--Advertisement--

अनुपम खेर : ‘बनाए न बने, लगाए न लगे’

अभिनय कितना कठिन काम होता है इसका अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि अनुपम खेर ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’...

Danik Bhaskar | Apr 26, 2018, 06:10 AM IST
अभिनय कितना कठिन काम होता है इसका अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि अनुपम खेर ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ फिल्म में भूतपूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की भूमिका कर रहे हैं, जबकि उनकी व्यक्तिगत आस्था नरेन्द्र मोदी में है। कहते हैं कि मैथड स्कूल के अभिनेता भूमिका की त्वचा में प्रवेश करते हैं गोयाकि जो पात्र अभिनीत करते हैं, उसी की विचार प्रक्रिया को आत्मसात करते हैं। उस पात्र की विचार प्रक्रिया उनके जिस्म और मस्तिष्क की मिक्सी में घूमती रहती है। क्या इस भूमिका को अभिनीत करते हुए अनुपम खेर को अहसास होगा कि उनकी राजनीतिक आस्था गलत खूंटे पर टंगी है। अनुपम खेर ‘मैंने महात्मा गांधी को नहीं मारा’ भी अभिनीत कर चुके हैं परंतु उनके राजनीतिक विश्वास गांधीवाद के खिलाफ रहे हैं। उस फिल्म में उनकी सुपुत्री की भूमिका में उर्मिला मातोंडकर ने कमाल का अभिनय किया था। पिता-पुत्र की तुलना में पिता-पुत्री के रिश्ते पर कम फिल्में बनी हैं, क्योंकि हमारे समाज में पुत्र पिता के हाथ में खंजर और पुत्री उसके सिर पर लटकती तलवार मानी गई है। महिला के प्रति हमारे रवैये का एक हिस्सा यह भी है।

हाल ही अनुपम खेर ने अमेरिकन फिल्म ‘सिंह इन द रेन’ में अपना काम पूरा कर चुके हैं। इस तरह वे डॉलर अभिनेता बनते जा रहे हैं। अब 8 मई से अनुपम खेर ‘मिसेज विल्सन’ नामक फिल्म में अभिनय करने वाले हैं। यह प्रथम विश्वयुद्ध के दौर में एक जासूस और उनकी प|ी की कहानी है। वह जासूस भी कुछ समय के लिए भारत में गुप्त प्रवास कर चुका है और उसी भाग की शूटिंग की जाएगी। क्या अपने गुप्त प्रवास के लिए लोग भारत को ही चुनते हैं, क्योंकि इस देश में भीड़ में व्यक्ति गुमनाम जीवन जी सकता है।

दूसरे विश्वयुद्ध के समय माताहारी नामक महिला जासूस पर भी किताब लिखी जा चुकी है और फिल्म भी बन चुकी है। अगाथा क्रिस्टी जासूसी साहित्य लेखन की महारानी मानी गई हैं। एक दौर में बाबू देवकीनंदन खत्री ने भूतनाथ और चंद्रकांता में जासूस को अय्यार कहा गया था और वे लखलखा सूंघाकर बेहोश करते थे। आज के लखलखे को क्लोरोफार्म कह सकते हैं। इस विधा को पूरी तरह बदलकर रख दिया इएन फ्लेमिंग की जेम्स बॉन्ड शृंखला ने। जेम्स बॉन्ड अतिआधुनिक उपकरणों का प्रयोग करता है। प्रारंभिक जेम्स बॉन्ड फिल्मों में नायक रहे शॉन कॉनेरी जिन्होंने अपनी अभिनय कला के विस्तार के लिए जेम्स बॉन्ड फिल्मों में काम करना बंद कर दिया था। दूसरे विश्वयुद्ध के समाप्त होने के बाद दोनों खेमों के बीच शीतयुद्ध प्रारंभ हुआ। इसी शीतयुद्ध से प्रेरित पात्र है जेम्स बॉन्ड जो दुश्मन खेमे को हानि पहुंचाता है।

प्राय: कलाकार आंसू बहाने के दृश्य में शॉट लेने के पहले आंख में ग्लीसरीन डालते हैं। परदे पर दर्शक बहते हुए आंसू देखता है जो दरअसल ग्लीसरीन है। मीना कुमारी एकमात्र अदाकारा थीं, जिसने कभी ग्लीसरीन का उपयोग नहीं किया। निर्देशक शॉट लेता तो वे असली आंसू बहाने लगती थीं।

अनुपम खेर ने तो अपनी पहली ही फिल्म महेश भट्ट की ‘सारांश’ में एक उम्रदराज पात्र की भूमिका अभिनीत की थी। दूसरी फिल्म ‘डैडी’ में भी पिता की भूमिका अभिनीत की थी। कुछ वर्ष पूर्व अनुपम खेर ने मुंबई में अभिनय प्रशिक्षण केन्द्र खोला है। इस केन्द्र में तीन महीने का कोर्स है और तीन सप्ताह का भी। जिसके पास जितना धन हो, वह उसमें प्रवेश ले सकता है। आश्चर्य है कि इस गुरु द्रोणाचार्य की संस्था से प्रशिक्षित होकर अभी तक कोई सितारा नहीं बना। एक महान फिल्म चिंतक का कथन है कि अभिनय सीखा नहीं जा सकता परंतु सिखाया जा सकता है। ‘मकतबे अभिनय का ढंग निराला है, सबक जिसको याद हुआ, उसे छुट्‌टी न मिली’।

जयप्रकाश चौकसे

फिल्म समीक्षक

jpchoukse@dbcorp.in