब कर्नाटक में हमारी सरकार आई, तो हमने हर घर में 7 किलो चावल पहुंचाया। पीएम मोदी की तरह 15 लाख रुपए देने का झूठ नहीं बोला है। जेडीएस का मतलब जनता दल सेक्युलर नहीं, बल्कि जनता दल संघ परिवार है।

    एचडी कुमारस्वामी जेडीएस के सीएम उम्मीदवार

    वोक्कालिगा समुदाय से। 55 प्रत्याशी इस समुदाय से

    वजह: राज्य में 17% लिंगायत का प्रभाव 120 से ज्यादा सीटों पर है

    राज्य में अब तक 20 सीएम हुए हैं, इनमें से 8 लिंगायत समुदाय से रहे

    टि्वटर वार

    आज मैडम माइनो अपना आखिरी दुर्ग बचाने आ रही हैं: बीजेपी कर्नाटक

    अपने अंतिम दुर्ग को बचाने के लिए एंटोनियो माइनो आज कर्नाटक आ रही है। मैडम माइनो, कर्नाटक को उससे सीखने की जरूरत नहीं, जो भारत के 10 साल बर्बाद करने के लिए जिम्मेदार हो। -भाजपा कर्नाटक का ट्वीट

    खुशी है कि अजय बिष्ट ने सीएम सिद्दारमैया से सुशासन के कुछ गुर सीखे हैं, इसीलिए यूपी में जब लोगों को उनकी जरूरत है तो वे उनके पास पहुंच गए। - 4 मई को कांग्रेस का ट्वीट

    भाजपा ने सोनिया के लिए इतालवी नाम माइनो और कांग्रेस ने आदित्यनाथ के लिए उनके संन्यास से पहले का नाम अजय बिष्ट का जिक्र किया।

  • लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी
    +5और स्लाइड देखें
  • लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी
    +5और स्लाइड देखें
  • लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी
    +5और स्लाइड देखें
  • लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी
    +5और स्लाइड देखें
  • लोगों के बीच जाने के बजाए कांग्रेसी हार के बहाने ढूंढ रहे, ईवीएम पर फोड़ेंगे ठीकरा: मोदी
    +5और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×