Hindi News »Rajasthan »Rani» फिल्म ‘संजू’ में मनीषा कोइराला की दूसरी पारी

फिल्म ‘संजू’ में मनीषा कोइराला की दूसरी पारी

राजकुमार हीरानी की ‘संजू’ में मनीषा कोइराला नरगिस की भूमिका अभिनीत कर रही हैं और एक अन्य फिल्म में वे संजय दत्त की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 01, 2018, 06:15 AM IST

फिल्म ‘संजू’ में मनीषा कोइराला की दूसरी पारी
राजकुमार हीरानी की ‘संजू’ में मनीषा कोइराला नरगिस की भूमिका अभिनीत कर रही हैं और एक अन्य फिल्म में वे संजय दत्त की प|ी की भूमिका निभाने जा रही हैं। कभी राखी गुलजार ने अमिताभ बच्चन की प्रेमिका की भूमिका की तो ‘शक्ति’ में वे दिलीप कुमार की प|ी तथा अमिताभ बच्चन की मां की भूमिका कर चुकी हैं। इसी तरह संजीव कुमार ने जया बच्चन के प्रेमी तथा पति की भूमिकाएं अभिनीत कीं और गुलजार की फिल्म ‘परिचय’ में वे उनकी बेटी की भूमिका कर चुकी हैं। रमेश सिप्पी की ‘शोले’ में जया बच्चन संजीव कुमार की विधवा बहू की भूमिका में प्रस्तुत हुई थीं। अमिताभ बच्चन और उनके बीच प्रेम अंकुरित होता है परंतु कभी अभिव्यक्त नहीं होता। फिल्मकार ने क्लाइमैक्स में वीरू को मरवा दिया, क्योंकि वे संभवत: विधवा विवाह के विवाद से बचना चाहते थे।

‘शोले’ के एक दृश्य में जमींदार की विशाल कोठी में एक के बाद एक कक्ष में बत्ती बंद की जा रही हैं परंतु एक रोशन खिड़की में जया ऐसे खड़ी हैं मानो फ्रेम में चित्र लगा हो। दूर अमिताभ बच्चन माउथ ऑर्गन बजा रहे हैं। कैमरामैन और फिल्मकार ने मिलकर यह दृश्य महान पेंटिंग की तरह रचा है। दृश्य पीजी वुडहाउस की एक पंक्ति की याद ताजा करता है- ‘द विलेज वेंट टू स्लीप विंडो बाय विंडो।’ इस फिल्म के कैमरामैन भरूचा की मृत्यु उस समय हुई जब रमेश सिप्पी की ‘शान’ की शूटिंग शुरू ही हुई थी। उसके बाद रमेश सिप्पी कोई ‘शोले’ जैसी सफल फिल्म नहीं बना पाए। राज कपूर की फिल्म के कैमरामैन राधू करमाकर की मृत्यु भी राज कपूर की मृत्यु के कुछ समय बाद ही हो गई। मानो ऊपर भी राज कपूर फिल्म बनाने जा रहे हैं और उन्हें राधू करमाकर की आवश्यकता महसूस हुई। ज्ञातव्य है कि राधू करमाकर की आत्म कथा का नाम है ‘पेंटर विद लाइट।’ मनीषा कोइराला नेपाल की राजनीति में दखल रखने वाले श्रेष्ठि परिवार की सुपुत्री हैं। अपनी पहली फिल्म सुभाष घई की ‘सौदागर’ में उनसे किसी ने छेड़छाड़ की, जैसा कि नई लड़कियों के साथ प्राय: होता है तो अगले ही दिन नेपाल से कोई संदेश दिल्ली गया और महाराष्ट्र के एक मंत्री द्वारा बात दिलीप कुमार तक पहुंची तो उन्होंने शरारत करने वाले को इस कदर डाटा की उसके होश गुम हो गए। एेसी छेड़छाड़ केवल फिल्म उद्योग तक सीमित नहीं है।

ज्ञातव्य है कि मनीषा कोइराला को कैंसर रोग हुआ था और इलाज कराकर वे पूरी तरह सेहतमंद हो चुकी हैं। मौत का खौफ कम होते ही ज़िंदगी ज्यादा हसीन लगने लगती है। यह अजीब लगता है कि ‘सीता और गीता’ तथा ‘शोले’ जैसी फिल्म बनाने वाले रमेश सिप्पी की ‘शिमला मिर्च’ नामक फिल्म पूरी बन चुकी है परंतु कोई वितरक उसे लेने नहीं आया। उन्होंने दूसरा विवाह अपने सीरियल ‘बुनियाद’ की नायिका से किया है। उनकी पहली प|ी गीता पटेल थी, जो फिल्म सेंटर के मालिक की बेटी थी। रमेश सिप्पी और गीता की सुपुत्री से शशि कपूर के बेटे कुणाल ने विवाह किया था परंतु सुना है कि उनमें अलगाव हो चुका है। आजकल विवाह टूटने की बातें बहुत सामने आ रही हंै। क्या लोगों में धैर्य या आपसी समझदारी की कमी हो गई है? यह संभव है कि आज मृत रिश्तों को लोग ढोते नहीं हैं। गीता पटेल का एक सहपाठी मन ही मन उसे चाहता था परंतु उसने अभिव्यक्त नहीं किया। रमेश सिप्पी से तलाक के बाद उसने साहस जुटाया और उनका विवाह हो गया।

मनीषा कोइराला अभिनीत विधू विनोद चोपड़ा की फिल्म ‘1942 ए लव स्टोरी’ के लिए जावेद अख्तर ने गीत लिखा था, ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा, जैसे खिलता गुलाब, जैसे शायर का ख्वाब… जैसे मंदिर में हो एक जलता दिया..’ राहुलदेव बर्मन ने फिल्म में माधुर्य रचा था परंतु फिल्म प्रदर्शन के पूर्व ही उनका देहांत हो गया अन्यथा उनकी दूसरी पारी अभूतपूर्व होती। बहरहाल मनीषा कोइराला की वापसी का स्वागत है।

जयप्रकाश चौकसे

फिल्म समीक्षक

jpchoukse@dbcorp.in

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rani

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×